देश को 7 साल में स्नातक और स्नातकोत्तर की 60,000 मेडिकल सीटें मिली: मोदी

 

कोलकाता में चित्तरंजन राष्ट्रीय कैंसर संस्थान के दूसरे परिसर के उद्घाटन समारोह में बोलते हुए पीएम मोदी। (फोटो एएनआइ)

प्रधानमंत्री ने कहा कि केंद्र ने 2014 से देश में स्नातक और स्नातकोत्तर के लिए मौजूदा 90000 सीटों में 60000 और मेडिकल सीटें जोड़ी हैं। देश ने पिछले 70 वर्षों में जितने डॉक्टरों का उत्पादन किया है वह आने वाले 10 वर्षों में ही कर दिया जाएगा।

 नई दिल्ली, एएनआइ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि देश ने पिछले 7 दशकों में जितने डॉक्टर बनाए गए थे, वह अकेले अगले दशक में स्वास्थ्य कर्मियों में जुड़ जाएंगे। उन्होंने बताया कि केंद्र ने 2014 से देश में स्नातक और स्नातकोत्तर के लिए मौजूदा 90,000 सीटों में 60,000 और मेडिकल सीटें जोड़ी हैं। पश्चिम बंगाल के कोलकाता में चित्तरंजन राष्ट्रीय कैंसर संस्थान के दूसरे परिसर के उद्घाटन समारोह में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा कि देश ने पिछले 70 वर्षों में जितने डॉक्टरों का उत्पादन किया है वह आने वाले 10 वर्षों में ही कर दिया जाएगा। चिकित्सा क्षेत्र में अपनी सरकार द्वारा किए गए कार्यों के बारे में बताते हुए, प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार ने 60,000 और चिकित्सा सीटें जोड़ी हैं। 2014 तक देश में स्नातक और स्नातकोत्तर की मेडिकल सीटों की संख्या लगभग 90,000 थी। हमने पिछले 7 वर्षों में 60,000 नई सीटें जोड़ी हैं।

हमने देशभर में एम्स का बड़ नेटवर्क खड़ा कियाः मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि 2014 में, भारत में केवल 6 एम्स थे। आज देश 22 एम्स के मजबूत नेटवर्क की ओर बढ़ रहा है। प्रधानमंत्री मोदी ने यह भी कहा कि देश आज एक साल से भी कम समय में 1.5 बिलियन कोरोना वैक्सीन देने की ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल करेगा। उन्होंने कहा, देश ने नए साल की शुरुआत 15 से 18 वर्ष आयु वर्ग के युवाओं के टीकाकरण के साथ की थी। आज, साल के पहले महीने के पहले सप्ताह में, देश एक साल से भी कम समय में 1.5 बिलियन कोरोना वैक्सीन देने की ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल कर रहा है। प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि यह उपलब्धि भारत की आत्मनिर्भरता का प्रतीक है।