कोरोना के बढ़ते केस से अरविंद केजरीवाल की महत्वाकांक्षी योजना को लगा झटका

 

कोरोना के बढ़ते केस से अरविंद केजरीवाल की महत्वाकांक्षी योजना को लगा झटका

दिल्ली सरकार के अधिकारियों ने बताया कि कोरोना के कारण मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना रद कर दी गई है लेकिन बाद में इसे फिर से शुरू किया जाएगा। दिल्ली सरकार इस योजना के तहत आने-जाने ठहरने और भोजन का प्रबंधन करती है।

नई दिल्ली । कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना को फिलहाल स्थगित कर दिया गया है। इस योजना के तहत दिल्लीवासियों को तीर्थ यात्र के लिए दिल्ली सरकार के खर्च से विभिन्न स्थानों तक ले जाया जाता था। जनवरी महीने में ग्यारह ट्रेनों से यात्रियों को ले जाने की योजना रद कर दी गई है। यात्रियों को करतारपुर साहिब, अमृतसर, रामेश्वरम और अयोध्या ले जाने की योजना थी।

दिल्ली सरकार के अधिकारियों ने बताया कि कोरोना के कारण यात्रा रद कर दी गई है, लेकिन बाद में इसे फिर से शुरू किया जाएगा। दिल्ली सरकार इस योजना के तहत आने-जाने, ठहरने और भोजन का प्रबंधन करती है। योजना के लिए दिल्ली सरकार ने 81.45 करोड़ के फंड को स्वीकृति दी है, जिसमें 66.92 करोड़ वर्ष 2020-21 में खर्च किया जा चुका है।

बता दें कि मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना के तहत दिल्ली के बुजुर्ग करतारपुर साहिब और वेलंकन्नी की तीर्थ यात्रा पर जनवरी में जाने वाले है, लेकिन कोरोना के बढ़ते प्रसार से इस पर रोक लग गई है। मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना के अब 15 तीर्थ स्थल पर जाया जा सकता है। अभी हाल ही में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के निर्देश पर इसमें वेलंकन्नी और करतारपुर साहिब तीर्थ स्थल को भी शामिल किया गया है। दिल्ली से वेलंकन्नी तीर्थ स्थल जाने वाले यात्रियों को दिल्ली सरकार की तरफ से एसी थ्री टियर ट्रेन में सीट उपलब्ध कराई जाएगी। वहीं, करतारपुर साहिब के लिए दिल्ली के श्रद्धालुओं को डीलक्स एसी बस से भेजने की योजना बनाई गई है। दिल्ली से करतारपुर साहिब के लिए एसी बस के जरिए यात्रियों का पहला जत्था 05 जनवरी, 2022 को रवाना होनी थी और दिल्ली से वेलंकन्नी यात्रा के लिए यात्रियों को लेकर पहली ट्रेन 07 जनवरी 2022 को रवाना होनी थी, लेकिन अब यात्रा कैंसिल है।

उल्लेखनीय है कि कोविड-19 की वजह से मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना पर रोक लगा दी गई थी। इस दौरान 15 हजार लोगों ने तीर्थ यात्रा के लिए आवेदन किया था, लेकिन यात्रा पर रोक की वजह से यह लोग योजना का लाभ नहीं उठा पाए थे। अब ऐसे आवेदकों को उनके पंजीकृत मोबाइल पर एसएमएस भेजा जाएगा। अगर वे अयोध्या का दर्शन करने के इच्छुक हैं, तो उन्हें दिल्ली-अयोध्या-दिल्ली मार्ग चुनने के लिए ई-डिस्ट्रिक्ट पोर्टल पर अपने आवेदनों में संशोधन करना होगा। साथ ही, वैक्सीनेशन की दोनों डोज प्राप्त करने का सर्टिफिकेट अपलोड करने के विकल्प के बारे में उन्हें सूचित किया जाएगा। दिल्ली सरकार इस योजना के तहत यात्रा के दौरान सभी एसी ट्रेनों और एसी बसों में यात्रियों के साथ डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ की टीम भी भेजेगी।

योजना के तहत मार्ग

1.दिल्ली-अमृतसर-वाघा बॉर्डर-आनंदपुर साहिब-दिल्ली

2.दिल्ली-अजमेर-पुष्कर-दिल्ली

3.दिल्ली-रामेश्वरम-मदुरै-दिल्ली

4.दिल्ली-जगन्नाथ पुरी-कोणार्क-भुवनेश्वर-दिल्ली

5.दिल्ली-वैष्णो देवी-जम्मू-दिल्ली

6.दिल्ली-तिरुपति बालाजी-दिल्ली

7.दिल्ली-मथुरा-वृंदावन-आगरा-फतेहपुर सीकरी-दिल्ली

8.दिल्ली-हरिद्वार-ऋषिकेश-नीलकंठ-दिल्ली

9.दिल्ली-द्वारिकाधीश-सोमनाथ-दिल्ली

10.दिल्ली-शिरडी-शनि शिंगलापुर-त्र्यंबकेश्वर-दिल्ली

11.दिल्ली-उज्जैन-ओंकारेश्वर-दिल्ली

12.दिल्ली-गया-वाराणसी-दिल्ली

13.नई दिल्ली-अयोध्या-नई दिल्ली

14.दिल्ली-वेलंकन्नी-दिल्ली

15.दिल्ली-करतारपुर साहिब-दिल्ली