उत्तरी एमसीडी द्वारा संचालित राजन बाबू टीबी अस्पताल को खाली कराने और सील करने की जांच के आदेश

 

बीजेपी के नेतृत्व वाली एमसीडी ने दिल्ली के लोगों को मरने के लिए छोड़ दिया है।

शहरी विकास मंत्री सत्येंद्र जैन ने उत्तर एमसीडी द्वारा संचालित राजन बाबू टीबी अस्पताल को खाली कराने और सील करने की जांच के आदेश दिए हैं। आप नेता के दौरे के बाद मंत्री ने अस्पताल की जांच के आदेश दिए थे।

नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। पूर्वी दिल्ली के राजन बाबू टीबी अस्पताल की इमारत जर्जर है, लेकिन इसमें मरीजों का इलाज चल रहा है। आप नेता आतिशी ने अस्पताल का औचक निरीक्षण किया। इसके बाद उन्होंने सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर किया और भाजपा शासित एमसीडी पर जमकर हमला बोला।

आप नेता ने आश्चर्य व्यक्त करते हुए कहा कि जिस इमारत को खतरनाक घोषित किया गया है उसमें ही मरीजों का इलाज चल रहा है। वहीं, शहरी विकास मंत्री सत्येंद्र जैन ने उत्तर एमसीडी द्वारा संचालित राजन बाबू टीबी अस्पताल को खाली कराने और सील करने की जांच के आदेश दिए हैं। आप नेता के दौरे के बाद मंत्री ने अस्पताल की जांच के आदेश दिए थे।

दरअसल, आतिशी ने अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर वीडियो में कहा, "हम सुनते रहे हैं कि बीजेपी के नेतृत्व वाली एमसीडी दिल्ली के लोगों को स्वास्थ्य के मोर्चे पर, दवाओं, अच्छे बुनियादी ढांचे और सभी के मामले में विफल साबित हो रही है। जमीनी स्तर पर उतरकर देखा तो सारी हकीकत सामने आ गई।

उन्होंने कहा, "एमसीडी ने ही अस्पताल के बाहर लोगों को आगाह करते हुए बोर्ड लगाया है कि यह एक खतरनाक इमारत है 'प्रवेश न करें'।" आतिशी ने कहा, "ऐसा लगता है कि बीजेपी के नेतृत्व वाली एमसीडी ने दिल्ली के लोगों को मरने के लिए छोड़ दिया है।

दिल्ली के जीटीबी नगर में राजन बाबू इंस्टीट्यूट ऑफ पल्मोनरी मेडिसिन एंड ट्यूबरकुलोसिस को मल्टी-स्पेशियलिटी अस्पताल के रूप में विकसित किया जाना था। इसका निर्माण 1935 में 79 एकड़ के परिसर के साथ किया गया था। जिस अस्पताल को खतरनाक श्रेणी में घोषित किया गया है वह उत्तरी नगर निगम के अंतर्गत आती है।