केलंग पर्यटकों से गुलजार, वादियों में घूमने का उठाया आनंद

 


केलंग में पर्यटकों ने वादियों में घूमने का आनंद उठाया। जागरण आर्काइव
जिला लाहुल-स्पीति का जिला मुख्यालय केलंग पर्यटकों से गुलजार हो गया है। लाहुल-स्पीति प्रशासन की ओर से पर्यटकों को जिला मुख्यालय तक आने की अनुमति देने के बाद अटल टनल के नार्थ पोर्टल जाने वाले कुछ एक पर्यटक केलंग तक जा पहुंचे।

मनाली, संवाददाता।  जिला लाहुल-स्पीति का जिला मुख्यालय केलंग पर्यटकों से गुलजार हो गया है। लाहुल-स्पीति प्रशासन की ओर से पर्यटकों को जिला मुख्यालय तक आने की अनुमति देने के बाद अटल टनल के नार्थ पोर्टल जाने वाले कुछ एक पर्यटक केलंग तक जा पहुंचे। हालांकि प्रशासन की ओर से निर्धारित समय पर्यटकों के लिए दिक्कत भरा भी रहा, लेकिन हालात व मौसम को देखते हुए इस समय का पालन करना पर्यटकों के लिए जरूरी भी है।मंगलवार को पर्यटकों ने अटल टनल के नार्थ पोर्टल सहित सिस्सू व केलंग की वादियों में घूमने का आनंद उठाया। मनाली के सोलंगनाला के फातरु सहित अंजनी महादेव और नया पर्यटन स्थल माहिली थाच भी सैलानियों का स्नो प्वाइंट बना हुआ है, लेकिन अधिकतर पर्यटकों की पहली पसंद अटल टनल ही बनी हुई है। मनाली से पर्यटक सोलंगनाला तक शाम पांच बजे तक घूमने आ सकते हैं, लेकिन लाहुल-स्पीति के जिला मुख्यालय केलंग में पर्यटकों को दोपहर 12 बजे से पहले पहुंचना जरूरी है। अटल टनल के नार्थ पोर्टल में भी पर्यटक दो बजे तक ही आ सकते हैं। केलंग व सिस्सू आए सभी पर्यटकों को चार बजे से पहले मनाली लौटना होगा।

बर्फ में गाड़ी चलाने वाले अनुभवी चालकों के साथ आएं पर्यटक : एसपी

एसपी लाहुल-स्पीति मानव वर्मा ने बताया कि पर्यटक केलंग तक पहुंचे। पर्यटकों की सुरक्षा को देखते हुए ही यह समय निर्धारित किया है। सैलानियों से आग्रह है कि निर्धारित समय का पालन करें और सुरक्षित लाहुल घाटी में घूमने का आनंद उठाएं। वे ऐसे ड्राइवरों के साथ यात्रा करें जिनके पास बर्फीले क्षेत्र में ड्राइव करने का अच्छा अनुभव हो। सोमवार को अटल टनल को आर पार करने वाले वाहनों की संख्या 4266 रही।

इन स्थानों पर संभल कर चलाएं वाहन

मनाली से केलंग, दारचा व उदयपुर तक जगह-जगह पानी व बर्फ जमी हुई है। पुलिस ने सिस्सू के शाशिन, खंगसर, थोरंग नाला, दालंग से गौंधला, दालंग गांव के समीप, तांदी जीरो प्वाइंट, ठोलंग, लोट, कीर्तिंग प्वाइंट एक, कीर्तिंग प्वाइंट दो, फूडा नाला, थिरोट, तोङ्क्षजग, शाकस नाला के नजदीक, स्टींगरी के समीप, कोलंग के समीप, जिस्पा जरनी के समीप, दारचा, रोपसंग नाला आदि इलाकों को फिसलन भरा बताया है। इन स्थानों पर वाहन ध्यानपूर्वक चलाएं।