वर्चुअल प्लेटफार्म पर पार्टिया रचेंगी इतिहास, वाटसएप, फेसबुक, इंस्टाग्राम, यूट्यूब से होगा प्रचार

 

वर्चुअल प्लेटफार्म पर पार्टिया रचेंगी इतिहास, वाटसएप, फेसबुक, इंस्टाग्राम, यूट्यूब से होगा प्रचार

यूपी में 2022 का विधानसभा चुनाव एक नया इतिहास रचने जा रहा है। जिसमें रैलियां होंगी न जनसभाओं में भीड़ उमड़ेगी। पार्टियों को अपना दमखम इस बार आभासी दुनिया यानि वर्चुअल प्लेटफार्म पर दिखाना होगा।

बरेली: यूपी में 2022 का विधानसभा चुनाव एक नया इतिहास रचने जा रहा है। जिसमें रैलियां होंगी न जनसभाओं में भीड़ उमड़ेगी। पार्टियों को अपना दमखम इस बार आभासी दुनिया यानि वर्चुअल प्लेटफार्म पर दिखाना होगा। अपनी बात को ज्यादा लोगों तक पहुंचाने के लिए जरूरत होगी, ज्यादा से ज्यादा इंटरनेट मीडिया यूजर्स की। इसके लिए सभी पार्टियों ने आइटी कंपनियों को पहले से ही काम पर लगा रखा था। अब बरेली मंडल की बात करें तो यहां भी देश और प्रदेश की तरह अब तक इस लड़ाई में भाजपा सबसे आगे है।

हालांकि सपा ने अपनी रफ्तार बढ़ाई है। बीते तीन दिनों से फेसबुक, इंस्टाग्राम आदि पर समाजवादी पार्टी के अलग-अलग जिलों में विभिन्न नामों से अकाउंट सक्रिय हो रहे हैं। हालांकि अभी जनसभाओं और रैलियों पर 15 जनवरी तक ही रोक है, लेकिन बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए यह रोक आगे भी बढ़ने के आसार हैं। इसके चलते ही राजनीतिक दल खुद को पूरी तरह से तैयार करने में लगे हैं।

जिला टीम और मोर्चों के नाम से बने भाजपा के अकाउंट

मंडल भर में भाजपा के जिला और क्षेत्रीय संगठन के अलग अलग मोर्चे भी बने हैं। युवा मोर्चा से लेकिन किसान मोर्चा तक के कार्यकर्ताओं ने अपने फेसबुक अकाउंट बनाए हुए हैं। इंटरनेट मीडिया पर मंडल में भाजपा सबसे अधिक फेसबुक प्लेटफार्म पर मजबूत है। बरेली और बदायूं की बात करें तो यहां भाजपा के जिला संगठन का भाजपा बदायूं, आईटी सेल, भारतीय जनता पार्टी बदायूं, युवा मोर्चा, किसान मोर्चा, महिला मोर्चा, भाजपा पिछड़ा वर्ग मोर्चा आदि नामों के अलावा हर विधानसभा क्षेत्र का भी अलग अकाउंट बना हुआ है। मंडल भर में भाजपा के करीब पांच सौ से ज्यादा अकाउंट सक्रिय हैं।

सपा में पूर्व सांसद से लेकर विधायक तक जुटे

समाजवादी पार्टी ने भी तकनीक के इस समय को पहले से ही समझ लिया था। इसके चलते उनकी तैयारी भी कम नहीं है। बरेली मंडल के जिला बरेली, शाहजहांपुर और बदायूं में सपा के साइबर योद्धाओं ने तगड़ी तैयारी कर रखी है। शनिवार तक सपा के बदायूं में 42, शाहजहांपुर में 32, बरेली 72 और पीलीभीत में 28 अकाउंट सक्रिय थे। लेकिन रविवार और सोमवार को इनकी संख्या बढ़कर तीन सौ के पार पहुंच गई। समाजवादी पार्टी में पूर्व सांसद धर्मेंद्र यादव के अलावा पूर्व विधायकों ने खुद भी कमान संभाल रखी है। समाजवादी पार्टी के हर इवेंट को वह खुद शेयर कर रहे हैं। सपा ने भी अपने फ्रंटल संगठन और विधानसभा वार अकाउंट बनाए हैं।

प्रत्याशियों तक सीमित बसपा, कांग्रेस

2022 के चुनाव से पहले तक इंटरनेट मीडिया से दूर रहने वाली बसपा ने भी अब अपना आटी सेल बना लिया है। हालांकि मंडल के जिलों में यह बहुत सक्रिय नहीं है। लेकिन अब तक घोषित हुए उनके प्रत्याशी इंटरनेट मीडिया पर जोर शोर से छाए हुए हैं। वह फेसबुक, इंस्टाग्राम, यूट्यूब तक पहुंच बना चुके हैं। उनके लिए काम करने वाली आइटी कंपनियों उनके गानों वाली रील, पोस्टर आदि का प्रचार खूब कर रही हैं। यहीं स्थिति कांग्रेस की भी है। जिला टीम में जिलाध्यक्ष व कुछ प्रत्याशिता के दावेदार इंटरनेट मीडिया पर सक्रिय ह

ैं।