15 से 18 वर्ष तक के किशोरों को सोमवार से लगेगा टीका, मांडविया बोले- बच्चे सुरक्षित हैं तो देश का भविष्य सुरक्षित

 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने लोगों से अपने बच्चों के टीकाकरण के लिए रजिस्ट्रेशन कराने की अपील की है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने शनिवार को लोगों से अपने बच्चों के टीकाकरण के लिए रजिस्ट्रेशन कराने की अपील करते हुए कहा कि बच्चे सुरक्षित हैं तभी देश का भविष्य भी सुरक्षित है। पढ़ें स्वास्थ्य मंत्री का पूरा बयान...

नई दिल्ली, एएनआइ। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने लोगों से अपने बच्चों के टीकाकरण के लिए रजिस्ट्रेशन कराने की अपील की है। शनिवार को उन्होंने कहा कि बच्चे सुरक्षित हैं तभी देश का भविष्य भी सुरक्षित है। 15 से 18 वर्ष आयुवर्ग के किशोरों को सोमवार से टीका लगाया जाएगा जिसके लिए शनिवार से रजिस्ट्रेशन शुरू हो गया है। टीकाकरण के लिए पात्र किशोरों को कोविन पोर्टल पर ही रजिस्ट्रेशन कराना होगा।

बच्चे सुरक्षित तो भविष्य भी सुरक्षित

मांडविया ने ट्वीट किया, 'यदि बच्चे सुरक्षित हैं, तो देश का भविष्य भी सुरक्षित है। नव वर्ष के मौके पर 15 से 18 वर्ष आयुवर्ग के बच्चों के टीकाकरण के लिए कोविन पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन शुरू हो गया है। मेरा सभी लोगों से आग्रह है कि वे अपने परिवार के पात्र बच्चों के टीकाकरण के लिए रजिस्ट्रेशन कराएं।'

10 जनवरी से वैक्सीन की तीसरी डोज

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 25 नवंबर को एलान किया था कि 15-18 वर्ष के बच्चों का टीकाकरण तीन जनवरी से शुरू होगा, जबकि पहले से गंभीर रोगों से ग्रस्त जोखिम वाले लोगों को 10 जनवरी से वैक्सीन की तीसरी डोज लगाई जाएगी। बच्चों को सिर्फ कोवैक्सीन की डोज लगाई जाएगी।

तीन जनवरी से टीकाकरण शुरू

समाचार एजेंसी एएनआइ के मुताबिक बिना रजिस्ट्रेशन के भी किशोर तीन जनवरी से टीकाकरण शुरू होने पर सीधे टीका केंद्र जानकर वैक्सीन लगवा सकते हैं। 2007 या उससे पहले पैदा हुए किशोर इस वर्ग में टीका लगवाने के पात्र होंगे। टीका लेने के बाद किशोरों को टीका केंद्र पर आधे घंटा रुकना होगा, जहां उनके स्वास्थ्य पर नजर रखी जाएगी, ताकि कोई प्रतिकूल प्रभाव होने पर उसका तुरंत उपचार किया जा सके। 

भारत ने अफगानिस्तान को भेजी वैक्‍सीन

इस बीच भारत सरकार ने मानवीय मदद के तहत शनिवार को अफगानिस्तान को कोरोना रोधी टीके कोवैक्सीन की पांच लाख खुराक की आपूर्ति की। विदेश मंत्रालय ने यह जानकारी देते हुए कहा कि मानवीय मदद की दूसरी खेप काबुल स्थित इंदिरा गांधी अस्पताल को सौंपी गई। मंत्रालय ने अपने आधिकारिक बयान में कहा कि अतिरिक्त पांच लाख खुराक भी आगामी हफ्तों में अफगानिस्तान को सौंप दी जाएगी। भारत अफगानिस्तान के लोगों की सहायता के लिए प्रतिबद्ध है।