हमले में घायल आरटीआइ कार्यकर्ता ने अस्पताल में शुरू की भूख हड़ताल

 हमले में घायल आरटीआइ कार्यकर्ता ने अस्पताल में शुरू की भूख हड़ताल। फाइल फोटो


 जोधपुर के अस्पताल में भर्ती बाड़मेर के घायल आरटीआइ एक्टिविस्ट अमराराम में भूख हड़ताल शुरू कर दी है। अमराराम ने बाड़मेर के एसपी को पत्र लिखकर अवगत कराया है जिसमें उसने मामले में ढुलमुल रवैया अपनाने और लीपापोती करने का आरोप लगाते हुए भूख हड़ताल शुरू की।

जोधपुर, संवाद सूत्र। राजस्थान में जोधपुर के मथुरादास माथुर अस्पताल में भर्ती बाड़मेर के घायल आरटीआइ एक्टिविस्ट अमराराम में भूख हड़ताल शुरू कर दी है। अमराराम ने बाड़मेर के एसपी को पत्र लिखकर इसके बारे में अवगत कराया है, जिसमें उसने मामले में ढुलमुल रवैया अपनाने और लीपापोती करने का आरोप लगाते हुए भूख हड़ताल शुरू की। जोधपुर के मथुरादास माथुर अस्पताल में भर्ती अमराराम ने खुद पर हमले में शामिल षड्यंत्रकारियों की गिरफ्तारी नहीं होने से नाराजगी जाहिर करते हुए इस मामले में लीपापोती का आरोप लगाया है। अमराराम ने हमले के षड्यंत्रकारियों की गिरफ्तारी नहीं होने तक अपना विरोध जताने के लिए अनशन शुरू किया है। वह जोधपुर के एमडीएम हास्पिटल में भर्ती है। 

21 दिसंबर को हुआ था हमला

गत 21 दिसंबर, 2021 को बाड़मेर में आरटीआइ कार्यकर्ता पर हमला हुआ था। उसके हाथ और पांव तोड़ दिए गए थे, उसे गंभीर अवस्था में मथुरादास माथुर अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उसका इलाज चल रहा है।

सरकार ने सीआइडी सीबी को सौंपी जांच

प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस मामले में तत्परता दिखाते हुए जांच सीआइडी सी सीबी को सौंप दी थी। इसके बाद आइपीएस रैंक के अधिकारी गौरव यादव की ओर से जोधपुर के मथुरादास माथुर अस्पताल पहुंचकर अमराराम और और उसके परिजनों से मुलाकात भी की गई थी। साथ ही, निष्पक्ष जांच आश्वाशन भी दिया था।

जानें, क्या लिखा है पत्र में

बाड़मेर एसपी को लिखे पत्र में अमराराम ने आरोपितों को बचाने की बात कही है। अमराराम के अनुसार, मामले में षड्यंत्रकारी लोग अभी भी बाहर हैं, जिनको राजनीतिक संरक्षण है। पकड़े गए लोगों में दो लोगों को वह पहचानते भी नहीं है, जबकि आरोपित अभी भी खुलेआम घूम रहे हैं। गौरतलब है कि इस मामले में उस वक्त जमकर राजनीति हुई थी। प्रदेश के कई बड़े नेताओं ने गहलोत सरकार पर जमकर निशाना साधा था। अब इस मामले पर प्रदेश की राजनीति फिर गरमा सकती है।