दिल्ली के अति सुरक्षित इलाके में स्थित कारपोरेट मामलों के महानिदेशक के कार्यालय से 17 स्पिल्ट एसी हो गए चोरी, वारदात सीसीटीवी कैमरे में कैद

 

सुरक्षा व्यवस्था को धता बताकर चोर अति सुरक्षित इलाके में स्थित सरकारी भवनों को भी बेखौफ होकर निशाना बनाया।

सुरक्षा व्यवस्था को धता बताकर चोर अति सुरक्षित इलाके में स्थित सरकारी भवनों को भी बेखौफ होकर निशाना बना रहे हैं। ताजा मामला शाहजहां रोड स्थित कोटा हाउस स्थित कारपोरेट मामलों के महानिदेशक के कार्यालय से चोरी का सामने आया है।

नई दिल्ली,  संवाददाता। कोरोना की तीसरी लहर में सरकार की ओर से लगाए गए रात्रि कर्फ्यू में आम लोगों की सड़कों पर मौजूदगी कम हो जाती है और पुलिस का पहरा शुरू हो जाता है। इसके बावजूद चोर इस अवसर को भुनाने में कसर नहीं छोड़ रहे हैं। सुरक्षा व्यवस्था को धता बताकर चोर अति सुरक्षित इलाके में स्थित सरकारी भवनों को भी बेखौफ होकर निशाना बना रहे हैं। ताजा मामला शाहजहां रोड स्थित कोटा हाउस स्थित कारपोरेट मामलों के महानिदेशक के कार्यालय से चोरी का सामने आया है। चोर वहां से 17 स्पि्लट एसी चोरी कर ले गए। वारदात की पूरी तस्वीरें सीसीटीवी कैमरों में कैद हो गई है।

बताया जा रहा है कि चोरों ने स्पि्लट एसी के कांप्रेसर को चोरी नहीं किया है। सभी चोर एक-एक कर एसी को आटो में रखकर उसके बाद फरार हो गए। मामले की शिकायत कारपोरेट मामलों के महानिदेशक (ओएसडी) मनमोहन जुनेजा की तरफ से की गई है। फिलहाल, पुलिस मामले की जांच कर रही है। पुलिस को दी गई शिकायत में बताया गया है कि 11 और 12 दिसंबर की रात चोरों ने वारदात को अंजाम दिया। कार्यालय में मरम्मत का काम चल रहा था। ऐसे में सभी एसी को निकाल कर कार्यालय परिसर में रखा गया था। देर रात चोर एसी को उठा कर आटो में रखकर फरार हो गए।

बता दें कि यह स्थिति तब है जब दिल्ली में नाइट कफ्र्यू लगा हुआ है। पुलिस सड़कों पर मुस्तैद होने का दावा करती है। इसके बावजूद रात में चोर आटो से आते हैं और वीवीआइपी इलाके में स्थित सरकारी भवन से बड़े ही आसानी से चोरी की वारदात को अंजाम देकर फरार हो जाते हैं। आटो का नहीं दिखा नंबर :वारदात की सीसीटीवी कैमरों की फुटेज में दिख रहा है कि चोर एसी को आटो में रख रहे हैं, लेकिन आटो का नंबर कैमरों में स्पष्ट नहीं दिख रहा है। अधिकारियों की ओर से कई सीसीटीवी कैमरों के फुटेज की जांच की गई है।