उत्तराखण्ड चुनाव 2022 : ग्राउंड जीरो से मिले फीडबैक ने बढ़ाई भाजपा की माथापच्ची

 

26 दिसम्बर को गोपेश्वर से जनपद मुख्यालय में पहुंची भाजपा की विजय संकल्प यात्रा। जागरण आर्काइव

 विजय संकल्प यात्रा के माध्यम से राज्य के सभी 70 विधानसभा क्षेत्रों से मिले फीडबैक ने भाजपा की माथापच्ची बढ़ा दी है। इस दौरान पार्टी ने विधायकों की परफार्मेंस और टिकट के दावेदारों की जमीनी स्थिति का आकलन भी किया।

 देहरादून। विजय संकल्प यात्रा के माध्यम से राज्य के सभी 70 विधानसभा क्षेत्रों से मिले फीडबैक ने भाजपा की माथापच्ची बढ़ा दी है। इस दौरान पार्टी ने विधायकों की परफार्मेंस और टिकट के दावेदारों की जमीनी स्थिति का आकलन भी किया। कुछेक विधानसभा क्षेत्रों में विधायकों की कम सक्रियता, संगठन और जनप्रतिनिधि के मध्य तालमेल का अभाव जैसी बातें सामने आईं। ग्राउंड जीरो से मिले इस फीडबैक को लेकर भाजपा नेतृत्व ने मंथन शुरू कर दिया है।

भाजपा ने विधानसभा चुनाव की घोषणा से पहले राज्य के प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में विजय संकल्प यात्रा के माध्यम से दस्तक दी। 18 दिसंबर से छह जनवरी तक चली इस यात्रा के दौरान छोटी-बड़ी सभाएं, रोड शो, स्वागत कार्यक्रम जैसे आयोजनों से जनता की नब्ज टटोलने का प्रयास हुआ तो पाटी के विधायकों व टिकट के दावेदारों के बारे में फीडबैक भी लिया गया।

पार्टी सूत्रों के अनुसार पांच साल के कार्यकाल में भाजपा सरकार ने हर क्षेत्र, हर वर्ग के लिए काम किया, बावजूद इसके हर व्यक्ति को संतुष्ट करना मुश्किल है। ऐसे में माना जा रहा था कि सरकार की एंटी इनकंबेंसी नजर आ सकती है, लेकिन विजय संकल्प यात्रा में जिस तरह से लोग उमड़े, उससे ऐसा कहीं नजर नहीं आया। यह राहत की बात है।

सूत्रों ने बताया कि जनता के बीच से ये बात जरूर आई कि कुछ विधानसभा क्षेत्रों में विधायकों की सक्रियता काफी कम रही। यद्यपि, इसके पीछे पिछले दो साल से कोराना संकट को भी वजह माना जा रहा है। कुछेक विधानसभा क्षेत्रों में विधायकों के अपने चहेतों को महत्व दिए जाने की बात सामने आई। ये भी फीडबैक मिला कि कुछेक क्षेत्रों में पार्टी संगठन और जनप्रतिनिधियों के बीच तालमेल न होने के कारण कुछ दिक्कतें आई हैं।

इसके अलावा विधानसभा क्षेत्रों में टिकट के दावेदारों की लंबी कतार दिखी। इनके दमखम, क्षेत्र में जनता के बीच पकड़, छवि जैसे बिंदुओं को लेकर भी जानकारी ली गई। सूत्रों ने बताया कि पार्टी नेतृत्व ने इन सभी बातों का संज्ञान लिया है। जब टिकट के लिए दावेदारों का पैनल बनेगा तो इन सभी फैक्टर का ध्यान भी रखा जाएगा।

सुरेश जोशी (प्रवक्ता प्रदेश भाजपा) का कहना है कि विजय संकल्प यात्रा से भाजपा पूरी तरह संतुष्ट है। इसके आशानुरूप परिणाम आए हैं। कड़ाके की सर्दी के बावजूद लोग देर रात तक यात्रा के स्वागत को डटे रहे। डबल इंजन की सरकार के बूते विकास की जो बयार बह रही है, उससे जनता संतुष्ट है। जहां तक विधायकों व टिकट के दावेदारों के संबंध में फीडबैक की बात है तो पार्टी में इस सिलसिले में मंथन चल रहा है।