देश के मेंटर कार्यक्रम को साजिश के तहत रुकवा रही भाजपा की केंद्र सरकार: सिसोदिया

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया की फाइल फोटो।

प्रेसवार्ता कर सिसोदिया ने कहा कि भाजपा ने केंद्र सरकार के अंतर्गत आने वाले राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) से ये आदेश दिलाया है कि बच्चों के लिए चलाए जा रहे दिल्ली सरकार के इस कार्यक्रम को बंद कर दे।

नई दिल्ली  ,surender aggarwal। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली सरकार ने देश के पढ़े-लिखे युवाओं को शिक्षा के साथ जोड़ने के लिए देश के मेंटर प्रोग्राम की शुरुआत की है, जिसकी सफलता से घबराकर भाजपा ने साजिश कर इसे रुकवाने का प्रयास किया है। प्रेसवार्ता कर सिसोदिया ने कहा कि भाजपा ने केंद्र सरकार के अंतर्गत आने वाले राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) से ये आदेश दिलाया है कि बच्चों के लिए चलाए जा रहे दिल्ली सरकार के इस कार्यक्रम को बंद कर दे। इसके लिए भाजपा ने साजिश रचते हुए छतीसगढ़ के अपने एक कार्यकर्ता से ये शिकायत डलवाई कि इस कार्यक्रम से बच्चों की सुरक्षा को खतरा है और एनसीपीसीआर ने इसे बंद करने का आदेश दे दिया है।

सही गाइड के लिए शुरू की थी पहल

उपमुख्यमंत्री ने बताया कि सरकारी स्कूलों में बहुत से बच्चे ऐसे हैं जिनके अभिभावक ज्यादा पढ़े-लिखे नहीं है और वो पढ़ाई के लिए अपने बच्चों को सही से गाइड नहीं कर पाते। इसलिए दिल्ली सरकार ने देश के पढ़े-लिखे युवाओं से आह्वान किया कि वो आगे आएं और सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चे जिन्हें मेंटरिंग की जरूरत है उन्हें हफ्ते में केवल 10 मिनट फोन काल के माध्यम से देकर उनकी मदद करें।

सरकार के आह्वान पर जुड़े 44000 से ज्यादा कार्यकर्ता

दिल्ली सरकार के इस आह्वान पर 44,000 युवा इस कार्यक्रम से जुड़े हैं। इनमें आइआइटी और आइआइएम से 1000 से ज्यादा युवा, ग्रेजुएशन से लेकर पीएचडी कर रहे 15,600 युवा और 7,500 वो युवा शामिल हैं जो पढ़ाई पूरी कर किसी अच्छी जगह जाब कर रहे हैं। इन युवाओं ने 1.76 लाख बच्चों की मेंटरिंग करना शुरू किया है और ये आज एक सफल कार्यक्रम है।

दिल्ली सरकार रख रही सुरक्षा का पूरा ध्यान

सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली सरकार ने बच्चों की सुरक्षा का भी पूरा ध्यान रखा है। मेल मेंटर को मेल मेंटी और फीमेल मेंटर को फीमेल मेंटी दिए गए हैं। मेंटर का साइकोमेट्रिक टेस्ट भी लिया गया। जो मेंटर इस टेस्ट में पास नहीं हुए उन्हें मेंटी नहीं दिए गए। इसके साथ ही मेंटी के अभिभावक से भी उनके बच्चों को इस कार्यक्रम में शामिल करने के लिए अनुमति मांगी गई।

भाजपा का आरोप स्कूली बच्चों का नहीं हुआ है पुलिस वेरिफिकेशन

उपमुख्यमंत्री ने बताया कि भाजपा का कहना है कि स्कूली बच्चों का पुलिस वेरिफिकेशन नहीं करवाया गया। उन्होंने कहा कि हद तो तब हो गई जब एनसीपीसीआर ने कहा कि इससे चाइल्ड ट्रैफिकिंग और साइबर क्राइम हो सकता है। इसका सीधा मतलब निकलता है कि यदि आइआइटी से निकला कोई युवा गरीब घर के बच्चों को ये समझने में गाइड करे कि वह आइआइटी में कैसे जा सकते हैं? भाजपा इस मदद को चाइल्ड ट्रैफिकिंग और साइबर क्राइम समझती है। उन्होंने कहा कि भाजपा आइआइटी-आइआइएम से पढ़े युवाओं पर ये तोहमत तो न लगाए कि उनके मेंटरिंग करने से चाइल्ड ट्रैफिकिंग और साइबर क्राइम बढ़ेगा।

केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा ना करें राजनीति

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अगर देश में कोई अच्छा काम हो रहा है तो उसे रोकने की बजाय पूरे देश में लागू करना चाहिए। केंद्र की भाजपा सरकार से निवेदन है कि इसमें राजनीति ना करें। ये गरीब बच्चों के भविष्य का सवाल है। इस कार्यक्रम के जरिए शिक्षा एक जनांदोलन बन रहा है।