देश में बढ़ रहे ओमिक्रोन वैरिएंट के मामले, थोड़ी देर में शुरू होगी पीएम मोदी की समीक्षा बैठक

 

कोरोना महामारी को लेकर समीक्षा बैठक करेंगे पीएम मोदी।
कोरोना वायरस के ओमिक्रोन वैरिएंट के बढ़ते मामलों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश में महामारी की स्थिति की समीक्षा के लिए थोड़ी देर में बैठक करेंगे। नया वैरिएंट के सामने आने के बाद प्रधानमंत्री दूसरी बार समीक्षा बैठक करेंगे।

नई दिल्ली, एएनआइ। कोरोना वायरस के ओमिक्रोन वैरिएंट के बढ़ते मामलों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश में महामारी की स्थिति की समीक्षा के लिए थोड़ी देर में बैठक करेंगे। नया वैरिएंट के सामने आने के बाद प्रधानमंत्री दूसरी बार समीक्षा बैठक करेंगे। इसके पहले उन्होंने 28 नवंबर को ऐसी बैठक की थी। स्वास्थ्य मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार बैठक में कोरोना प्रबंधन से जुड़े सभी अधिकारी शामिल होंगे। स्वास्थ्य मंत्रालय इस दौरान ओमिक्रोन के नए मरीजों,लक्षण और अत्यधिक संक्रामक होने के बारे में जानकारी देगा।साथ ही यह भी बताया जाएगा कि राज्यों के साथ मिलकर किस तरह से हालात से निपटने की योजना बनाई जा रही है। देश में अब तक कोरोना वायरस के ओमिक्रोन वैरिएंट के 250 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 65 मामलों की पुष्टि हुई है। इसके बाद दिल्ली में 64 मामलों मामले सामने आए हैं। इससे संक्रमित 104 मरीज ठीक हो चुके हैं। 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को ओमिक्रोन को लेकर सचेत किया। साथ ही कहा कि वर्तमान वैज्ञानिक प्रमाणों के आधार पर, डेल्टा वैरिएंट की तुलना में कम से कम तीन गुना तेजी से फैलता है। मंत्रालय ने आगे कहा कि स्थानीय और जिला स्तर पर प्रबंधन का निर्देश दिया। इस दौरान कहा गया कि कहा कि 'वार रूम', सक्रिय कर लें, सक्रिय कदम उठाएं और नाइट कफ्र्यू लगाने जैसे कदम उठाने पर भी विचार करें।

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को लिखे पत्र में ओमिक्रोन के बढ़ते प्रसार को रोकने के लिए सख्त रणनीतिक उपाय करने को कहा है। इसमें रात का कफ्र्यू लगाना, एक जगह ज्यादा लोगों के एकत्र होने से रोकना, शादी-विवाह और अंतिम संस्कार इत्यादि में शामिल होने वालों की संख्या सीमित करना शामिल है। आपताकालीन संचालन केंद्रों को भी सक्रिय करने की सलाह दी है। साथ ही जिला व स्थानीय स्तर पर निगरानी बढ़ाने और जांच में तेजी लाने को भी कहा है। निज क्षेत्रों में ज्यादा संक्रमित मिल रहे हों, वहां के नमूनों को तुरंत जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए इंसाकाग की प्रयोगशालाओं को भेजने को कहा गया है।