ठेका कर्मचारियाें के जाम में फंसी एंबुलेंस, एक माह के बच्चे की माैत; मिन्नतें करने पर भी नहीं माने प्रदर्शनकारी

 

लुधियाना के खन्ना में ठेका कर्मचारियाें का फिर प्रदर्शन। (जागरण)

ठेका कर्मियों के जाम में फंसी एंबुलेंस में एक माह के बच्चे की मौत हाे गई। गांव मोहनपुर का रहने वाला परिवार तबियत बिगड़ने पर एंबुलेंस से बच्चे को लेकर अस्पताल जा रहे थे तभी यह घटना हुई।

 संवाददाता, खन्ना (लुधियाना)। विधानसभा चुनावों के नजदीक आते ही पंजाब सरकार के विभिन्न विभागों के ठेका कर्मी अपनी मांगों को लेकर आंदोलन कर रहे हैं। सरकार के 11 विभागों के ठेका कर्मी खन्ना में रविवार को नेशनल हाइवे पर बैठ गए हैं। इन कर्मचारियों ने अमृतसर-दिल्ली हाइवे को जाम कर दिया है। इससे वाहनों की लंबी कतारें लग गई है। वहीं ठेका कर्मियों के जाम में फंसी एंबुलेंस में एक माह के बच्चे की मौत हाे गई। गांव मोहनपुर का रहने वाला परिवार तबियत बिगड़ने पर एंबुलेंस से बच्चे को लेकर अस्पताल जा रहे थे। वैन के ड्राइवर ने कहा मिन्नत करने पर भी धरनाकारियों ने नहीं दिया रास्ता। जब तक निकले, तब तक बच्चे की मौत हाे चुकी थी।

वहीं ट्रैफिक को लिंक सड़कों से डायवर्ट कर निकाला जा रहा है। ठेका कर्मचारियों ने गत 16 दिसम्बर को भी इसी स्थान पर हाइवे जाम किया था और वे अगले दिन कैबिनेट मंत्री गुरकीरत सिंह कोटली द्वारा सीएम चरनजीत सिंह चन्नी से फोन और बात कराने और बैठक तय कराने के बाद हटे थे। लेकिन, सरकार से बातचीत बेनतीजा रहने के बाद कर्मचारी दोबारा आंदोलन की राह पर हैं।

jagran

दिसम्बर माह में लगे धरने के दौरान भी कर्मचारियों की तरफ से हाइवे पर टेंट लगा लिए गए थे। इस बार भी सन्गठन पक्का मोर्चा लगाने के किए आए हैं और तम्बू गाड़ने की प्रक्रिया भी उन्होंने शुरू कर दी है।

किस रूट को पकड़ें

ठेका कर्मियों के हाइवे जाम से ट्रेफिक अस्त व्यस्त हो गया है। अगर आप दिल्ली से लुधियाना या जालन्धर की तरफ जा रहे हैं तो आप खन्ना से समराला रोड पकड़ सकते हैं। यहां तक रूट क्लियर है। इसके बाद समराला से लुधियाना और फिर जालन्धर जा सकते हैं। लुधियाना जाने के लिए खन्ना से मलेरकोटला होते हुए भी पहुंचा जा सकता है। लुधियाना की तरफ से आते वक्त लुधियाना-समराला रोड सही रुट है। अगर हाइवे पर आगे आ गए हैं तो दोराहा से भी नहर के किनारे वाले रास्ते से नीलों और फिर समराला जाया सकता है।