अस्थमा के कारण वायुमार्ग में हुई सूजन को कम करते हैं सोया उत्पाद, जानिए और क्या कहता है ये शोध

 

यह अध्ययन 'न्यूट्रिएंट जर्नल' में हुआ है प्रकाशित (फाइल फोटो)

ओसाका सिटी यूनिवर्सिटी ग्रेजुएट स्कूल आफ मेडिसिन के रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग के शोधकर्ताओं ने अस्थमाग्रस्त चूहों के एक समूह का इम्मुबैलेंस उपचार के दौरान पाया कि ब्रोंकोएलेवोलर लैवेज फ्लूड (बीएएलएफ) में इयोसिनोफिल्स उल्लेखनीय रूप से कम हो गए।

टोक्यो, एएनआइ। शोधकर्ताओं ने एक नए अध्ययन में पाया है कि खमीरयुक्त सोया उत्पाद अस्थमा के कारण वायुमार्ग में होने वाली सूजन को कम करते हैं। इन उत्पाद को इम्मुबैलेंस भी कहा जाता है। यह अध्ययन 'न्यूट्रिएंट जर्नल' में प्रकाशित हुआ है।

ओसाका सिटी यूनिवर्सिटी ग्रेजुएट स्कूल आफ मेडिसिन के रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग के शोधकर्ताओं ने अस्थमाग्रस्त चूहों के एक समूह का इम्मुबैलेंस उपचार के दौरान पाया कि ब्रोंकोएलेवोलर लैवेज फ्लूड (बीएएलएफ) में इयोसिनोफिल्स उल्लेखनीय रूप से कम हो गए। अस्थमा से जुड़ी श्वेत रक्त कोशिकाओं (डब्ल्यूबीसी) को इयोसिनोफिल्स कहा जाता है। इसके अतिरिक्त उपचार के दौरान वायुनलियों के आसपास सूजन व बलगम में कमी हुई और इयोसिनोफिल्स से संबंधित सूजन को कम करने में मददगार प्रोटीन भी पाए गए। 

सोया के कुछ घटक एंटी-एलर्जिक का करते हैं काम

अध्ययन के प्रमुख लेखक हिदेकी कादोतानी के अनुसार, 'सोया के सेवन और एलर्जी संबंधी बीमारियों के बीच संबंधों को अतीत में महामारी विज्ञान के रूप में बताया गया है। इसमें सुझाव दिया गया है कि सोया के कुछ घटक एंटी-एलर्जिक का काम करते हैं।'

खमीरयुक्त फाइबर एलर्जिक अस्थमा माडल पर साबित हो सकता है प्रभावी

सहायक लेखक काजुहिसा असाई कहते हैं, 'अध्ययन में पाया गया कि आंत के माइक्रोबायोटा में असंतुलन प्रतिरक्षा प्रणाली व एलर्जिक बीमारियों से संबंधित है। सोया में पाए जाने वाला खमीरयुक्त फाइबर एलर्जिक अस्थमा माडल पर प्रभावी साबित हो सकता है।'