कांग्रेस के 30 पदाधिकारियों ने दिल्‍ली में थामा आप का दामन

 

दिल्‍ली में आम आदमी पार्टी में शामिल हुए युवा कांग्रेस के कार्यकर्ता।

YC Congress Leaders Join AAP सोमवार को दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन से मुलाकात के बाद हिमाचल युवा कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष मनीष ठाकुर की अगुआई में प्रदेशभर से करीब 30 पदाधिकारियों ने आप (आम आदमी पार्टी) का दामन थाम लिया।

सोलन/सिरमौर। YC Congress Leaders Join AAP, पंजाब में जीत के बाद जोश से लबरेज आम आदमी पार्टी की हिमाचल में भी बढ़ती सक्रियता के बाद कांग्रेस के लिए एक के बाद एक झटके मिल रहे हैं। कुछ दिन पहले कांग्रेस के प्रदेश सचिव व जिला परिषद सोलन के पूर्व चेयरमैन धर्मपाल चौहान ने अपने पद से इस्तीफा देकर दिल्ली में आप का दामन थाम लिया था। अब सोमवार को फिर से प्रदेश कांग्रेस को जोरदार झटका लगा है। प्रदेश के विभिन्न जिलों से कांग्रेस के 30 छोटे-बडे़ नेताओं ने यूथ कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष मनीष ठाकुर के नेतृत्व में कांग्रेस का हाथ छोड़कर दिल्ली में आम आदमी पार्टी का दामन थाम लिया।

पार्टी में युवाओं की अनदेखी से नाराज युवा नेताओं ने अपने भविष्य को देखते हुए आप में शामिल होने का निर्णय लिया। कसौली विस क्षेत्र से बीडीसी सदस्य भानु शर्मा ने अपने जिला कांग्रेस सचिव पद से इस्तीफा दे दिया है। वहीं कसौली कांग्रेस के युवा नेता व प्रदेश कांग्रेस के सचिव साजिद अली समेत कई जिलों के पदाधिकारी इसमें शामिल हैं। वहीं मनीष ठाकुर पांवटा साहिब के युवा नेता हैं जो संगठन में प्रदेश से लेकर राष्ट्रीय स्तर तक विभिन्न पदों पर रहे हैं।

बता दें कि, सोलन के कोटलानाला स्थित एक निजी आवास में रविवार को हुई एक गोपनीय बैठक में मनीष ठाकुर के नेतृत्व में पार्टी में युवा तुर्क की अनदेखी पर चर्चा हुई और अपने भविष्य को देखते हुए दिल्ली में आप में शामिल होने का निर्णय लिया गया। बताया जा रहा है कि बैठक में मौजूद सभी 30 पदाधिकारी व कार्यकर्ता हर जिले से हैं। बैठक खत्म होने के बाद रात को ही सभी दिल्ली रवाना हो गए थे। आज उन्होंने दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री एवं हिमाचल में चुनाव प्रभारी सत्येंद्र जैन के साथ मुलाकात कर भविष्य को लेकर मंत्रणा की और उसके बाद सभी को पार्टी का पटका पहनाकर संगठन में शामिल किया गया। उसके बाद आप मुख्यालय में ही प्रेसवार्ता में भी शामिल हुए। एक पदाधिकारी ने बताया कि प्रेसवार्ता के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री एवं आप के राष्ट्रीय कन्वीनर अरविंद केजरीवाल से भी मुलाकात करेंगे।

कांग्रेस में अनदेखी से थे नाराज

दिल्ली गए पदाधिकारियों ने बताया कि पिछले काफी समय से पार्टी में युवाओं की अनदेखी हो रही है। पार्टी में नेता पुत्रों को ही तरजीह दी जा रही है। संगठन में प्रदेश से लेकर ऊपर तक कोई भी आम कार्यकर्ता काे सुनने वाला नहीं है। ऐसे में पार्टी से किनारा कर लेना ही बेहतर विकल्प था। उनका कहना था कि पार्टी में पिछले दो दशकों से ईमानदारी के साथ काम करने के बावजूद कोई पूछ नहीं है। प्रदेश भर में किसी भी सीट से संघर्षशील युवा कार्यकर्ताओं को टिकट के समय मुंह फेर लिया जाता है। ऐसे में आम आदमी पार्टी में भविष्य को देखते हुए, उसमें शामिल होने का सामूहिक निर्णय लिया गया था। दिल्ली में आप नेताओं के साथ बैठक से पहले कांग्रेस मुख्यालय में कांग्रेस नेताओं से मुलाकात की, लेकिन सार्थक चर्चा न होने के बाद आप के कार्यालय में जाकर संगठन में शामिल हुए।

मनीष मांग रहे थे टिकट

jagran

युवा कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष मनीष ठाकुर पिछले लंबे समय से कांग्रेस पार्टी से पांवटा साहिब विधानसभा क्षेत्र से टिकट मांग रहे थे, जबकि कांग्रेस पार्टी उन्हें लगातार आश्वासन ही दे रही थी। इसके चलते मनीष अपनी पूरी टीम के साथ सोमवार को आम आदमी पार्टी में शामिल हो गए हैं। कयास लगाए जा रहे हैं कि आगामी विधानसभा चुनाव में मनीष ठाकुर पांवटा साहिब विधानसभा क्षेत्र से आम आदमी पार्टी के प्रत्याशी होंगे।

मनीष ठाकुर ने इस्‍तीफे में यह बात लिखी

युवा कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष मनीष ठाकुर ने सोमवार को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। कांग्रेस के अग्रणी संगठन (फ्रंटल आर्गेनाइजेशन) एनएसयूआइ में वर्ष 1998 में जुड़े थे। वह युवा कांग्रेस के लंबे समय तक अध्यक्ष रहे थे। उन्होंने खुद ही अध्यक्ष पद से त्यागपत्र दिया था। पार्टी हाईकमान को भेजे इस्तीफे में उन्होंने लिखा, पिछले 25 वर्षों के राजनीतिक और सामाजिक संघर्ष के बावजूद कांग्रेस पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से त्यागपत्र दे रहा हूं। जिस मकसद और सोच के साथ मैंने हजारों साथियों ने इस संघर्ष में योगदान दिया है उस संघर्ष को बड़े नेताओं की राजनीतिक तानाशाही और संगठन के भीतर मौजूद चाटुकारों ने खोखला करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। आज संगठन में सिर्फ और सिर्फ खास नेताओं की पसंद के लोगों की फौज रह गई है, जिसकी वजह से संगठन की यह दुर्गति हुई है। हम रास्ता बदल सकते हैं, लेकिन हमारे हौसले और संघर्ष उसी बुलंदी के साथ रहेंगे। उन्होंने उन हजारों संघर्ष के साथियों को संघर्ष के सफर में योगदान देने के लिए दिल की गहराई से धन्यवाद किया है। उन्होंने उम्मीद जताई कि सभी भी इस राजनीतिक तानाशाही और व्यवस्था परिवर्तन की लड़ाई में जरूर कदम से कदम मिलाकर अपना बहुमूल्य योगदान दें। 

वर्ष 1998 में ज्वाइन की थी एनएसयूआइ

मनीष ठाकुर ने वर्ष 1998 में एनएसयूआइ ज्वाइन की। वर्ष 1999 में वह एनएसयूआइ के पीजी कालेज सोलन में अध्यक्ष चुने गए। वर्ष 2003 से 2007 तक वह राज्य महासचिव रहे। 2007 से 2011 तक युवा कांग्रेस के महासचिव रहे। इसके बाद 2011 से 2013 तक शिमला संसदीय क्षेत्र का अध्यक्ष बनाया गया। 2013 से 2015 तक वह युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव रहे। 2015 से 2018 तक वह युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव के पद पर रहे। 2018 से 2020 तक वह प्रदेश युवा कांग्रेस के अध्यक्ष रहे। उत्‍तराखंड, राजस्थान, छत्तीसगढ़, दिल्ली ओर पश्चिमी यूपी के प्रभारी भी रह

े।