प्रियंका गांधी वाड्रा की प्रेस कान्फ्रेंस को किया गया स्थगित

 

प्रियंका गांधी वाड्रा की प्रेस कान्फ्रेंस को किया गया स्थगित

धानसभा चुनाव 2022 की तैयारियां जोरों-शोरों पर हैं। सभी राजनीतिक दल चुनावी मैदान में अपनी सक्रिय भूमिका निभा रहे हैं। ऐसे में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा जो बुधवार को एक प्रेस कान्फ्रेंस को संबोधित करने वाली थीं वह प्रेस कान्फ्रेंस स्थगित कर दी गई है।

नई दिल्ली, एएनआइ। विधानसभा चुनाव 2022 की तैयारियां जोरों-शोरों पर हैं। सभी राजनीतिक दल चुनावी मैदान में अपनी सक्रिय भूमिका निभा रहे हैं। ऐसे में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, जो बुधवार को एक प्रेस कान्फ्रेंस को संबोधित करने वाली थीं, वह प्रेस कान्फ्रेंस स्थगित कर दी गई है। आपको बता दें कि सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, प्रियंका गांधी वाड्रा आज एक वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए प्रेस कान्फ्रेंस को संबोधित करने वाली थीं।

पांच राज्यों में 10 फरवरी से शुरू होने वाले हैं विधानसभा चुनाव

विधानसभा चुनाव 2022 अब सर पर खड़ा है। लेकिन इसकी तैयारियों में भिन्न-भिन्न राजनीतिक पार्टियां पहले से ही लगी हुई है। कोरोना महामारी के इस दौर में भी राजनेताओं की हिम्मत बनी हुई है और वे पूरे आत्मविश्वास के साथ चुनावी जंग में एक दूसरे के खिलाफ लड़ रहे हैं। बात कांग्रेस की जाए तो पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, ने पार्टी की कमान संभालते हुए इस बार काफी आक्रामक दिखाई दे रही है।

चुनाव आयोग ने 8 जनवरी को पांच राज्यों के लिए मतदान की तारीखों की घोषणा कर दी है, जिसमें उत्तर प्रदेश में 10 फरवरी से सात चरणों में विधानसभा चुनाव होने हैं, वहीं मणिपुर में 27 फरवरी से दो चरणों में चुनाव होंगे और पंजाब, गोवा और उत्तराखंड में 14 फरवरी को चुनाव का आगाज होगा।

आपको बता दें कि सभी राज्यों में विधानसभा चुनाव 2022 के वोटों की गिनती 10 मार्च को की जाएगी। वहीं चुनाव की तारीखों की घोषणा के साथ ही आदर्श आचार संहिता लागू हो गई है।

चुनावी जंग की तैयारी

इस साल होने जा रहे विधानसभा चुनाव सभी राजनीतिक दलों के लिए चुनौतियों से भरा हुआ है। बता दें कि इन 5 चुनावी राज्यों में से गोवा, मणिपुर, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश यानी कुल 4 राज्यों में भाजपा सत्ता में है। सत्ता में बने रहने के लिए भाजपा के आगे बहुत सी चुनौतियां तो वहीं आगामी चुनावों में अपनी जीत दर्ज करने के लिए सभी राजनीतिक दलों के नेता महीनों से आक्रामक तरीके से प्रचार-प्रसार कर रहे ह

ैं।