आदेशों की अवहेलना पर कोर्ट ने पुलिस अधिकारियों से मांगा स्पष्टीकरण

 

आरोपित सौरभ शर्मा को नोटिस भेजने के संबंध में रिपोर्ट भी कोर्ट को नहीं सौंपी है।

मुख्य महानगर दंडाधिकारी अरुण कुमार गर्ग के कोर्ट ने कहा कि कई बार कहने के बावजूद आदेशों का पालन सुनिश्चित न होने से कोर्ट की कार्यवाही में अवरोध हो रहा है। इससे प्रतीत होता है कि जानबूझ कर कोर्ट के आदेश का पालन नहीं किया जा रहा।

नई दिल्ली ,दिल्ली दंगे में करावल नगर, खजूरी खास और भजनपुरा इलाके में आगजनी के तीन मामलों में आदेशों की अवहेलना पर कड़कड़डूमा कोर्ट ने बृहस्पतिवार को पुलिस की खिंचाई की। मुख्य महानगर दंडाधिकारी अरुण कुमार गर्ग के कोर्ट ने कहा कि कई बार कहने के बावजूद आदेशों का पालन सुनिश्चित न होने से कोर्ट की कार्यवाही में अवरोध हो रहा है। इससे प्रथम दृष्टया प्रतीत होता है कि जानबूझ कर इस कोर्ट के आदेश का पालन नहीं किया जा रहा।

कोर्ट ने इन मामलों में उत्तर पूर्वी जिले के डीसीपी, एसएचओ करावल नगर, एसएचओ भजनपुरा, एसएचओ खजूरी खास व अन्य से पूर्वी जिले के संयुक्त आयुक्त के माध्यम से दो दिन के भीतर स्पष्टीकरण मांगा है। साथ ही पूछा है कि उनके खिलाफ कोर्ट की अवमानना के लिए कार्यवाही क्यों न शुरू की जाए। करावल नगर में हुई आगजनी के मामले में सुनवाई करते हुए कोर्ट ने पाया कि उसके स्पष्ट निर्देश के बावजूद पुलिस ने आरोपित विनय को पूरक आरोपपत्र की प्रति उपलब्ध नहीं कराई है।

यही नहीं आरोपित सौरभ शर्मा को नोटिस भेजने के संबंध में रिपोर्ट भी कोर्ट को नहीं सौंपी है। इस पर कोर्ट ने कहा कि उसके बार-बार निर्देश जारी करने के बावजूद एसएचओ करावल नगर के साथ-साथ उत्तर पूर्वी जिले के डीसीपी सुनवाई से एक दिन पहले कोर्ट को संबंधित रिपोर्ट उपलब्ध कराने का कार्य सुनिश्चित करने में विफल रहे हैं। यह कहते हुए कोर्ट ने इन दोनों अधिकारियों के अलावा जांच अधिकारी से स्पष्टीकरण मांगा है। साथ ही आरोपित विनय को पूरक आरोपपत्र की प्रति शुक्रवार शाम पांच बजे तक मुहैया कराने का निर्देश दिया है।

खजूरी खास इलाके में लूटपाट व आगजनी के मामले में आरोपित शमशेर को नोटिस भेजने की रिपोर्ट उपलब्ध न कराने पर इस कोर्ट ने पुलिस को फटकार लगाते हुए जांच अधिकारी, खजूरी खास थाने के एसएचओ और उत्तर पूर्वी जिले के डीसीपी से स्पष्टीकरण मांगा है। इसके अलावा भजनपुरा में घर जलाने के मामले में आरोपपत्र की प्रति समय से न मुहैया कराने व इस संबंध में 17 नवंबर 2021 के आदेश का पालन न करने पर इस कोर्ट ने भजनपुरा थाने के एसएचओ और उत्तर पूर्वी जिले के डीसीपी से स्पष्टीकरण मांगा है।

इस आदेश के पारित होने के बाद कोर्ट स्टाफ ने न्यायाधीश को अवगत कराया कि डीसीपी कार्यालय से रिपोर्ट उनको प्राप्त हुई थी, जो वाट्सएप के माध्यम से काेर्ट को भेजी गई। इस पर कोर्ट ने अपने स्टाफ से जवाब तलब करते हुए कहा कि वह पुलिस को बचाने का प्रयास कर रहे हैं।