दुबई एक्सपो में करीब 17 लाख लोगों ने इंडिया पवेलियन का किया दौरा: केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर

 

दुबई एक्सपो में बने इंडिया पवेलियन में लगभग 17 लाख लोगों ने किया दौरा

दुबई एक्सपो 2020 में इंडिया पवेलियन में भाग लेने के लिए दुबई में मौजूद केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने रविवार को एमिरेट्स जाब्स एंड स्किल्स (TEJAS) के लिए प्रशिक्षण की शुरुआत। साथ ही केंद्रीय मंत्री ने यह भी बताया कि दुबई एक्सपो में भारतीयों की भागीदारी बढ़ी है।

दुबई, एएनआइ। सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने रविवार को कहा कि दुबई एक्सपो 2020 में

में भारत के पवेलियन में अबतक लगभग 17 लाख लोग आ चुके हैं।‌ उन्होंने बताया कि दुबई एक्सपो में इंडिया पवेलियन देखने के लिए लोग बड़ी संख्या में इकट्ठा हुए हैं, जिसमें लोग योग, पर्यटन, कपड़ा, आयुर्वेद, ब्रह्मांडीय दुनिया और सिनेमा जगत सहित भारतीय प्रदर्शनियों को देखने के लिए बेहद उत्साहित दिखे। केंद्रीय मंत्री अनुराग ने बताया कि लोगों का भारी मात्रा में यहां आना यह दिखाता है कि उनका भारत के प्रति काफी आकर्षण है।

क्या कहा केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने

केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने 26 मार्च को दुबई एक्सपो 2020 में इंडिया पवेलियन में भाग लिया था। जिसके बाद उन्होंने रूस-यूक्रेन संकट के बीच ईंधन की कीमतों में बढ़ोतरी के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा, 'दुनिया के एक भाग में युद्ध चल रहा है, उसका प्रभाव दुनिया के बहुत सारे सेक्टर पर पड़ रहा है। दुनियाभर में कच्चे तेल के दाम बढ़े हैं और इसका असर भी दुनियाभर की अर्थव्यवस्थाओं पर पड़ा है।' उन्होंने आगे कहा कि तेल की कीमतें न केवल भारत में बढ़ी हैं, बल्कि देश के बाहर की स्थिति के कारण तेल के दाम बढ़े हैं।

केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने वैश्विक महामारी कोरोना वायरस का जिक्र करते हुए बताया, 'दुनिया एक संकट से गुज़री है, जहां भारत ने 180 करोड़ लोगों को मुफ्त COVID-19 टीके उपलब्ध कराए हैं और 80 करोड़ से अधिक लोगों को 2 साल के लिए मुफ्त खाद्यान्न वितरित किया है। इसे और 6 महीने के लिए विस्तारित करने का निर्णय भारत में लोगों के लिए बहुत बड़ा समर्थन होगा।'

इससे पहले, केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने प्रवासी भारतीयों को प्रशिक्षित करने के लिए एक स्किल इंडिया इंटरनेशनल प्रोजेक्ट TEJAS (ट्रेनिंग फार एमिरेट्स जाब्स एंड स्किल्स) भी लान्च किया। इसका उद्देश्य भारतीयों को कौशल, प्रमाणन और विदेशों में रोजगार देना है। सूचना और प्रसारण मंत्रालय के एक प्रेस बयान के अनुसार, तेजस का लक्ष्य यूएई में भारतीय कार्यबल को कौशल और बाजार की आवश्यकताओं के लिए सक्षम बनाने के लिए मार्ग बनाना है।