चादर और पालीथिन की मदद से सुलझा बदमाश की हत्या का मामला, दो सगे भाई शामिल, पढ़िए पुलिस कैसे पहुंची आरोपियों तक

 

सराय रोहिल्ला पुलिस ने पांच आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है।

आरोपितों में दो सगे भाई शामिल हैं। दोनों ने तीन दोस्तों के साथ मिलकर वारदात को अंजाम दिया था। पुलिस को चादर से सुराग मिल गया जिसमें अभिषेक के शव को लपेटकर फेंका गया था। इंद्रलोक स्थित पार्क में पुलिस को चादर में लिपटा हुआ युवक का शव मिला था।

नई दिल्ली, संवाददाता। गत दिनों बदमाश अभिषेक का लावारिस हालात में शव मिलने के मामले में सराय रोहिल्ला पुलिस ने पांच आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपितों में दो सगे भाई शामिल हैं। दोनों ने तीन दोस्तों के साथ मिलकर वारदात को अंजाम दिया था। पुलिस को चादर से सुराग मिल गया, जिसमें अभिषेक के शव को लपेटकर फेंका गया था।

उत्तरी जिले के डीसीपी सागर सिंह कलसी के मुताबिक शुक्रवार को इंद्रलोक स्थित पार्क में पुलिस को चादर में लिपटा हुआ युवक का शव मिला था। मुश्किल से उसकी पहचान अभिषेक के तौर पर हुई। शव पर चोट के निशान थे। इसलिए हत्या की धारा में मुकदमा दर्ज कर लिया गया। जांच में पता चला कि अभिषेक पर चोरी और झपटमारी के 20 मामले दर्ज हैं।

पुलिस टीम ने सीसीटीवी फुटेज खंगाली और मृतक के मोबाइल फोन की काल डिटेल्स की जांच की। उसके साथियों से पूछताछ से पता चला कि अभिषेक का पद्म नगर स्थित बेकरी मालिक से विवाद चल रहा था। पुलिस टीम जब बेकरी पहुंची तो उसे वैसी ही बेडशीट और पालीथिन मिली, जिसमें शव लपेटा गया था। पुलिस ने बेकरी मालिक अफजाल अंसारी व उसके सगे भाई सवजल अंसारी को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो सारा मामला खुल गया। उसके बाद इनके तीन अन्य साथियों राशिद, इशराफिल और अबरार अंसारी को भी गिरफ्तार कर लिया गया।

अफजाल ने पूछताछ में बताया कि कुछ समय पहले उसने अभिषेक से चोरी के दो लैपटाप खरीदे थे। अभिषेक पुलिस को यह बात बताने की धमकी देकर एक लाख रुपये वसूल चुका था। वह ब्लैकमेल कर और भी रुपये मांग रहा था। इससे आजिज होकर उसे रास्ते से हटाने के लिए दोनों भाइयों ने अपने तीन दोस्तों के साथ मिलकर हत्या की साजिश रची। छह जनवरी को गला घोंटकर हत्या करने के बाद उन लोगों ने स्कूटर पर लाश को लेकर तिकोना पार्क में फेंक दिया था। साथ ही उसके फोन को यमुना में फेंक दिया था, जिसे पुलिस ने गोताखोरों की मदद से बरामद कर लिया।