पिछले 24 घंटे में कोरोना के 27553 नए मामले, देश में ओमिक्रोन वैरिएंट के अब तक 1525 केस

 

देश में ओमिक्रोन ने अब रफ्तार पकड़ ली है (फाइल फोटो)

स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के मुताबिक रविवार को देश में ओमिक्रोन वैरिएंट के मामलों की संख्या बढ़कर 1525 हो गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि अभी तक 23 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में ओमिक्रोन के नए मामलों को दर्ज किया गया है।

नई दिल्ली, एजेंसी। देश में ओमिक्रोन ने अब रफ्तार पकड़ ली है। ओमिक्रोन के मामलों में तेजी से कोरोना के नए केस भी तेजी से बढ़ने लगे हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के मुताबिक रविवार को देश में ओमिक्रोन वैरिएंट के मामलों की संख्या बढ़कर 1,525 हो गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि अभी तक 23 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में ओमिक्रोन के नए मामलों को दर्ज किया गया है। मंत्रालय ने बताया कि ओमिक्रोन से संक्रमित हुए 560 लोग या तो स्वस्थ हो गए हैं, या देश से चले गए हैं। ओमिक्रोन के सबसे अधिक मामले महाराष्ट्र और दिल्ली में सामने आए हैं।

जानिए किस राज्य में कितने ओमिक्रोन के मामले?

ओमिक्रोन के सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्र और दिल्ली में हैं। महाराष्ट्र में ओमिक्रोन वैरिएंट के मामले 460 हैं। जबकि दिल्ली में 351, गुजरात में 136, तमिलनाडु में 117, केरल में 109, राजस्थान में 69, तेलंगाना में 67, हरियाणा में 63, कर्नाटक में 64, आंध्र प्रदेश में 17, पश्चिम बंगाल में 20, ओडिशा में 14, मध्य प्रदेश में 9, उत्तर प्रदेश में 8, उत्तराखंड में 8, चंडीगढ़ में 3, जम्मू कश्मीर में 3, अंडमान और निकोबार में 2, गोवा में 1, हिमाचल प्रदेश में 1, लद्दाख में 1, मणिपुर में 1 और पंजाब में 1 ओमिक्रॉन के मामले हैं।

कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 27,553 हजार के पार

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि भारत में रविवार को कोरोना के 27,553 नए मामले सामने आए तथा 284 और लोगों की मौत के बाद मृतकों की संख्या और बढ़ गई। पिछले 24 घंटे के दौरान 9249 मरीजों को डिसचार्ज किया गया। देश में इस समय सक्रिय मामलों की संख्या बढ़कर 1,22,801 हो गई है।

केंद्र ने राज्यों से कहा- स्वास्थ्य सुविधाओं को बढ़ाएं

कोविड-19 के बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्र सरकार ने चेतावनी दी है कि आने वाले दिनों में हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर पर दबाव बढ़ सकता है। ऐसे में केंद्र ने राज्यों को सलाह दी है कि वे स्वास्थ्य सुविधाओं के साथ अस्थाई अस्पतालों की संख्या को बढ़ाएं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्यों को होम आइसोलेशन में मरीजों की निगरानी के लिए विशेष टीमों का गठन करने का भी सुझाव दिया है।