बठिंडा में बच्चे को अगवा कर फिरौती मांगने वाले दो व्यक्तियों को उम्रकैद, 2017 में बंदूक की नोक पर किया था अपरहण

 

बठिंडा कोर्ट ने बच्चे को अगवा कर फिरौती मांगने वाले दो व्यक्तियों को उम्रकैद की सजा सुनाई है।

बठिंडा कोर्ट ने प्रो. एमएल अरोड़ा के पोते का अपहरण कर फिरौती की मांग करने वाले दो लोगों को आजीवन कारावास व उनके साजिशकर्ताओं को साढ़े चार साल के कारावास की सजा सुनाई है। दोनों आरोपितों ने 50 लाख रुपये की फिरौती मांगी थी।

संवाददाता, बठिंडा। बठिंडा कोर्ट ने संत कबीर कान्वेंट स्कूल भूचो खुर्द के मालिक प्रो. एमएल अरोड़ा के पोते का अपहरण कर फिरौती की मांग करने वाले दो लोगों को आजीवन कारावास व उनके साजिशकर्ताओं को साढ़े चार साल के कारावास की सजा सुनाई है। संत कबीर स्कूल के मालिक प्रो. एमएल अरोड़ा के पोते व डा. दीपक अरोड़ा के बेटे सोमल का 2017 में जयदेव सिंह व बलजीत कुमार ने बंदूक की नोक पर अपहरण कर लिया था। जबकि साजिश संत कबीर स्कूल के पूर्व कर्मचारी हरभजन सिंह उर्फ हैरी ने रची थी। उसकी योजना के आधार पर ही दोनों आरोपितों ने सोमल का अपहरण कर लिया व उसकी रिहाई के लिए 50 लाख रुपये की फिरौती मांगी।पीड़ित ने बच्चे के अपहरण की सूचना पुलिस को दी, जिसके बाद पुलिस ने तत्काल कार्रवाई की। थाना सिविल लाइन पुलिस ने 27 सितंबर 2017 को अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ अपहरण की धाराओं के तहत मामला दर्ज कर उनकी तलाश शुरू कर दी है। पुलिस ने जिले में सख्त नाकेबंदी की। इसी दौरान अपहरणकर्ता बच्चे को कार में सवार कर हरियाणा ले जा रहे थे, तभी पुलिस ने गांव किशनपुरा कुटी के पास एक चेक पोस्ट पर वाहन रोकने का इशारा किया। लेकिन अपहरणकर्ताओं ने भागने की कोशिश की, जिससे कार खेतों में गिर गई। इस दौरान जब पुलिस ने अपहरणकर्ताओं का पीछा किया तो उनमें गोलीबारी भी हुई।

इस घटना के बाद पुलिस ने कार से अपहृत बच्चे सोमल को बरामद कर लिया। जिसके बाद पुलिस ने दोनों अपहरणकर्ताओं को गिरफ्तार कर उनके पास से दो पिस्टल बरामद की। जबकि अपहरण में इस्तेमाल वाहन की नंबर प्लेट भी फर्जी पाई गई। आरोपी ने पूछताछ में बताया था कि सोमल के अपहरण की साजिश संत कबीर स्कूल से निकाले गए कर्मचारी हरभजन सिंह उर्फ हैरी ने रची थी। पुलिस ने बाद में साजिशकर्ता हरभजन उर्फ हैरी को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस पर गोली चलाने के आरोप में उसी दिन संगत मंडी थाने में जयदेव सिंह व बलजीत कुमार के खिलाफ सुनियोजित हत्या का एक अलग मामला भी दर्ज किया गया था।

मुदई पक्ष के वकील अमृतपाल सिंह व करमिंदर सिंह सोढ़ी ने कहा कि पुलिस ने दोनों मामलों में अदालत में चालान पेश किया था। जिस पर सुनवाई करते हुए एडिशनल सेशन जज बलजिंदर सिंह सरां की अदालत ने अपहरण मामले में जयदेव सिंह व बलजीत कुमार को उम्रकैद व पांच पांच हजार के जुर्माना की सजा सुना दी। जबकि साजिशकर्ता हरभजन सिंह उर्फ हैरी को साढ़े चार साल की सजा सुनाई गई। वहीं जुर्माना न भरने की स्थिति में सभी को एक एक माह की अतिरिक्त सजा भुगतनी होगी। इसके अलावा वकीलों ने बताया कि जयदेव व बलजीत कुमार को गिरफ्तारी के समय गोली चलाने के मामले में दो-दो साल व दो-दो हजार रुपये की सजा सुनाई गई है।