पांवटा कांग्रेस ने उठाए भाजपा हस्ताक्षर अभियान के आयोजन पर सवाल

 

पांवटा कांग्रेस ने भाजपा हस्ताक्षर अभियान के आयोजन पर सवाल उठाए हैं।

सिरमौर जिला में डीसी ने कोविड-19 प्रोटोकाल के लिए जो अधिसूचना जारी की है। भाजपा के लोग उन निर्देशों की धज्जियां उड़ा रहे हैं। यह आरोप पांवटा साहिब ब्लक कांग्रेस अध्यक्ष अश्वनी शर्मा ने भाजपा पर लगाए हैं।

नाहन,संवाददाता। सिरमौर जिला में डीसी ने कोविड-19 प्रोटोकाल के लिए जो अधिसूचना जारी की है। भाजपा के लोग उन निर्देशों की धज्जियां उड़ा रहे हैं। यह आरोप पांवटा साहिब ब्लक कांग्रेस अध्यक्ष अश्वनी शर्मा ने भाजपा पर लगाए हैं। कोविड-19 प्रोटोकाल अधिसूचना के अनुसार सभी धार्मिक राजनैतिक कार्यक्रम प्रतिबंधित है। उसमें यह नहीं छपा कि भाजपा के लिए यह नोटिफिकेशन नहीं है।

पांवटा साहिब में जारी एक बयान में पूर्व विधायक चौधरी किरनेश जंग और कांग्रेस ब्लाक अध्यक्ष अश्वनी शर्मा सहित दर्शन सिंह, मनजीत सिंह, प्रदीप चौहान, मोहब्बत अली, नितिन शर्मा ने कहा कि जब पांवटा साहिब में कॉविड महामारी के कारण सरकार द्वारा तरह तरह के प्रतिबंध लगाए जा रहे हैं। बाजार को बंद करने का समय अलग रूप से निश्चित किया गया है। ऐसे में ऊर्जा मंत्री द्वारा जो राजनीतिक कार्यक्रम किए जा रहे हैं। जिसमें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को खुश करने के लिए हस्ताक्षर अभियान एवं भाजपा मंडल द्वारा पंजाब के मुख्यमंत्री का पुतला फूकना एवं रैली निकालना कोविड-19 प्रोटोकाल का उल्लंघन है।

एक तरफ तो प्रशासन ने श्री गुरु गोविंद सिंह जी के जन्मोत्सव को मनाने का कार्यक्रम को अनुमति नहीं दी। तो वहीं दूसरी ओर ऊर्जा मंत्री खुद बाजार के बीच में लोगों को भीड़ ग्रुप में एकत्रित करके प्रशासन की अधिसूचना का मजाक उड़ा रहे हैं। दूसरी ओर स्थानीय लोगों के जीवन को भी खतरे में डाल रहे हैं। जिससे बीमारी बढ़ने का खतरा पैदा हो गया है। प्रशासन को ऊर्जा मंत्री के खिलाफ एवं भाजपा के नेताओं के खिलाफ कानूनी कार्यवाही करनी चाहिए। अन्यथा केवल गरीब व मध्यम वर्ग को परेशान करने के लिए आदेश जारी नहीं करने चाहिए।

जब सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कमेटी गठित कर दी है, तो क्या भाजपा को सुप्रीम कोर्ट पर विश्वास नहीं है। फिर वह इस प्रकार के नाटक क्यों कर रहे हैं। यदि सुखराम चौधरी कोई हस्ताक्षर अभियान चलाना चाहते हैं, तो वह पांवटा साहिब के विकास के लिए चलाएं। वे तो पांवटा साहिब की सड़कों की हालत ठीक करने के लिए, कानून व्यवस्था को ठीक करने के लिए, बिजली के कटों से मुक्ति दिलाने के लिए, अच्छी स्वास्थ्य सुविधाएं देने के लिए, नशे के कारोबार को खत्म करने के लिए, युवा बेरोजगारों को रोजगार देने के लिए अभियान चलाएं। ताकि क्षेत्र के लोगों को कुछ काम मिले और उन्हें महंगाई व बेरोजगारी से निजात मिल सके।