कर्नाटक कांग्रेस ने मेकेदातु पदयात्रा को स्थगित करने का लिया फैसला, जानें क्यों हुई वरिष्ठ नेताओं पर FIR

 

कर्नाटक कांग्रेस ने मेकेदातु पदयात्रा को स्थगित करने का लिया फैसला

राज्य कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने बेंगलुरु में मेकेदातु पदयात्रा के अंतिम कार्यक्रम को स्थगित करने का फैसला लिया है। अधिकारियों की ओर से प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डी.के. शिवकुमार को पदयात्रा में भाग न लेने के लिए नोटिस जारी किया गया है।

कर्नाटक,आइएएनएस। राज्य कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने बेंगलुरु में मेकेदातु पदयात्रा के अंतिम कार्यक्रम को स्थगित करने का फैसला लिया है। कर्नाटक हाईकोर्ट द्वारा अवलोकन के बाद विपक्ष के वरिष्ठ नेताओं ने पदयात्रा के संबंध में भविष्य की कार्रवाई पर चर्चा करने के लिए रामनगर कार्यालय में एक बैठक आयोजित की। बैठक में शिवकुमार, सिद्धारमैया और अन्य वरिष्ठ नेता शामिल रहे। बैठक में कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते पदयात्रा को स्थगित करने का अंतिम फैसला लिया गया।

कांग्रेस नेताओं को नोटिस जारी

इससे पहले कर्नाटक सरकार ने गुरुवार सुबह मेकेदातु पदयात्रा में भाग लेने वाले कांग्रेस नेताओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई शुरू की। मेकेदातु पदयात्रा अपने पांचवे दिन में प्रवेश कर चुकी थी। हालांकि कांग्रेस सांसद डी.के सुरेश ने कहा था कि पदयात्रा हर हालत में जारी रहेगी। अधिकारियों की ओर से प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डी.के. शिवकुमार को पदयात्रा में भाग न लेने के लिए नोटिस जारी किया गया। नोटिस के माध्यम से कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष को चेतावनी दी गई कि अगर वह प्राकृतिक आपदा प्रबंधन अधिनियम (एनडीएमए) के प्रावधानों का उल्लंघन करते है तो उन पर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

कांग्रेस नेताओं पर दर्ज एफआईआर

हालांकि प्रदेशाध्यक्ष शिवकुमार ने नोटिस को स्वीकार करने से साफ इनकार किया था। अधिकारियों ने कनकपुरा में शिवकुनार के आवास के प्रवेश द्वार पर नोटिस चिपका दिया है। रामनगर ग्रामीण पुलिस ने शिवकुमार, सिद्धारमैया, डी.के. सुरेश और अन्य वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं के खिलाफ कर्फ्यू के आदेशों का उल्लंघन करने के तहत एफआईआर भी दर्ज की। पुलिस सुबह से ही अन्य स्थानों के वाहनों को पदयात्रा में भाग लेने के लिए रामनगर जिले में प्रवेश करने से रोक रही थी। पदयात्रा का समर्थन करने वाले खासतौर पर स्टिकर वाले वाहनों को रोका जा रहा था।

अधिकारियों को पदयात्रा रोकने के निर्देश

मुख्य सचिव पी. रविकुमार ने पदयात्रा को रोकने के निर्देश जारी किए थे। कर्नाटक हाईकोर्ट द्वारा पदयात्रा को तुरंत रद्द करने के आदेश के बाद अधिकारियों को इसे रोकने के निर्देश जारी किए गए है। इससे पहले कांग्रेस सांसद डी.के. सुरेश ने कहा कि पदयात्रा योजना के अनुसार ही जारी रहेगी। सरकार ने शिवकुमार (उनके बड़े भाई) को एक अधिकारी द्वारा हस्ताक्षरित नोटिस भेजा है, जो कोरोना पाजिटिव मरीज है। उन्होंने कहा कि हमें यहां नोटिस प्राप्त नहीं हुआ है। इसके नोटिस में क्या लिखा है, हमें नहीं पता है।