राजधानी में कोरोना संक्रमण को लेकर प्रेस कांफ्रेंस करेंगे अरविंद केजरीवाल

 

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल रविवार को COVID19 की स्थिति पर मीडिया को संबोधित करेंगे।

राजधानी में कोरोना संक्रमण की स्थिति लगातार बिगड़ रही है। संक्रमण और ओमिक्रोन के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। हालांकि दिल्ली सरकार की ओर से कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए पूरी तैयारी की गई है। कई जरूरी पाबंदियां लगाई गई हैं ताकि संक्रमण को बढ़ने से रोका जा सके।

नई दिल्ली, एएनआइ। राजधानी में कोरोना संक्रमण की स्थिति लगातार बिगड़ रही है। कोरोना संक्रमण और ओमिक्रोन के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। हालांकि दिल्ली सरकार की ओर से कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए पूरी तैयारी की गई है।

कई जरूरी पाबंदियां लगाई गई हैं ताकि संक्रमण को बढ़ने से रोका जा सके। इसी क्रम में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल रविवार को COVID19 की स्थिति पर मीडिया को संबोधित करेंगे। 

दरअसल, ओमिक्रोन के बढ़ते संक्रमण के बीच राजधानी में कोरोना के नए मामले अब हर रोज नया रिकार्ड बना रहे हैं। स्थिति यह है कि कोरोना की संक्रमण दर 2.44 प्रतिशत से बढ़कर 3.64 प्रतिशत हो गई है। इस वजह से पिछले 24 घंटे में ही नए मामलों में 51.22 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। लिहाजा, नए साल के पहले दिन शनिवार को कोरोना के नए मामले 2716 हो गए, जो पिछले साढ़े सात माह में सबसे अधिक है।

इससे पहले पिछले साल 21 मई को कोरोना के 3009 मामले आए थे। तब संक्रमण दर 4.76 प्रतिशत थी। एक दिन पहले दिल्ली में कोरोना के 1796 मामले आए थे। पिछले 24 घंटे में 765 मरीज ठीक भी हुए हैं, लेकिन एक मरीज की मौत हो गई। कोरोना का संक्रमण बढ़ने के कारण सक्रिय मरीजों की संख्या छह हजार से अधिक हो गई है। इसके अलावा कंटेनमेंट जोन की संख्या भी तेजी से बढ़ रही है। कंटेनमेंट जोन की संख्या 1243 हो गई है।

27 दिनों में आए कुल 9569 मामले : दिल्ली में पिछले माह पांच दिसंबर को ओमिक्रोन का पहला मामला आया था। तब संक्रमण दर 0.11 प्रतिशत थी। उस दिन से लेकर अब तक दिल्ली में कोरोना के कुल 9569 मामले आए हैं। वहीं 3569 मरीज ठीक हुए हैं।

सप्ताहभर में सात गुना बढ़ी संक्रमण दर : दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 74,622 सैंपल की जांच हुई। इसमें से 3.64 प्रतिशत सैंपल पाजिटिव पाए गए, जबकि 26 दिसंबर को संक्रमण दर 0.55 प्रतिशत थी। ये आंकड़े बताते हैं कि एक सप्ताह में ही संक्रमण दर करीब सात गुना बढ़ चुकी है।