अलवर दुष्कर्म मामले में भाजपा नेता प्रियंका गांधी का घेराव करने पहुंचे तो सीएम ने मंत्रियों को भेजा अस्पताल

 

अलवर मामले में भाजपा नेता प्रियंका का घेराव करने पहुंचे तो सीएम ने मंत्रियों को भेजा अस्पताल। फाइल फोटो

अलवर में मूक-बधिर नाबालिग के साथ हुए दुष्कर्म को लेकर राजनीति तेज हो गई है। भाजपा ने राज्य की कांग्रेस सरकार पर निशाना साधते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से इस्तीफा मांगा है। भाजपा नेता कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी का घेराव करने के लिए महिलाओं के साथ सवाईमाधोपुर पहुंच गए।

संवाददाता, जयपुर। राजस्थान के अलवर में मूक-बधिर नाबालिग के साथ हुए दुष्कर्म को लेकर राजनीति तेज हो गई है। भाजपा ने राज्य की कांग्रेस सरकार पर निशाना साधते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से इस्तीफा मांगा है। भाजपा के राज्यसभा सदस्य डा. किरोड़ी लाल मीणा बृहस्पतिवार दोपहर में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी का घेराव करने के लिए महिलाओं के साथ सवाईमाधोपुर पहुंच गए। मीणा और उनके साथ दो बसों में पहुंची महिलाएं उस शेरबाग होटल में जाना चाहते थे, जहां प्रियंका गांधी तीन दिन से अपने स्वजनों के साथ ठहरी हुई हैं। लेकिन पुलिसकर्मियों ने उन्हें होटल से पहले ही रोक लिया गया। मीणा की पुलिस अधिकारियों के साथ काफी देर तक तकरार हुई, लेकिन बाद में सहमति बनी कि आधा दर्जन महिलाएं ज्ञापन दे सकेंगी। इन महिलाओं को पुलिसकर्मी अपने साथ लेकर गए ,लेकिन प्रियंका से मिलवाने के स्थान पर अधिकारियों ने ही ज्ञापन ले लिया। मीणा ने आरोप लगाया कि ज्ञापन देने गई महिलाओं को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। हालांकि जिला कलेक्टर राजेन्द्र किशन ने इस बात से इन्कार किया है। मीणा महिलाओं के साथ धरने पर बैठ गए। 

भाजपा की टीम सवाईमाधोपुर पहुंची

इसी बीच, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया द्वारा गठित वरिष्ठ नेताओं की टीम भी सवाईमाधोपुर पहुंची। इनमें भाजपा की राष्ट्रीय सचिव अलका गुर्जर, महिला मोर्चा की प्रदेश अध्यक्ष अलका मूंदड़ा, सांसद जसकौर मीणा और विधायक रामलाल शर्मा शामिल थे। इन नेताओं ने भी प्रियंका से मिलकर ज्ञापन देने का प्रयास किया, लेकिन पुलिसकर्मियों ने उन्हें पहले ही रोक लिया।

अशोक गहलोत ने आरोपितों की शीघ्र गिरफ्तारी के दिए निर्देश

उधर, गहलोत सरकार भी सक्रिय हो गई है। उद्योग मंत्री शकुंतला रावत, महिला व बाल विकास मंत्री ममता भूपेश, चिकित्सा मंत्री परसादी लाल मीणा, श्रम राज्यमंत्री टीकाराम जुली और बाल अधिकारिता आयोग की अध्यक्ष संगीता बेनीवाल ने अस्पताल में जाकर नाबालिग पीड़िता के माता-पिता से मुलाकात की। चिकित्सकों से पीड़िता के इलाज के बारे में फीडबैक लिया। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पुलिस महानिदेशक एमएल लाठर से बात कर आरोपितों की शीघ्र गिरफ्तारी के निर्देश दिए।

भाजपा ने प्रियंका के नारे से उन्हीं को घेरा

प्रियंका ने उत्तर प्रदेश में "मैं लड़की हूं, लड़ सकती हूं" का नारा दिया है। अब राजस्थान के भाजपा नेताओं ने इस नारे को लेकर ही प्रियंका पर निशाना साधा है। डा. मीणा और पूनिया ने कहा कि प्रियंका को राजस्थान में लड़कियों की रक्षा करनी चाहिए। यहां लड़कियों और महिलाओं पर अत्याचार हो रहे हैं। दुष्कर्म के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। भाजपा नेताओं ने जयपुर के जेके लोन अस्पताल जाकर नाबालिग के स्वास्थ्य की जानकारी भी ली।

जानें, क्या है मामला

मंगलवार रात 14 साल की मूक-बधिर नाबालिग का कुछ लोगों ने अपहरण कर लिया था। सामूहिक दुष्कर्म के बाद पीड़िता को तिजारा फाटक पुलिस पर फेंक कर आरोपित फरार हो गए। कार से नाबालिग को फेंकते हुए कुछ लोगों ने देखा तो पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंचे पुलिसकर्मियों ने नाबालिग को पहले स्थानीय अस्पताल में भर्ती करवाया, जहां से जयपुर के जेके लोन अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया। बुधवार को करीब ढाई घंटे तक आपरेशन चला है। पीड़िता के शरीर के अंदर के पार्ट्स को नुकसान हुआ है। अस्पताल के अधीक्षक डा अरविंद शुक्ला ने बताया नाबालिग के अंदरूनी हिस्से में काफी गहरे घाव हैं। उसका रेक्टम अपनी जगह से खिसक गया है। गुप्तांग में गहरी चोट लगी है। नाबालिग के पेट में छेद कर के अलग रास्ता बनाया गया है, जिससे मल को बाहर निकाला जा सके। गुप्तांग और मल द्वार में काफी चोट आई है। पुलिस ने जहां पीड़िता मिली, वहां से 25 किलोमीटर के दायरे में लगे सीसीटीवी कैमरों के फुटेज खंगाले हैं, लेकिन अब तक आरोपितों के बारे में कोई सुराग नहीं लगा।