ओमिक्रोन की वजह से कमजोर पड़ रहा कोरोना? जानें क्या है यूरोपीय संघ की राय

 

ओमिक्रोन की वजह से कमजोर पड़ रहा कोरोना?

 यूरोपीय संघ (ईयू) ने कहा है कि ओमिक्रोन की वजह से कोरोना कमजोर पड़ता दिख रहा है। ईयू के ड्रग नियामक ने कहा कि ओमिक्रोन का प्रसार कोविड महामारी को एनडेमिक बीमारी की ओर ले जा रहा है।

द हेग, एएफपी। कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रोन के दुनियाभर में लाखों मामले सामने आ रहे हैं। इसी बीच, विशेषज्ञों ने कहा है कि ओमिक्रोन वैरिएंट का प्रसार कोविड महामारी को एनडेमिक बीमारी की ओर ले जा रहा है। यूरोपीय संघ (ईयू) के ड्रग नियामक ने मंगलवार को इस बारे में बताया है। ईयू ने कहा कि ओमिक्रोन का प्रसार कोविड को एनडेमिक बीमारी की ले जा रहा है। मतलब साफ है कि कोरोना कमजोर पड़ रहा है। हालांकि, ईयू ने ये भी कहा कि अभी कोरोना महामारी बनी हुई है।

बूस्टर डोज को लेकर जताया संदेह

इसके अलावा, यूरोपीयन मेडिसिन एजेंसी (ईएमए) ने लोगों को बूस्टर डोज देने को लेकर संदेह जताया है। ईएमए ने कहा कि वैक्सीन का चौथा डोज देना कोई सटीक रणनीति नहीं है। ईएमके के वैक्सीन स्ट्रैटजी के प्रमुख मार्को केवलेरी ने ये जरूर कहा कि एक दिन हम कोविड रूपी इस सुरंग के अंतिम छोर पर जरूर होंगे।

केवेलरी ने आगे कहा कि बूस्टर डोज बार-बार देने से लोगों को स्वास्थ्य संबंधी कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। इससे लोगों में ज्यादा थकावट हो सकती है। ऐसे में लंबे अंतराल में बूस्टर डोज लगाने पर विचार करना चाहिए।