रोहिणी कोर्ट में गैंगस्टर गोगी की हत्या के लिए तैयार किया गया था फूलप्रुफ प्लान, पढ़िये कितने दिन तक हत्यारों ने ली थी ट्रेनिंग

 

Rohini Court Shootout: टिल्लू ने अपने शूटरों के जरिये कराई थी जितेंद्र मान उर्फ गोगी की हत्या।
24 सितंबर की दोपहर 1.20 बजे कोर्ट रूम नंबर 207 में टिल्लू के दो शूटरों राहुल त्यागी और जयदीप ने गोगी पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर उसकी हत्या कर दी थी। वकील की पोशाक में आए थे। ये कोर्ट में किया गया हत्या का मामला था।

नई दिल्ली, संवाददाता। रोहिणी कोर्ट में कुख्यात गैंगस्टर जितेंद्र मान उर्फ गोगी की हत्या मामले में अपराध शाखा ने कुख्यात गैंगस्टर सुनील बालियान उर्फ टिल्लू समेत सात के खिलाफ रोहिणी कोर्ट में आरोपपत्र दायर किया है। 24 सितंबर की दोपहर 1.20 बजे कोर्ट रूम नंबर 207 में टिल्लू के दो शूटरों राहुल त्यागी और जयदीप ने गोगी पर ताबड़तोड़ फाय¨रग कर उसकी हत्या कर दी थी। दोनों वकील की पोशाक में आए थे। इस दौरान गोगी की सुरक्षा में तैनात तीसरी बटालियन के पुलिसकर्मियों ने दोनों शूटरों को कोर्ट रूम में ही मुठभेड़ में मार गिराया था।

आरोपपत्र में पुलिस ने कहा है कि गोगी के प्रतिद्वंदी मंडोली जेल में बंद टिल्लू ने ही अपने शूटरों और अन्य के साथ साजिश रच उसकी हत्या कराई थी। साजिश में कई अन्य भी शामिल हैं जिन्हें अभी गिरफ्तार किया जाना बाकी है। हत्या, आ‌र्म्स एक्ट समेत चार धाराओं के तहत दायर 111 पेज के आरोपपत्र में 40 गवाह बनाए गए हैं। उक्त धाराओं के तहत न्यूनतम उम्रकैद व अधिकतम फांसी की सजा का प्रविधान है।

इन्हें बनाया गया है आरोपित

विनय यादव (हैदरपुर)उमंग यादव (हैदरपुर)सुनील बालियान उर्फ टिल्लू (ताजपुर, अलीपुर)नवीन डबास उर्फ बाली (सुल्तानपुर डबास)आशीष कुमार (मेरठ)राहुल त्यागी उर्फ केके (मेरठ) जयदीप उर्फ जगदीप उर्फ जग्गू (सोनीपत)।

आरोपपत्र के खास बिंदु

- विनय और उमंग दोनों चचेरे भाई हैं

- राहुल के खिलाफ हत्या और हत्या के प्रयास के सात मामले हैं दर्ज

- हत्या और हत्या के प्रयास के तीन मामलों में आरोपित जयदीप ने अपनी बाजू पर टिल्लू नाम का टैटू गुदवा रखा था

- गोगी की हत्या के लिए टिल्लू ने दोनों शूटरों को एक महीने तक ट्रेनिंग दिलवाई थी

- प्रोफेशनल व्यवहार की ट्रेनिंग वकील उमंग ने अपने हैदरपुर स्थित घर में दी थी। दोनों के घर जाने के साक्ष्य सीसीटीवी फुटेज से मिले

- उमंग यादव को उसके घर से ही गिरफ्तार किया गया था। डेढ़ साल पहले रोहिणी कोर्ट में उसकी मुलाकात उमेश काला नाम के बदमाश से हुई थी

- उमेश जेल से वाट्सएप काल के जरिये उससे बात करता था। जेल से ही उमेश ने उमंग की बात टिल्लू से कराई थी

- दोनों शूटर 13 सितंबर को पानीपत कोर्ट में गोगी की पेशी के दौरान भी गए थे

- 23 सितंबर को मुरथल में उमंग और जयदीप ने बदमाश राकेश ताजपुरिया से हथियार लिए थे।

- मंडोली जेल में टिल्लू के साथ बंद नीरज बवाना के करीबी नवीन बाली ने पंजाब की जेल में बंद कौशल चौधरी के जरिये हथियार की व्यवस्था कराई थी

- गोगी की हत्या के लिए नवीन ने नेपाली मूल के शूटर का इंतजाम किया था जो घटना वाले दिन कोर्ट में मौजूद था

- वारदात में 9 मोबाइल नंबरों का इस्तेमाल हुआ था। एक नंबर विदेश का था। शूटरों और टिल्लू ने वाट्सएप या सिग्नल एप के जरिये ही बात की थी। वारदात के बाद टिल्लू ने अपना मोबाइल फोन तोड़कर फेंक दिया था।