बसों में सीमित सीटों पर बैठने की अनुमति के कारण लोगों को हो रही परेशानी

 

लोग मास्क और शारीरिक दूरी का पालन करते हुए दिखाई दिए।

कोरोना संक्रमण के नए वैरिएंट ओमिक्रोन के दिल्ली में तेजी से फैलने के बीच अब इसे लेकर लोगों में सतर्कता देखने को मिल रही है। रविवार को दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) की बसों के साथ ही आटो में अधिकतर लोग सतर्कता के साथ सफर करते दिखाई दिए।

नई दिल्ली, संवाददाता। कोरोना संक्रमण के नए वैरिएंट ओमिक्रोन के दिल्ली में तेजी से फैलने के बीच अब इसे लेकर लोगों में सतर्कता देखने को मिल रही है। रविवार को दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) की बसों के साथ ही आटो में अधिकतर लोग सतर्कता के साथ सफर करते दिखाई दिए। वैसे, शनिवार और नव वर्ष का पहला दिन होने के चलते बस स्टाप पर शुक्रवार के मुकाबले कम भीड़ थी। तब भी बसों में सीमित सीटों पर ही बैठने की अनुमति की वजह से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा।

लोग कोविड प्रोटोकाल का कर रहे पालन

साल बदल गया और कोरोना का रूप भी बदल गया, अगर कुछ नहीं बदला तो वो है लोगों में इस संक्रमण का डर। लोग जीवन यापन और नव वर्ष के कारण लोग घरों से घूमने निकल रहे हैं। इसके साथ ही लोग मास्क और शारीरिक दूरी का पालन करते हुए दिखाई दिए।

सीमित सीटों की वजह से हो रही समस्या

कोरोना दिशानिर्देशों के अनुसार, बसों में 50 प्रतिशत क्षमता तक ही बैठने की अनुमति है। इससे संक्रमण को फैलने से रोकने में तो सहायता मिल रही है, लेकिन साथ ही लोगों को असुविधा का सामना भी करना पड़ रहा है। जहां किसी सफर के लिए एक दो घंटे लगते थे।

सीमित सीटों के कारण घंटों करना पड़ रहा इंतजार

वहीं अब सीमित सीटों की वजह से लोगों को बसों के लिए ही घंटों इंतजार करना पड़ता है। स्टाप पर बसों की ओर दौड़ते तो कई लोग हैं, लेकिन प्रवेश एक या दो को ही मिल पाता है। कई बार तो प्रवेश के बाद भी सीट न होने पर लोगों को उतार दिया जाता है।