क्या इन 4 वजहों से लोग डीडीए के फ्लैट खरीदने में नहीं दिखा रहे रुचि

 

DDA Flat News : क्या इन 4 वजहों से लोग डीडीए के फ्लैट खरीदने में नहीं दिखा रहे रुचि

DDA Housing Scheme 2021 दिल्ली विकास प्राधिकरण की दिसंबर में लान्च हुई विशेष आवासीय योजना 2021 को लेकर लोगों ने कुछ खास इच्छा नहीं दिखाई। ईडब्ल्यूएस फ्लैट की कीमत में 40 प्रतिशत तक की छूट भी लोगों को नहीं लुभा पाई।

नई दिल्ली। दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) की आवासीय योजना एक बार फिर विफल साबित हुई है, जो अत्यंत निराशाजनक है। मामला तब और भी गंभीर हो जाता है, जब यह सामने आता है कि ऐसा पहली बार हो रहा है, जबकि यह योजना जितने फ्लैटों के लिए थी, उतने लोग भी इसके ड्रा में शामिल नहीं होंगे। दरअसल, करीब दस हजार लोगों ने पंजीकरण कराने के बावजूद पंजीकरण शुल्क नहीं जमा किया, जो डीडीए के फ्लैटों को लेकर लोगों में हो रहे मोहभंग को साफ दर्शाता है। वहीं, इससे यह भी संकेत मिलता है कि जहां ये फ्लैट बनाए गए हैं, उन इलाकों में डीडीए फ्लैटों के आसपास बेहतर सुविधाएं मुहैया कराने में विफल रहा है, यही वजह है कि लोगों में इन फ्लैटों को लेकर कोई रुचि नहीं है।

हैरत की बात तो यह है कि आवासीय योजना की यह स्थिति तब है, जबकि डीडीए दावा कर रहा है कि इस बार लोगों को कम कीमत पर फ्लैट मुहैया कराए जा रहे हैं, यानी पिछली आवासीय योजना की कीमत पर ही फ्लैट बेचे जा रहे हैं। यही नहीं, नरेला में ईडब्ल्यूएस फ्लैट की कीमत में 40 प्रतिशत तक की छूट भी दी जा रही है।

इन सवालों के तलाशने होंगे जवाब

प्रश्न यह उठता है कि आखिर डीडीए के फ्लैटों का आकर्षण खत्म क्यों होता जा रहा है। क्या डीडीए के फ्लैट गुणवत्ता व सुविधाओं के मामले में निजी बिल्डरों के फ्लैटों के मुकाबले कम हैं या इनकी कीमत निजी बिल्डरों के फ्लैटों की तुलना में ज्यादा है? डीडीए भले कम कीमत पर फ्लैट देने का दावा कर रहा है, लेकिन उसे इन पहलुओं पर गंभीरता से विचार करना चाहिए और फ्लैटों में लोगों की रुचि न होने के सही कारणों का पता लगाना चाहिए। डीडीए के गठन का उद्देश्य दिल्ली का नियोजित विकास करने के साथ ही लोगों को अच्छी गुणवत्ता के फ्लैट उचित कीमत पर उपलब्ध कराना है। ऐसे में डीडीए के उच्चाधिकारियों को चाहिए कि वे इस तरह से गुणवत्ता वाले व आवश्यक सुविधाओं से युक्त फ्लैट तैयार करें कि लोगों में डीडीए के फ्लैटों के लिए पहले की तरह फिर से रुचि पैदा हो और वे फ्लैटों को हाथोंहाथ लें।