तमिलनाडु में संपूर्ण लाकडाउन की नहीं आवश्यकता, जानिए क्या बोले स्वास्थ्य मंत्री एमए सुब्रमण्यम

 

तमिलनाडु में संपूर्ण लाकडाउन की नहीं आवश्यकता

तमिलनाडु के स्वास्थ्य मंत्री एमए सुब्रमण्यम ने मंगलवार को कहा कि राज्य में पूरी तरह से लाकडाउन लगाने की अभी जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि कोरोना की रोकथाम के लिए राज्य में पर्याप्त प्रतिबंध लागू किए गए हैं।

चेन्नई, एएनआइ। देश में कोरोना के मामलों में लगातार उछाल देखने को मिल रहा है। आने वाले दिनों में तमिलनाडु में पोंगल के त्योहार को देखते हुए राज्य सरकार ने कोरोना गाइडलाइंस में बदलाव किया है। कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए तमिलनाडु के स्वास्थ्य मंत्री एमए सुब्रमण्यम ने मंगलवार को कहा कि राज्य में पूरी तरह से लाकडाउन लगाने की अभी जरूरत नहीं है। सुब्रमण्यम ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि कोरोना की रोकथाम के लिए राज्य में पर्याप्त प्रतिबंध लागू किए गए हैं। सुब्रमण्यम ने कहा कि मुख्यमंत्री ने अपने बयान में जोर देते हुए कहा था कि अर्थव्यवस्था प्रभावित नहीं होनी चाहिए।

पूजा स्थलों में लोगों के प्रवेश पर रोक

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि अभी राज्य के हालातों को देखते हुए कुछ प्रतिबंधों के साथ नाइट कर्फ्यू समेत रविवार को पूरी तरह से लाकडाउन लगाना ही उचित है। वहीं, सोमवार से शनिवार तक रात 10 से सुबह 5 बजे तक लोगों को अपने घरों से बाहर निकलने पर रोक रहेगी। 16 जनवरी (रविवार) को आवश्यक सेवाओं को छोड़कर पूरी तरह से लाकडाउन लागू रहेगा। सरकार ने इस हफ्ते कोरोना की रोकथाम के लिए राज्य में पोंगल के त्योहार को देखते हुए 14 से 18 जनवरी तक सभी पूजा स्थलों पर आम जमता के प्रवेश पर रोक लगा दी है। राज्य सरकार के सर्कुलर के मुताबिक पोंगल के लिए विशेष अंतर जिला बसें 75 प्रतिशत क्षमता के साथ चलेंगी।

पिछले 24 घंटों में राज्य का हाल

आपको बता दें कि पिछले 24 घंटों में तमिलनाडु में 13 हजार 990 कोरोना के नए ​​​​मामले सामने आए हैं। 11 कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत हुई है। राज्य के स्वास्थ्य विभाग के अनुसार तमिलनाडु में वर्तमान में कोरोना के 62 हजार 767 सक्रिय मामले हैं। पिछले 24 घंटों में 2 हजार 547 मरीज इस बीमारी से उभर चुके हैं। सरकार ने कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए राज्य में कोविड-19 प्रतिबंधों को 31 जनवरी तक के लिए बढ़ा दिया है।