दिल्ली में अभी नहीं लगेगा लाकडाउन, स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन बोले- कोरोना नियमों का पालन करें लोग

 

अस्पतालों में नहीं बढ़ रहे हैं कोरोना के मरीज: सत्येंद्र जैन

राजधानी में कोरोना के मामले अभी कम नहीं हो रहे हैं। बल्कि नए मामले 27 हजार से अधिक आने लगे हैं। इस बीच दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि कोरोना के अधिक मामले आने के बावजूद अस्पतालों में मरीज नहीं बढ़ रहे हैं।

नई दिल्ली, राज्य ब्यूरो। राजधानी में कोरोना के मामले अभी कम नहीं हो रहे हैं। बल्कि नए मामले 27 हजार से अधिक आने लगे हैं। इस बीच दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि कोरोना के अधिक मामले आने के बावजूद अस्पतालों में मरीज नहीं बढ़ रहे हैं। अस्पतालों में कोरोना के इलाज के लिए आने वाले मरीजों की संख्या पिछले कुछ दिनों से काफी हद तक स्थिर है। वे इसे हालात में सुधार के संकेत मान रहे हैं और उन्होंने उम्मीद जाहिर करते हुए कहा कि जल्द ही दिल्ली में कोरोना के मामले कम होने शुरू होंगे।

उन्होंने कहा कि इस माह कोरोना के मामले बढ़ने शुरू हुए थे तो अस्पतालों में मरीजों की संख्या थोड़ी बढ़ी थी। अभी अस्पतालों में कोरोना के मरीजों के दाखिले बढ़ने बंद हो गए हैं। इस वजह से अस्पतालों में अभी 15 प्रतिशत बेड भरे हैं और 85 प्रतिशत बेड खाली है। इसलिए अस्पतालों में फिलहाल कोरोना के इलाज के लिए आरक्षित बेड बढ़ाकर उसे खाली रखने का फायदा नहीं है। उन्होंने कहा कि कोरोना के कारण मरने वाले ज्यादातर मरीजों को दिल की बीमारी, कैंसर या कोई अन्य बीमारी थी लेकिन ऐसे मामलों में भी मौत का कारण कोरोना माना जा रहा है। सिर्फ कोरोना के कारण ज्यादा गंभीर मरीज अस्पताल में भर्ती नहीं हो रहे हैं। उन्होंने फिर दोहराया कि दिल्ली में लाकडाउन लगाने का विचार नहीं है।

लोगों से बचाव के नियमों का पालन करने की अपील

दिल्ली में भारी संख्या में कोरोना के मामले आने के बावजूद लोग बचाव के नियमों का ठीक से पालन नहीं कर रहे हैं। सड़कों पर अब भी एक साथ कई लोग रहड़ी पटरी पर खड़े होकर खाते नजर आते हैं। यह दिल्ली सरकार द्वारा जारी दिशा निर्देश के खिलाफ है। सत्येंद्र जैन ने कहा कि रेहड़ी पटरी से लोग खाने पीने की चीजें पैक कराकर अपने घर ले जा सकते हैं। सड़क पर खड़ा होकर अभी नहीं खा सकते। उन्होंने लोगों से कोरोना से बचाव के नियमों का पालन करने की अपील की और कहा कि घर से बाहर निकलने पर सौ प्रतिशत लोग मास्क इस्तेमाल सुनिश्चित कर

ें।