श्री काशी विश्‍वनाथ धाम की इन तस्वीरों को देख मिलेगा सुकून, जानें- कितना बदल गया बाबा का धाम

 

श्री काशी विश्‍वनाथ धाम कारिडोर का प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने लो‍कार्पण कर दिया।
पीएम नरेन्‍द्र मोदी का ड्रीम प्रोजेक्‍ट माना जा रहा श्री काशी विश्‍वनाथ धाम कारिडोर परियोजना लोकार्पण के बाद देश के शीर्ष धार्मिक स्‍थलों में शुमार हो गया है जो काफी दिव्‍य और भव्‍य भी है। आइये देखते हैं श्री काशी विश्‍वनाथ धाम की दिव्य तस्वीरें....

लखनऊ। द्वादश ज्‍योतिर्लिंग में से एक श्री काशी विश्‍वनाथ धाम कारिडोर की संकल्‍पना के बाद आज सोमवार को बनारस के सांसद और देश के प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने लो‍कार्पित कर देश की जनता को समर्पित कर दिया। पीएम नरेन्‍द्र मोदी का ड्रीम प्रोजेक्‍ट माना जा रहा कारिडोर परियोजना लोकार्पण के बाद देश के शीर्ष धार्मिक स्‍थलों में शुमार हो गया है, जो काफी दिव्‍य और भव्‍य भी है। आइये देखते हैं श्री काशी विश्‍वनाथ धाम की दिव्य तस्वीरें...

jagran

श्रीकाशी विश्वनाथ धाम के मंदिर शिखर से लेकर धरातल तक स्मार्ट लाइटिंग की सतरंगी रोशनी से नहा रहे हैं। बरबस ही हर किसी को वे अपनी तरफ खींच रही है। धाम में बाबा विश्वनाथ की आरती के समय घंटियों और डमरूओं की निनाद के साथ रोशनी का संयोजन किया गया है। देर शाम मंदिर पहुंच रहे श्रद्धालु भी धाम की अद्भुत सजावट देखकर मंत्रमुग्ध नजर आ रहे हैं।

jagran

श्रीकाशी विश्वनाथ धाम से अब सीधे मां गंगा का दर्शन किया जा सकता है। साथ ही मंदिर गर्भगृह में बाबा विश्वनाथ का पाद प्रक्षालन खुद मां गंगा करेंगी। इसके लिए एक पाइप लाइन बिछाई गई है।

jagran

इस परियोजना का उद्देश्य घाटों और मंदिर के बीच तीर्थयात्रियों व भक्तों की आवाजाही को सुविधापूर्ण बनाना है। अभी तक वे तंग और भीड़भाड़ वाली गलियों से होकर मंदिर तक पहुंचते थे। अब चारों दिशाओं में निर्मित चार प्रवेश द्वार से वे सीधे धाम में प्रवेश कर सकेंगे और उन्हें गलियों और तंग संकरे रास्तों से नहीं गुजरना होगा।

jagran

परियोजना का पहला चरण 339 करोड़ की लागत से बनाया गया है। पहला चरण लगभग 5.27 लाख वर्ग फीट के क्षेत्र में फैला हुआ है और इसमें 23 भवन शामिल हैं।

jagran

मंदिर चौक क्षेत्र अब इतना विशाल है कि यहां दो लाख श्रद्धालु एक साथ खड़े होकर दर्शन-पूजन कर सकेंगे। इसके चलते अब सावन के सोमवारों, महाशिवरात्रि के दौरान शिव भक्तों को दिक्कत नहीं होगी।

jagran

परियोजना की आधारशिला आठ मार्च 2019 को रखी गई थी। इस पर करीब 850 करोड़ की लागत आई। पीएम कार्यालय के अनुसार, लगभग 1,400 दुकानदारों, किरायेदारों और मकान मालिकों के मकान, दुकान खरीदकर उन्हें स्थानांतरित किया गया था। परियोजना के अंतर्गत काशी विश्वनाथ मंदिर के आसपास 400 से अधिक संपत्तियों की खरीद और अधिग्रहण किया गया।

jagran

मंदिर के आसपास के घरों में लगभग 60 प्राचीन मंदिर मिले। पुरातात्विक आकलन के अनुसार ये मंदिर 18-19वीं शताब्दी के बने हैैं। इनमें से शिखर वाले 27 मंदिरों को उनके मूलस्वरूप में बरकरार रखते हुए जीर्णोद्धार किया गया। साथ ही मिले विग्रहों, मूर्तियों की स्थापना के लिए परिसर में 27 मंदिर भी बनवाए गए हैैं।

jagran

औरंगजेब के फरमान के बाद 1669 में मुगल सेना ने विश्वेश्वर का मंदिर ध्वस्त कर दिया था। स्वयंभू ज्योतिर्लिंग को कोई क्षति न हो इसके लिए मंदिर के महंत शिवलिंग को लेकर ज्ञानवापी कुंड में कूद गए थे। मुगल सेना ने मंदिर के बाहर स्थापित विशाल नंदी की प्रतिमा को तोड़ने का बहुत प्रयास किया, लेकिन तोड़ न सके। ज्ञानवापी कूप और विशाल नंदी 352 साल बाद अब जाकर विश्वनाथ धाम परिसर में शामिल हुए ह

ैं।