सीडीएस-1/2022: तैयारी के इन छह उपायों को अपनाएं, परीक्षा में जरूर मिलेगी सफलता

 

सीडीएस-1/2022: स्मार्ट तरीके से की गयी तैयारी ही आपको परीक्षा में सफलता दिला सकती है।

सीडीएस-1/2022 यूपीएससी (संघ लोक सेवा आयोग) ने आगामी कंबाइंड डिफेंस सर्विसेज एग्‍जाम(सीडीएस-1)-2022 की तिथि की घोषणा कर दी है। 10 अप्रैल 2022 को निर्धारित इस परीक्षा की तैयारी को लेकर उम्‍मीदवारों को अभी से ही सतर्क हो जाने की जरूरत है।

नई दिल्ली । यूपीएससी (संघ लोक सेवा आयोग) ने आगामी कंबाइंड डिफेंस सर्विसेज एग्‍जाम (सीडीएस-1)-2022 की तिथि की घोषणा कर दी है। 10 अप्रैल, 2022 को निर्धारित इस परीक्षा की तैयारी को लेकर उम्‍मीदवारों को अभी से ही सतर्क हो जाने की जरूरत है। हर वर्ष हजारों की संख्‍या में भारतीय सेना में शामिल होने के इच्छुक उम्मीदवार इस परीक्षा में शामिल होते हैं। ऐसे में स्पष्ट है कि स्मार्ट तरीके से की गयी तैयारी ही आपको परीक्षा में सफलता दिला सकती है। आइये जानें, इसमें अच्‍छे अंक लाने का क्या हो उपयुक्त तरीका…

स्‍नातक के बाद सशस्‍त्र सेनाओं (वायुसेना, थलसेना और नौसेना) में अफसर पदों पर भर्ती के लिए होने वाली सीडीएस परीक्षा में इंग्लिश (100 अंक), जनरल नालेज (100 अंक) तथा एलिमेंट्री मैथ्‍स (100 अंक) के रूप में तीन पेपर होते हैं, जिन्हें प्रत्येक उम्मीदवार को पास करना आवश्यक है।

मैथ्‍स आफिसर्स ट्रेनिंग एकेडमी (ओटीए) के उम्मीदवारों के पाठ्यक्रम में शामिल नहीं है, इसलिए उन्हें केवल इंग्लिश और जनरल नालेज के ही पेपर देने होते हैं। पिछले वर्ष के उम्मीदवारों से प्राप्‍त फीडबैक के बाद, जिन्होंने पहले प्रयास में सीडीएस -1 परीक्षा उत्तीर्ण की, कुछ महत्वपूर्ण युक्तियों की एक सूची तैयार की गई है, जो एक मार्गदर्शक के रूप में आपके लिए भी काफी उपयोगी हो सकती है। इसके अनुसार आप भी अपनी आगे की तैयारी कर सकते हैं।

समाचार पत्र पढ़ने की आदत विकसित करें

 जनरल नालेज (सामान्‍य ज्ञान) के पेपर में अर्थशास्त्र, राजनीति, करेंट अफेयर्स, विश्‍व जीके, विज्ञान, सशस्त्र बलों और कई अन्य क्षेत्रों से संबंधित प्रश्‍न आते हैं। जीके के लिए एक अच्छी किताब खरीदने के अलावा, रोजाना कोई प्रमुख दैनिक समाचार पत्र पढ़ने से आपको पेपर में अच्छे अंक प्राप्‍त करने में मदद मिल सकती है। पढ़ने से आपको अपनी शब्दावली में सुधार करने में भी मदद मिलेगी, जिसका उपयोग इंग्लिश के पेपर में भी किया जा सकता है।

पिछले वर्षों के प्रश्‍नपत्र हल करें: एक बार जब आप निर्धारित पाठ्यक्रम को पूरा कर लें, तो पिछले वर्षों के प्रश्‍नपत्रों को हल करना शुरू कर दें। यह आपको क्‍वेश्‍चन पैटर्न से बेहतर तरीके से परिचित कराएगा और इससे आपको राष्ट्रीय स्तर की इस प्रतियोगी परीक्षा में पूछे जाने वाले प्रश्‍नों के प्रकृति का अंदाजा हो जाएगा। लेकिन यह ध्‍यान रखें कि पिछले वर्ष के प्रश्‍नपत्रों को हल करने का प्रयास करते समय परीक्षा के लिए निर्धारित समय सीमा का खयाल रखें। सीडीएस परीक्षा में प्रत्येक प्रश्‍नपत्र की समय सीमा 2 घंटे है, इसलिए पूरे पेपर को निर्धारित समय सीमा के भीतर पूरा करने का प्रयास करें।

केवल कोचिंग संस्थानों की अध्ययन सामग्री पर निर्भर न रहें: यदि आपने सीडीएस के लिए किसी कोचिंग संस्थान में दाखिला लिया है, तो आपको एक व्यापक अध्ययन सामग्री अवश्य प्राप्‍त हुई होगी। लेकिन ऐसे में आपको यही सलाह है कि एक सीडीएस उम्मीदवार के तौर पर आप अन्य पुस्तकों से भी अपनी तैयारी करते रहें। उदाहरण के लिए एनसीईआरटी-फंडामेंटल आफ फिजिकल ज्‍योग्राफी जैसी पुस्‍तकों के अध्‍ययन से सामान्य ज्ञान के पेपर में अच्छे अंक प्राप्‍त करने में काफी मदद मिल सकती है।

माक टेस्ट दें:

वैसे तो अधिकतर कोचिंग सेंटर्स में छात्रों की तैयारी के स्तर का मूल्यांकन करने के लिए माक टेस्ट कराया जाता है, फिर भी आप अगर कोचिंग ले रहे हैं या सेल्‍फ स्‍टडी कर रहे हैं, इन दोनों ही स्थितियों में अन्य संस्थानों के आनलाइन माक टेस्‍ट को ट्राई करते रहें। यूट्यूब पर भी आपको ऐसे बहुत से आनलाइन माक टेस्‍ट मिल जाएंगे।

बार-बार रिवीजन करें: सीडीएस परीक्षा की तैयारी के दौरान उम्‍मीदवार अक्‍सर कई गलतियां करते हैं। इनमें से एक यह है कि वे उन विषयों को रिवाइज नहीं करते हैं जिन्हें उन्होंने पहले पूरा कर लिया है। इसलिए सुझाव यही है कि पहले पूर्ण किए गए विषयों को पढ़ने के लिए प्रतिदिन कम से कम एक घंटा समय निकालने की जरूर कोशिश करें, ताकि पहले से पढ़े गए विषयों की पकड़ को न भूलें।

समय प्रबंधन पर पकड़ बनाएं: ऊपर बताए गए सुझावों के अलावा इस राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगी परीक्षा में समय प्रबंधन की भी बहुत बड़ी भूमिका है। इसलिए इसे भी उचित महत्व दें। इस पर अच्छी पकड़ होने से उम्मीदवार को दूसरों से प्रतिस्पर्धा में बढ़त मिल सकती है। समय प्रबंधन उम्मीदवारों को तैयारी और समय पर पेपर पूरा करने में भी मदद करेगा।