लोहड़ी/मकर सक्रांति की धूम, पंजाब से तेलंगाना तक हो रहीं तैयारियां; हरिद्वार में श्रद्धालुओं की एंट्री नहीं- तस्वीरें

 

लोहड़ी/मकर सक्रांति की धूम, पंजाब से तेलंगाना तक हो रहीं तैयारियां; हरिद्वार में श्रद्धालुओं की एंट्री नहीं- तस्वीरें

 कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच साल का पहला त्योहार मकर सक्रांति और लोहड़ी को लेकर देश के विभिन्न राज्यों में तैैयारियां हो रहीं हैं। पंजाब में जहां लोहड़ी के लिए दुकानों पर मिठाईयां बन नहीं हैं वहीं सक्रांति की तैयारियां भी जोरों पर हैं।

नई दिल्ली, एएनआइ। देशभर में लोहड़ी व मकर सक्रांति के आगमन की आहट के संकेत मिल रहे हैं। पंजाब से लेकर कर्नाटक में तैयारियों जोरों पर हैं। वहीं हर साल मकर सक्रांति के मौके पर हरिद्वार में उमड़ने वाली श्रद्धालुओं की भीड़ इस बार कोरोना संक्रमण के बढ़े मामलों के कारण नहीं दिखेगी।

हरिद्वार में इस बार नहीं लगेगी श्रद्धालुओं की भीड़ 

हरिद्वार के जिलाधिकारी विनय शंकर पांडे ने बताया, 'मकर सक्रांति पर अन्य प्रदेशों, प्रदेश के दूसरे हिस्सों और जनपद के श्रद्धालु यहां आते हैं, जो इसबार प्रतिबंधित रहेगा। मकर सक्रांति के स्नान पर्व को प्रतिबंधित किया है, हर की पौड़ी और उसके आसपास के स्नान घाटों में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी।' उन्होंने आगे कहा, 'कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए मकर संक्रांति पर्व पर श्रद्धालुओं के स्नान करने पर प्रतिबंध लगाया गया है। किसी को हर की पौड़ी और उसके आस-पास के स्नान घाटों पर प्रवेश करने की अनुमति नहीं होगी। यदि कोई इसका उल्लंघन करता है तो उसके खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी।'

तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में मकर सक्रांति के आने से पहले ही रंगीन पतंगों से सजी दुकानें दिख रहीं हैं। विक्रेता ने कहा, 'पेपर और ट्रांसपोर्ट की लागत बढ़ने से इस बात पतंगों की कीमतें भी बढ़ गई हैं। हम चीनी मांझा नहीं बेच रहे हैं।' 

वहीं गुजरात के राजकोट में मकर संक्रांति के अवसर पर चिक्की की मांग में बढ़ोतरी देखी गई है। एक चिक्की उत्पादक ने बताया, 'जो लोग राजकोट आते हैं वे चिक्की लेकर ही जाते हैं। ये गुड़ और मूंगफली की बनी होती है, जो सर्दी में काफी अच्छी रहती है। इस बार बिक्री में बढ़ोतरी हुई है।'