मोक्षदा एकादशी पर हर-हर गंगे के स्वर से गुंजायमान हुए सोरों में हरिपदी गंगा के घाट

 


हरिपदी गंगा में मोक्षदा एकादशी पर स्नान करते भक्त।
 कासगंज के सोरों में सूर्य उदय से पहले ही श्रद्धालुओं ने किया गंगा में स्नान। भगवान वराह के दर्शन कर मांगी मनौती। गंगा स्नान को आए श्रद्धालुओं ने गंगा स्नान के बाद तीर्थ नगरी की पंचकोसीय परिक्रमा लगाई।

आगरा, । मोक्षदा एकादशी पर मंगवार को तीर्थ नगरी सोरों के हरिपदी गंगा के तट पर स्नानार्थियों की भीड़ उमड़ी। सूर्य उदय से पहले स्नान शुरू हुआ। श्रद्धालुओं ने गंगा में डुबकी लगाई। गंगा मईया की जय-जयकार से वातावरण गुंजायमान हुआ। घाट पर वराह भगवान की जय-जयकार के स्वर गूंजते रहे।

मोक्षदा एकादशी की पूर्व संध्या साेमवार से ही राजस्थान, मध्य प्रदेश, दिल्ली और गुजरात प्रांतों से स्नानार्थियों के गंगाघाटों पर पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया था। एकादशी की भोर श्रद्धालुओं ने गंगा में डुबकी लगाकर स्नान किया। पितरों को तर्पण कर मोक्ष की कामना की। गंगाघाट गंगा मईया एवं वराह भगवान की जय-जयकार से गूंजा। गंगा स्नान के बाद श्रद्धालुओं ने गंगा मईया की पूजा की, दुग्धाभिषेक किया। जरुरतमंदों को दान दिया। कुष्ठ रोगियों को भोजन कराया। सुबह से देर शाम तक गंगा स्नान का सिलसिला चलता रहा। घाटों पर सुरक्षा व्यवस्था की गई थी। मेला ग्राउंड के दूसरी ओर स्नानार्थियों के वाहनों के लिए पार्किंग बनाई गई थी। 

स्नानार्थियों ने बढ़ाई मेले की रौनक

मार्गशीर्ष मेले की रौनक मंगलवार को देखते ही बन रही थी। दूर दराज से आए स्नानार्थियों के लिए मेला आकर्षण का केंद्र था। स्नान के बाद श्रद्धालुओं ने मेले में पहुंचकर मेले की रौनक बढाई और लुत्फ उठाया। श्रद्धालुओं ने जमकर खरीदारी की। मेले में श्रद्धालुओं की भीड़ देखकर दुकानदारों के चेहरे खिले थे।

वराह के दर्शन कर लगाई पंचकोसीय परिक्रमा

गंगा स्नान को आए श्रद्धालुओं ने गंगा स्नान के बाद तीर्थ नगरी की पंचकोसीय परिक्रमा लगाई। परिक्रमा लगाने का सिलसिला तारों की छाव में ही शुरू हो गया था। 10 बजे तक परिक्रमा मार्ग तक हजारों श्रद्धालुओं की भीड़ थी, लंबी कतार थी। जगह-जगह श्रद्धालुओं के लिए समाजसेवियों द्वारा निश्शुल्क चाय, स्वल्प आहार और दवाओं के लिए शिविर लगाए गए थे। जिन पर श्रद्धालुओं को उपवास की खाद्य सामग्री भी वितरित की जा रही थी।

करुआ देव महाराज मंदिर पर लगा मेला

मोक्षदा एकादशी पर प्रतिवर्ष परिक्रमा मार्ग स्थित करुआ देव महाराज मंदिर पर मेला लगता था। इस वर्ष भी परंपरागत मेले का आयोजन हुआ। परिक्रमा लगा रहे श्रद्धालुओं ने मंदिर में पहुंचकर करुआ देव महाराज के दर्शन किए, पूजा अर्चना कर परिवार के कल्याण के लिए मनौती मांगी प्रसाद चढ़ाया। मंदिर पर श्रद्धालुओं की भीड़ रही।

गंगा महाआरती में उमड़े श्रद्धालु

मोक्षदा एकादशी की संध्या को हरिपदी गंगा के तट पर महाआरती हुई। शंखनाद और घंटों की आवाज गूंजते ही घाट पर कस्बाई और दूर-दराज क्षेत्रों से आए श्रद्धालुओं की भीड़ लग गई। श्रद्धालुओं ने महाआरती में भाग लिया। गंगा मईया की जय-जयकार के स्वर गुंजायमान हुए। संतोष मिश्रा, अंशुल भारद्वाज, संजय तिवारी, गुड्डू, हिमांशू, भारत निर्भय, अाकाश तिवारी, अंकुर एडवोकेट, अनुराग एडवोकेट, भगवान उपाध्याय, माधव पुजारी, मुकेश अग्रवाल, शुभम मिश्रा, विकोश अग्रवाल मौजूद रहे।

कछला, लहरा और कादरगंज घाट पर पहुंचे स्नानार्थी

मोक्षदा एकादशी पर हरीपदी गंगा में ही स्नान का विशेष महत्व है। हरिपदी गंगा पर जहां स्नानार्थियों का अतिरेक रहा वहीं हजारों श्रद्धालुओं ने सोरों, लहरा गंगाघाट, कछला गंगा नदी के घाट एवं पटियाली में कादरगंज घाट पर पहुंचकर गंगा में स्नान किया। गंगा मईया की पूजा अर्चना की।