अंतरराष्ट्रीय विरोध के बीच उत्तर कोरिया ने एक हफ्ते में दूसरी बार किया शक्ति प्रदर्शन, समुद्र में फिर दागी 'बैलिस्टिक मिसाइल'

 

उत्तर कोरिया ने एक हफ्ते में दूसरी बार किया शक्ति प्रदर्शन

उत्तर कोरिया ने एक हफ्ते के भीतर दूसरी बार समुद्र में मिसाइल दागी है। इसे बैलिस्टिक मिसाइल माना जा रहा है। अंतरराष्ट्रीय विरोध के बीच उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने हाल ही में देश के परमाणु हथियार कार्यक्रम के विस्तार का आह्वान किया था।

सियोल, एपी: उत्तर कोरिया ने एक हफ्ते के भीतर दूसरी बार समुद्र में मिसाइल दागी है। इसे 'बैलिस्टिक मिसाइल' माना जा रहा है। अंतरराष्ट्रीय विरोध के बीच उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने हाल ही में देश के परमाणु हथियार कार्यक्रम के विस्तार का आह्वान किया था। उत्तर कोरिया के सरकारी मीडिया ने इसे हाइपरसोनिक मिसाइल बताया है। ऐसी ही एक मिसाइल का पिछले साल सितंबर में भी परीक्षण किया गया था। 

सैन्य क्षमताओं का विस्तार जारी

उत्तर कोरिया ने गत वर्ष भी लगातार हथियारों के परीक्षण किए थे। इससे साफ है कि उसने कोविड की वैश्विक महामारी के मद्देनजर स्वघोषित लाकडाउन व अमेरिका के साथ परमाणु वार्ता ठप पड़े होने के दौरान अपनी सैन्य क्षमताओं का विस्तार जारी रखा है। दक्षिण कोरिया के ज्वाइंट चीफ्स आफ स्टाफ ने कहा कि उत्तर कोरिया ने अपने उत्तरी क्षेत्र में स्थित जगांग प्रांत से संभवत: बैलिस्टिक मिसाइल दागी है। उन्होंने कहा कि पूर्वी क्षेत्र में समुद्र में गिरने से पहले मिसाइल ने मैक 10 की अधिकतम गति से करीब 700 किलोमीटर की उड़ान भरी। यह परीक्षण संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों का साफ उल्लंघन है। इस मिसाइल ने उत्तर कोरिया की तरफ से पूर्व में छोड़ी गई अन्य मिसाइल से अधिक क्षमता का प्रदर्शन किया है।

दक्षिण कोरिया ने बुलाई आपातकालीन बैठक

दक्षिण कोरिया के अधिकारियों ने मिसाइल के बारे में वर्गीकृत जानकारी उपलब्ध नहीं कराई है, लेकिन कुछ विशेषज्ञों का कहना है कि उत्तर कोरिया अपनी कथित हाइपरसोनिक मिसाइल का परीक्षण कर सकता है। क्योंकि दक्षिण कोरिया की सेना ने उसके पूर्व के परीक्षण को कमतर आंका था। हालांकि, उत्तर कोरिया ने फिलहाल कोई टिप्पणी नहीं की है। जापान के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि संदिग्ध बैलिस्टिक मिसाइल ने देश के आर्थिक जोन के बाहर लैंडिंग की। प्रधानमंत्री फुमिओ किशिदा ने कहा कि अधिकारी जापान के चारों ओर जहाजों और विमानों की सुरक्षा की जांच कर रहे हैं। फिलहाल किसी तरह के व्यवधान या क्षति की कोई रिपोर्ट नहीं मिली है। दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति कार्यालय ने कहा कि उत्तर कोरिया के ताजा परीक्षण पर राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की आपातकालीन बैठक में चर्चा हुई। इस दौरान उसके परीक्षणों पर 'गहरा अफसोस' व्यक्त करते हुए उससे वार्ता को फिर से शुरू करने का आग्रह किया गया।