100 वर्ष पूरे होने पर एक मई से डीयू में होगी जश्न की शुरुआत, लोगो का भी हुआ चयन

 

डीयू के सौ साल पूरे होने के उपलक्ष्य में जारी लोगो।

इस साल डीयू अपने सौ साल पूरे करने जा रहा है। इसके उपलक्ष्य में एक मई को कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। डीयू में 2000 कि क्षमता वाले 2 नए हॉस्टल बनाये जा रहे हैं। 100 जगहों पर वृक्षारोपण की भी योजना है।

नई दिल्ली,  संवाददाता। दो महीने बाद मई में दिल्ली विश्वविद्यालय अपने स्थापना के 100 वर्ष पूरे कर रहा है। इसी के उपलक्ष्य में दिल्ली विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर योगेश सिंह की प्रेस कान्फ्रेंस हुई और उन्होंने एक मई को होने वाले मुख्य कार्यक्रम में स्टाम्प, सिक्का और लोगो जारी किया जाएगा। डीयू के 100 वर्ष पूरे होने पर लोगो का चयन कर लिया गया है। इसे गार्गी कालेज की छात्रा कृतिका खींची ने तैयार किया है। गौरतलब है कि डीयू का शताब्दी वर्ष का लोगो तैयार करने के लिए एक प्रतियोगिता हुई थी, जिसमें विभिन्न कॉलेज की छात्राओं ने प्रतिभाग किया था। आखिरकार गार्गी कालेज की छात्रा कृतिका खींची का लोगा चयनित किया गया है।

jagran

इसमें गार्गी कालेज की छात्रा कृतिका खींची द्वारा बनाया गया लोगो चुना गया। इस मौके पर डीयू के इतिहास पर एक किताब, कॉफ़ी टेबल बुक लांच की जाएगी। एसओएल में यूजी और पीजी में मैनेजमेंट और इकोनॉमिक्स के चार नए पाठ्यक्रम शुरू किए जाएंगे। दरअसल, डीयू में 2000 कि क्षमता वाले 2 नए हॉस्टल बनाये जा रहे हैं। 100 जगहों पर वृक्षारोपण की भी योजना है। गांव में आउटरीच एक्टिविटी, गांव के विकास मेभी छात्र योगदान देंगे।

jagran

डीयू के सूत्रों ने बताया कि रिपोर्ट में एबीसीडी माडल के तहत पूर्व छात्रों का सहयोग लेना, शैक्षणिक अंतराल को पाटना, कम्युनिटी आउटरीच और लोकतांत्रिक लोकाचार के लिए तत्पर रहने पर जोर दिया जाएगा। इसके तहत अगले साल एक मई तक विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। इन कार्यक्रमों पर आजादी के अमृत महोत्सव की छाप भी दिखेगी। पूर्व के कुलपति, छात्रों समेत शिक्षकों को शताब्दी वर्ष के मुख्य समारोह में सम्मानित किया जाएगा। यही नहीं सभी विभागों को निर्देश दिए जाएंगे कि साल में कम से कम एक बार कार्यक्रम आयोजित जरूर करें। इसके अलावा डीयू अपने शताब्दी वर्ष में काफी टेबल बुक लांच करेगा। वहीं, लाइट एंड साउंड शो भी आयोजित किए जाएंगे।

शताब्दी वर्ष में ये भी होगा खास

  • इनोवेशन प्रोजेक्ट के लिए समिति।
  • शताब्दी वर्ष में विशेष अवार्ड व फेलोशिप दिए जाएंगे।
  • डीयू के ऐतिहासिक घटनाक्रम पर केंद्रित शताब्दी पार्क बनाया जाएगा।
  • शताब्दी वेधशाला भी शुरू की जाएगी।
  • विभिन्न खेल प्रतियोगिताओं के मेडल भी शताब्दी वर्ष केंद्रित होंगे।
  • पूर्व छात्रों की मदद से 'स्टूडेंट सपोर्ट फंड' बनाया जाएगा।
  • शैक्षणिक, गैर शैक्षणिक कर्मचारियों, छात्रों के लिए प्रतियोगिताएं आयोजित की जाएंगी।