यूपी विधानसभा चुनाव 2022: जानिए गौतमबुद्द नगर जिले की तीनों सीटों पर किस जाति के कितने हैं वोटर, कौन पड़ेगा भारी

 

जाति के आंकड़ों पर टिकट व जीत की दावेदारी

 ज्यादातर मामलों में देखा जाता है कि क्षेत्र में जिस जाति का वोट बैंक अधिक होता है उसी जाति के नेता को पार्टी के द्वारा टिकट दिया जाता है। नोएडा में मतदाताओं की संख्या 690231 दादरी में 586889 व जेवर में 346425 है।

ग्रेटर नोएडा । नेता जाति से ऊपर उठकर काम करने की बात भले ही करते हों लेकिन सच्चाई कुछ और ही होती है। क्योंकि चुनाव में जातिगत आंकड़े जीत में बहुत बड़ा रोल अदा करते हैं। टिकट की दावेदारी में लगे लोगों ने जातिगत आंकड़े एकत्र करना शुरू कर दिया है। जाति को आधार बनाकर टिकट मांगने के साथ ही जीत की दावेदारी भी की जा रही है। जाति का वास्तविक आंकड़ा न होने के कारण सभी अपने-अपने हिसाब से आंकड़े तैयार कर रहे हैं।

ज्यादातर मामलों में देखा जाता है कि क्षेत्र में जिस जाति का वोट बैंक अधिक होता है उसी जाति के नेता को पार्टी के द्वारा टिकट दिया जाता है। जिले में तीन विधानसभा क्षेत्र नोएडा, दादरी व जेवर हैं। नोएडा में मतदाताओं की संख्या 690231, दादरी में 586889 व जेवर में 346425 है। जिले में कुल मतदाताओं की संख्या 1623545 है। नोएडा में ब्राह्मण मतदाताओं की संख्या सर्वाधिक डेढ़ लाख के करीब है। दूसरे नंबर पर वैश्य लगभग एक लाख बीस हजार हैं।

jagran

दादरी में गुर्जर मतदाताओं की संख्या सर्वाधिक लगभग दो लाख है। दूसरे नंबर पर ब्राह्मण व एससी वर्ग के मतदाता लगभग अस्सी-अस्सी हजार हैं। जेवर में गुर्जर व ठाकुर मतदाताओं की संख्या समान लगभग 70-70 हजार है। एससी मतदाता लगभग अस्सी हजार हैं। क्षेत्र में अपनी-अपनी जाति के आंकड़ों को आधार बनाकर नेताओं के द्वारा टिकट मांगा जा रहा है।कुछ स्थानों पर नेताओं के द्वारा अपने-अपने हिसाब से जाति का आंकड़ा प्रस्तुत किया जा रहा है। साथ ही अपने लोगों के द्वारा यह संदेश देने का भी प्रयास किया जा रहा है यदि पार्टी ने उनकी जाति के नेता को टिकट नहीं दिया तो विरोध हो सकता है। एक दिन पूर्व ही अखिल भारतीय गुर्जर महासभा ने प्रेसवार्ता कर गुर्जर समाज के नेताओं को अधिक टिकट देने की मांग की है। वहीं दूसरी तरफ मतदाताओं की संख्या के आधार पर वैश्य समाज भी टिकट मांग रहा है। जाति के आंकडों को ध्यान में रखते हुए पार्टियां भी प्रत्याशी व जीत का गणित लगाने में जुटी हैं।