दिल्ली में कब आ सकता है कोरोना का पीक, पढ़िये क्या कहते हैं एक्सपर्ट

 

Delhi Corona News: दिल्ली में कब आ सकता है कोरोना का पीक, पढ़िये आइआइटी कानपुर के प्रोफेसर का बयान

 आइआइटी प्रोफेसर मणींद्र अग्रवाल का कहना है कि जनवरी-फरवरी के बीच दिल्ली जैसै बड़े शहरों में 50 से लेकर 60 हजार कोरोना मामले रोजाना आ सकते हैं। कोरोना के मामले इतने गंभीर नहीं है लेकिन तैयारी की जरूरत है।

नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। दिल्ली-एनसीआर समेत समूचे देशभर में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में वृद्धि जारी है। इस बीच आइआइटी कानपुर के प्रोफेसर महिंद्रा अग्रवाल की मानें तो दिल्ली और मुंबई जैसे शहरों में इसी महीने यानी फरवरी में कोरोना का पीक देखने को मिल सकता है। मणींद्र अग्रवाल का कहना है कि  जनवरी-फरवरी के बीच दिल्ली जैसै बड़े शहरों में 30 से लेकर 60 हजार कोरोना मामले रोजाना आ सकते हैं। उन्होंने यह भी दावा किया है कि इस महीने के आखिर में कोरोना की दूसरी लहर से ज्यादा मामले सामने आ सकते हैं। हालांकि मार्च आने तक ये पीक पूरी तरह से खत्म हो सकती है।

प्रोफेसर मणींद्र अग्रवाल की मानें कोरोना मामले ज्यादा गंभीर नजर नहीं आ रहे हैं, अस्पतालों की हालत भी फिलहाल ठीक है। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि आने वाले कुछ हफ्तों में हालात बिगड़ भी सकते हैं। ऐसे में उम्दा तैयारी की जरूरत है।पद्मश्री से सम्मानित आइआइटी के प्रो. मणींद्र अग्रवाल ने ट्वीट करके यह सुझाव दिए हैं।

jagran

प्रो. मणींद्र अग्रवाल के मुताबिक, राजधानी दिल्ली में अब तक कोरोना के मामले स्थिर नहीं हुए हैं, लेकिन सुधार हो रहा है। दिल्ली में भी 15 जनवरी के आसपास कोरोना की तीसरी लहर चरम पर होने की आशंका है। ऐसे में वहां रोजाना 35 से 70 हजार मामले सामने आ सकते हैं। साथ ही यह भी कहा कि अस्पतालों में 12 हजार बेड की जरूरत पड़ सकती है।

वहीं, डा. संदीप नायर (एचओडी, श्वसन रोग बीएलके अस्पताल, दिल्ली) का कहना है कि पिछले 8-9 दिनों से दिल्ली समेत देशभर में कोरोना 19 के मामले बढ़ रहे हैं। पिछले कुछ दिनों के दौरा ही दिल्ली और मुंबई में लगभग 4-5 गुना अधिक मामले आए हैं। उम्मीद है कि इसी तरह तेज गिरावट भी होगी जैसा कि हमने दक्षिण अफ्रीका में देखा, जब मामले अचानक बढ़ गए और फिर घट गए। 

गौरतलब है कि देश-दुनिया के तमाम एक्सपर्ट लगातार दावा कर रहे हैं कि जिस तेजी से ओमिक्रोन के मामले बढ़ रहे हैं, उसी तेजी से गिरेंगे भी। दक्षिण अफ्रीका में भी यही हुआ है, जहां से यह वायरस दुनिया के तमाम देशों में फैला।

यहां पर बता दें कि दिल्ली में कोरोना के मामलों में बेतहाशा वृद्धि हो रही है। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान समेत दिल्ली के आधा दर्जन अस्पतालों के तकरीबन 800 डाक्टर कोरोना संक्रमित हैं। इनमें 300 से अधिक डाक्टर सिर्फ एम्स के हैं, हालांकि इनमें किसी की भी स्थिति गंभीर नहीं है। इनमें से ज्यादातर की हालत ठीक है और आगामी कुछ दिनों में अपनी सेवाएं देने के लिए भी उपस्थित हो सकते हैं।

दिल्ली पुलिस के जवान और अधिकारी भी कोरोना की चपेट में है। हालिया जांच में 300 से अधिक दिल्ली पुलिसकर्मी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। इनमें 90 फीसद से अधिक होम आइसोलेशन में हैं। इस दौरान दिल्ली पुलिस के जनसंपर्क अधिकारी और अतिरिक्त आयुक्त चिन्मय बिस्वाल समेत दिल्ली पुलिस के 300 से ज्यादा कर्मियों ने वायरस के लिए टेस्ट कराया तो ज्यादातर पीड़ित मिले।