पुलिस की सख्ती से खुला करीब 18 लाख की लूट का केस, कैशियर ने रची थी साजिश

 

पुलिस ने पांच आरोपितों को गिरफ्तार किया है।

पूरी वारदात की साजिश पीड़ित कारोबारी के कैशियर ने रची थी। पुलिस ने आरोपितों के कब्जे से लूट के 16.80 लाख रुपये भी बरामद कर लिए हैं। गिरफ्तार आरोपितों में सुल्तानपुरी निवासी दीपक सत्य नारायण किशोर बुध विहार निवासी संजय और बलजीत नगर निवासी राहुल हैं।

नई दिल्ली, संवाददाता। बाड़ा हिंदूराव इलाके में 17.71 लाख रुपये की लूट को सुलझाते हुए उत्तरी जिला पुलिस ने पांच आरोपितों को गिरफ्तार किया है। इस पूरी वारदात की साजिश पीड़ित कारोबारी के कैशियर ने रची थी। पुलिस ने आरोपितों के कब्जे से लूट के 16.80 लाख रुपये भी बरामद कर लिए हैं।

कैशियर के रूप में कर चुका है काम

गिरफ्तार आरोपितों में सुल्तानपुरी निवासी दीपक, सत्य नारायण, किशोर, बुध विहार निवासी संजय और बलजीत नगर निवासी राहुल हैं। दीपक करोलबाग में मोबाइल कारोबारी प्रताप सिंह की फर्म में कैशियर का काम दो साल से कर रहा था। 

कंपनी का पैसा चांदनी चौक लेने गया उस वक्त हुई लूट

वह 10 दिसंबर को फर्म का पैसा चांदनी चौक लेने गया था। वहां से रुपये लेकर शाम को अपने दोस्त राहुल के साथ आटो से करोलबाग के लिए रवाना हुआ, लेकिन बाड़ा हिंदूराव इलाके में स्कूटी सवार युवकों ने इनसे रुपये और फोन लूट लिए।

पुलिस दर्ज कर जांच में जुटी

उपायुक्त सागर सिंह कलसी ने बताया कि रात करीब नौ बजे दीपक एवं प्रताप थाने पहुंचे और घटना की जानकारी दी। एफआइआर दर्ज कर एसीपी सदर बाजार प्रज्ञा आनंद की देखरेख में एसआइ गंगा पाल एवं स्पेशल स्टाफ प्रभारी एसआइ राकेश देसवाल की टीम गठित की गई।

सख्ती से पूछताछ में उगला सारा राज

पुलिस ने वारदात के दौरान मौजूद दीपक, राहुल और आटो चालक किशन से पूछताछ की। फिर तीनों से एसीपी प्रज्ञा आनंद ने अलग अलग पूछताछ की तो कहानी में बदलाव आया। सख्ती से पूछताछ पर पहले दीपक ने सारा राज उगल दिया। उसने बताया कि राहुल, किशन, सत्यनारायण और संजय को गिरफ्तार कर लिया गया।