टीकाकरण के लिए 15-18 साल के किशोरों को कोविन पंजीकरण खुलने से माता-पिता ने ली राहत की सांस

 

15 से 18 वर्ष की आयु के बच्चों और किशोरों के लिए कोरोना टीकाकरण ( आइएएनएस)

देश में ओमिक्रोन वैरिएंट का संक्रमण बहुत तेजी से फैल रहा है। कोविन पोर्टल द्वारा शनिवार से 15 से 18 वर्ष की आयु के बच्चों और किशोरों के लिए कोरोना टीकाकरण के लिए अपना पंजीकरण स्लाट खोलने पर माता-पिता राहत की सांस ले रहे हैं।

नर्इ दिल्ली, एएनआइ। देश में ओमिक्रोन वैरिएंट का संक्रमण बहुत तेजी से फैल रहा है। कोविन पोर्टल द्वारा शनिवार से 15 से 18 वर्ष की आयु के बच्चों और किशोरों के लिए कोविड टीकाकरण के लिए अपना पंजीकरण स्लाट खोलने पर माता-पिता राहत की सांस ले रहे हैं। जिन बच्चों का जन्म वर्ष 2007 या उससे पहले है वे कोविन पर अपना पंजीकरण कराने के पात्र हैं टीकाकरण स्लाट बुक करने के लिए लाभार्थी या तो स्वपंजीकरण कर सकते हैं या कोविन पर मौजूदा खाते का उपयोग कर सकते हैं।

बच्चों के संक्रमित होने का डर

इसके लिए इस विशिष्ट आयु वर्ग के कुछ किशोरों और उनके माता-पिता से बात की। उन सभी ने संतोष व्यक्त किया और फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि यह आवश्यक है कि नए वैरिएंट ओमिक्रोन तेजी से बड़ी आबादी को संक्रमित कर रहा है।

विक्रांत भागी की बेटी 12 वीं कक्षा में पढ़ती है, ने कहा कि यह मेरे बच्चे की सुरक्षा है जो सबसे महत्वपूर्ण है। हम 18 साल से कम उम्र के बच्चों के टीकाकरण का इंतजार कर रहे हैं। वे घर पर पढ़ रहे हैं और पूरी तरह से एक अलग तरह के तनाव का सामना कर रहे हैं। इसके अलावा हम उन्हें संक्रमित होने के डर से बाहर भेजने से डरते हैं, इसलिए हम पहले ही दिन कोविन पर पंजीकरण कर रहे हैं।

बच्चे बन सकते हैं नए वैरिएंट का शिकार

एक अन्य माता-पिता विजयंत कौर ने कहा कि एक सुरक्षात्मक बबल के लिए सभी का टीकाकरण आवश्यक है। हमें टीका लगाया गया है, लेकिन यह अपने आप में पर्याप्त नहीं है क्योंकि एंटीबाडी भी खत्म हो सकती है। इस परिदृश्य में मेरी बेटी जो 17 साल की है और कभी कोविड का शिकार नहीं हुई थी, उसका शिकार बन सकती है। इस आयु वर्ग का टीकाकरण महत्वपूर्ण है। वास्तव में मैं चाहता हूं कि सरकार जल्द ही 15 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के लिए इसी तरह के उपाय करेगी।

सुरक्षा के लिए टीकाकरण जरूरी

कोविन पर पंजीकृत 18 वर्षीय माहिका भागी ने बताया कि मेरे माता-पिता और मेरी दादी ने बहुत पहले वैक्सीन लगाया था। मुझे पता है कि टीके हमारी रक्षा के लिए हैं, वे सुरक्षित हैं। हम में एंटीबाडी का निर्माण करते हैं। मैं स्कूल नहीं जा रही हूं लेकिन मैं कई अन्य चीजों के लिए अपने घर से बाहर जाती हूं। मुझे पता है कि जब तक मुझे टीका नहीं लगाया जाता, मुझे कोरोना होने का जोखिम है।