सीएम अरविंद केजरीवाल बोले बहुत मजबूरी में प्रतिबंध लगाने पड़ रहे हैं जितनी जल्दी हो सकेगा, हटा लेंगे, पढ़िए और क्या कहा

 

लोकनायक अस्पताल पहुंचकर तैयारियों का जायजा लेने ने के बाद अरविंद केजरीवाल ने मीडिया से बातचीत की।

दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार एक्टिव मोड में है। इसी सिलसिले में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल मंगलवार की सुबह दिल्ली के लोकनायक अस्पताल पहुंचे। उनके दौरे के समय स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन भी मौजूद रहे।

नई दिल्ली, संवाददाता। दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार एक्टिव मोड में है। इसी सिलसिले में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल मंगलवार की सुबह दिल्ली के लोकनायक अस्पताल पहुंचे। उनके दौरे के समय स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन भी मौजूद रहे। अस्पताल पहुंचने के बाद अरविंद केजरीवाल ने अस्पताल में चिकित्सा निदेशक डा. सुरेश कुमार से तैयारियों के बारे में जानकारी ली। यहां से निकलने के बाद उन्होंने कहा कि बहुत मजबूरी में हमें प्रतिबंध लगाने पड़े हैं हम नजर बनाए हुए हैं जितनी जल्दी हो सकेगा हम इसे हटा लेंगे।

उन्होंने कहा कि आज दिल्ली में जो लोग अस्पताल में भर्ती हैं उनमें ऐसे लोगों की संख्या बहुत कम होगी जो केवल कोरोना की बीमारी के लिए अस्पताल में आए। जरूरत पड़ेगी तो हम 37,000 तक बेड तैयार करके 11,000 आईसीयू तैयार कर सकते हैं।इस मौके पर उन्होंने कहा कि कोरोना मरीजों के इलाज के लिए अस्पताल में पूरी तैयारी है। लोकनायक दिल्ली का एकमात्र अस्पताल है जिसने कभी किसी गर्भवती महिला को इलाज के लिए वापस नहीं किया। कोरोना काल में अस्पताल ने कोरोना संक्रमित 700 महिलाओं की सफल डिलीवरी कराई है। अस्पताल किसी भी स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार है।

jagran

केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में दो दिन पहले 22 हजार से ज्यादा मामले आए थे, कल 19 हजार से ज्यादा मामले आए थे आज शाम को आने वाली रिपोर्ट में 20 हजार नए मामले आएंगे। इस तरह दिल्ली में फिलहाल 20-22 हजार के करीब नए मामलों की स्थिरता बनी हुई है। हमारे पास फिलहाल 37 हजार बेड तैयार हैं

उन्होंने बताया कि लोकनायक अस्पताल में अभी कोरोना के 136 मरीज भर्ती हैं, इनमें से छह मरीज पहले से कोरोना संक्रमित होने के चलते भर्ती हुए हैं। वहीं, 130 मरीज ऐसे हैं जो अपनी दूसरी बीमारी का इलाज कराने आए थे और अस्पताल में जांच कराने पर संक्रमित पाए गए।

उन्होंने कहा कि लोकनायक अस्पताल में बेड, दवाइयां और आक्सीजन की व्यवस्थाएं दुरुस्त हैं जो मरीज आ रहे हैं उनका इलाज किया जा रहा है। डॉक्टर इलाज के दौरान संक्रमित न हो इसको लेकर उनको पीपीई किट पहनकर इलाज करने के लिए कहा गया है। इससे पहले भी दूसरी लहर में भी डाक्टरों ने पीपीई किट पहनकर ही इलाज किया था जिससे संक्रमण से बच पाए थे।