अब महाठग की गिरफ्तारी को पुलिस ने नकारा, 50 लाख रुपये की धोखाधड़ी का है मुकदमा

 

पुलिस टीमों ने गिरफ्तारी से इन्कार भी कर दिया। प्रतीकात्मक फोटो।

मेरठ शहर में भाजपा नेता पूजा बंसल को ऊंचा पद दिलाने का झांसा देकर विष्णु ने पचास लाख रुपये ऐंठ लिए थे। हमीरपुर पुलिस ने महाठग को भंडारे से उठाया था। ठग विष्णु बाबू दिवाकर सचेंडी में दर्ज मुकदमे में 25 हजार का इनामिया है ।

कानपुर/हमीरपुर,  संवाददाता। खुद को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का पदाधिकारी बताकर नौकरी लगवाने के नाम पर ठगी करने वाले विष्णु बाबू दिवाकर को हमीरपुर की स्वाट टीम ने पकड़ लिया। वह कानपुर आउटर के घाटमपुर थानाक्षेत्र स्थित बरीपाल गांव के मंदिर में भंडारा करा रहा था। महाठग की गिरफ्तारी की खबर जितनी तेजी से फैली, उतनी ही तेजी से पुलिस टीमों ने गिरफ्तारी से इन्कार भी कर दिया। हमीरपुर के साथ कानपुर आउटर पुलिस और यहां तक कि दोनों जिलों से जुड़े आला अधिकारियों ने भी गिरफ्तारी से अनभिज्ञता जता दी। सवाल यह है कि जब आरोपित को गिरफ्तार कर लिया गया है तो पुलिस उसका चालान क्यों नहीं कर रही है।

मूलत: औरैया निवासी महाठग अपनी ससुराल कानपुर नगर के सचेंडी के सीढ़ी इटारा में परिवार के साथ रह रहा है। जुलाई-2021में एडीजी जोन भानु भास्कर के हस्तक्षेप के बाद मेरठ निवासी भाजपा नेत्री पूजा बंसल की तहरीर पर उसके खिलाफ 50 लाख रुपये की धोखाधड़ी का मुकदमा कानपुर आउटर के सचेंडी थाने में दर्ज हुआ था। विष्णु बाबू ने राममंदिर निर्माण में सहयोग और विधानसभा चुनाव में टिकट दिलाने का झांसा देकर पूजा बंसल से ठगी की थी। तबसे वह फरार चल रहा था। उस पर पहले भी धोखाधड़ी के कई मुकदमे दर्ज हो चुके हैं। सचेंडी मामले में फरारी पर विष्णु बाबू पर 25 हजार रुपये का इनाम भी घोषित है। यहां मुकदमा दर्ज होने के बाद उसके खिलाफ मेरठ में भी मुकदमे दर्ज हुए थे।

महाठग की तलाश में हमीरपुर, औरैया, मेरठ के साथ कानपुर आउटर पुलिस भी लगी थी। सूत्रों के मुताबिक इस प्रयास में हमीरपुर पुलिस को सफलता मिल गई है। सर्विलांस पर आरोपित की पहले लोकेशन सीढ़ी इटारा मिली, लेकिन बाद में उसका मोबाइल बंद हो गया। कुछ समय बाद जब मोबाइल आन हुआ तो लोकेशन घाटमपुर के बरीपाल में थी। हमीरपुर पुलिस की स्वाट टीम ने मंगलवार शाम उसे बरीपाल मंदिर में भंडारा कराते समय उठा लिया। हालांकि बुधवार को हमीरपुर पुलिस ने गिरफ्तारी से इन्कार कर दिया। अब सवाल यह है कि आखिर पुलिस ऐसा क्यों कर रही है।

महिला मंत्री को अश्लील मैसेज करने के बाद आया निशाने पर

सूत्रों के मुताबिक अपनी पहुंच का इस्तेमाल कर वह धोखाधड़ी के मुकदमे होने के बाद भी बच रहा था। अचानक पुलिस तब सक्रिय हुई, जब उसने भाजपा की एक महिला मंत्री को अश्लील मैसेज भेज दिया।

अधिकारी बोले....

विष्णु बाबू दिवाकर की गिरफ्तारी अभी नहीं हुई है। मीडिया में चल रहीं गिरफ्तारी की खबरें सही नहीं हैं। गिरफ्तार होगा तो जानकारी देंगे।- प्रेम प्रकाश, एडीजी प्रयागराज जोन

कानपुर आउटर से विष्णु की गिरफ्तारी की चर्चा है। एसपी कानपुर आउटर से बात की है। वह ऐसी किसी कार्रवाई की जानकारी से इन्कार कर रहे हैं।- प्रशांत कुमार, आइजी कानपुर

ठग की गिरफ्तारी के संबंध में हमीरपुर पुलिस ने कोई सूचना नहीं दी है। अधिकारियों ने हमीरपुर पुलिस से संपर्क किया तो भी कोई स्पष्ट जानकारी नहीं दी गई।- अजीत कुमार सिन्हा, एसपी कानपुर आउटर

हमीरपुर पुलिस ने विष्णु बाबू दिवाकर के नाम से कोई गिरफ्तारी नहीं की है। पुलिस दूसरे कार्य से कानपुर देहात व कानपुर आउटर क्षेत्रों में गई थी। इससे अधिक कुछ भी नहीं है।- कमलेश दीक्षित, एसपी हमीरपुर