गौरव भाटिया ने चन्नी पर साधा निशाना, कहा- वे केवल गांधी परिवार के अधीन, देश के संविधान के अधीन नहीं

 

भाजपा प्रवक्ता गौरव भाटिया और सीएम चन्नी की फाइल फोटो

प्रियंका गांधी वाड्रा की स्थिति पर सवाल उठाते हुए भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि उनके पास कोई संवैधानिक पद नहीं है कि मुख्यमंत्री उन्हें रिपोर्ट करे और प्रधानमंत्री की सुरक्षा से संबंधित संवेदनशील विवरण उन्हें साझा करके बताएं।

नई दिल्ली, एएनआइ। पांच जनवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पंजाब दौरे में हुई सुरक्षा चूक पर सीएम चन्नी चौतरफा घिरते हुए दिख रहे हैं। पीएम मोदी की सुरक्षा में हुई चूक को लेकर भाजपा के शीर्ष नेता कांग्रेस पर हमलावर हैं। केंद्र और पंजाब सरकार के बीच विवाद के बीच भाजपा प्रवक्ता गौरव भाटिया ने भी मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी पर निशाना साधा है। मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी पर निशाना साधते हुए भाटिया ने कहा कि वह केवल गांधी परिवार के अधीन हैं, देश के संविधान के अधीन नहीं हैं।ससे पहले शनिवार को समाचार एजेंसी एएनआइ से बात करते हुए सीएम चन्नी ने कहा था कि उन्होंने प्रियंका गांधी वाड्रा के साथ बातचीत की और फिरोजपुर में जो कुछ भी हुआ है, उन्होंने प्रियंका को इसकी जानकारी दी है।

प्रियंक गांधी को जानकारी साझा करने पर भाटिया ने चन्नी पर उठाए सवाल

एएनआइ से बात करते हुए आज भाटिया ने कहा कि पंजाब के मुख्यमंत्री चन्नी ने कहा है कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा और प्रियंका गांधी वाड्रा के साथ उनकी यात्रा के सभी संवेदनशील और अत्यधिक गोपनीय विवरण साझा किए है। यह एक बहुत ही गंभीर मामला है। क्योंकि मुख्यमंत्री ने संविधान के तहत गोपनीयता की शपथ ली है। प्रधानमंत्री की सुरक्षा से संबंधित सभी जानकारी अत्यधिक गोपनीय जानकारी से संबंधित हैं।

प्रियंका गांधी के पास नहीं है कोई संवैधानिक पद: गौरव भाटिया

प्रियंका गांधी की स्थिति पर सवाल उठाते हुए भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि उनके पास कोई संवैधानिक पद नहीं है कि मुख्यमंत्री उन्हें रिपोर्ट करे और प्रधानमंत्री की सुरक्षा से संबंधित संवेदनशील विवरण उन्हें साझा करके बताएं। यह स्पष्ट रूप से दर्शाता है कि एक कांग्रेस नेता के लिए प्राथमिकता गांधी परिवार के अधीन होना है, न कि देश के संविधान के लिए।

भारत के लोग कांग्रेस पार्टी के नेताओं के कुकर्मों को देख रहे : भाटिया

भाटिया ने आगे कहा कि वे गांधी परिवार के हितों का ख्याल रखेंगे, लेकिन देश के हित की परवाह नहीं करेंगे। वे गांधी परिवार के निर्देशन में काम करेंगे, लेकिन संविधान के तहत अपनी जिम्मेदारी के बारे में नहीं सोचेंगे। साथ ही भाटिया ने कहा कि अगर चन्नी गांधी परिवार और संविधान के प्रति आधे वफादार होते तो प्रधानमंत्री के खिलाफ यह 'साजिश' नहीं रची जाती और पीएम की सुरक्षा से समझौता नहीं किया जाता। यह एक बहुत ही गंभीर मामला है और भारत के लोग कांग्रेस पार्टी के नेताओं के कुकर्मों को देख रहे हैं।