ओमिक्रोन वैरिएंट अत्यधिक संक्रामक, लेकिन डेल्टा की तुलना में हल्का, जानें- क्या कह रहे विशेषज्ञ

 

वुडलैंड्स अस्पताल की एमडी और सीईओ डा रूपाली बासु। (फोटो एएनआइ)

डा रूपाली बासु के अनुसार कोविड की तीसरी लहर आ गई है दिनभर दिन मामलों की संख्या में इजाफा होगा और फिर यह धीरे-धीरे नीचे आ जाएंगे। उन्होंने कहा कि संक्रामक होने के बावजूद कोरोना के ओमिक्रान वेरिएंट की गंभीरता दूसरी लहर की तुलना में कम होगी।

 कोलकाता, एएनआई: कोलकाता अस्पताल के एक विशेषज्ञ ने कहा कि कोरोनावायरस का ओमिक्रोन वैरिएंट अत्यधिक संक्रामक है, लेकिन डेल्टा की तुलना में हल्का वैरिएंट है। एएनआई से बात करते हुए, वुडलैंड्स अस्पताल की एमडी और सीईओ डा. रूपाली बासु ने कहा की कोविड की तीसरी लहर आ गई है। दिनभर दिन मामलों की संख्या में इजाफा होगा और फिर यह धीरे-धीरे नीचे आ जाएंगे। उन्होंने आगे कहा कि संक्रामक होने के बावजूद इस वैरिएंट की गंभीरता दूसरी लहर की तुलना में कम होगी। बासु ने कहा कि अब तक हम देख सकते हैं कि मरीज पांच-छह दिनों में ठीक हो जाते हैं, लक्षण फ्लू जैसे ही हैं, जैसे बुखार और कमजोरी आदि। कुछ रोगियों में गंध और स्वाद की कमी हो सकती है लेकिन अच्छी बात यह है कि इस बार अस्पताल में कम भर्ती होना होगा। उन्होंने कहा कि ओमिक्रोन डेल्टा वैरिएंट की तरह ज्यादा हानिकारक नहीं है, लेकिन सबको अभी भी सावधान रहने की जरूरत है।है।