6 करोड़ PF खातों पर भारी नुकसान, EPFO ने ब्‍याज दर में की बड़ी कमी

Epfo ने ब्‍याज दर में बदलाव कर दिया है। (Pti)

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने इस बार बड़ा झटका दिया है। ईपीएफओ के केंद्रीय न्यासी बोर्ड ने 2021-22 के लिए 6 करोड़ EPF Accounts पर ब्‍याज दर घटा दी है। यह चार दशक में सबसे कम स्‍तर पर आ गई है।

नई दिल्‍ली, बिजनेस डेस्‍क। 6 करोड़ नौकरी पेशा वालों के लिए बुरी खबर है। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) ने होली से पहले इस बार बड़ा झटका दिया है। ईपीएफओ के केंद्रीय न्यासी बोर्ड ने 2021-22 के लिए पीएफ जमा (EPF Accounts) पर ब्‍याज दर घटा दी है। इसे घटाकर 8.10% ब्याज दर को मंजूरी दी गई है, जो चार दशकों में सबसे कम है। इसे फाइनेंस मिनिस्‍ट्री के पास मंजूरी के लिए भेजा जाएगा।

समाचार एजेंसी PTI ने कहा कि यह 1977-78 के बाद सबसे कम है, उस दौरान ईपीएफ पर ब्याज दर 8% हुआ करती थी। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन की निर्णय लेने वाली शीर्ष संस्था केंद्रीय न्यासी बोर्ड ने शनिवार को हुई अपनी बैठक में 2021-22 के लिए कर्मचारी भविष्य निधि (ईपीएफ) खाते पर 8.1% ब्याज दर देने का फैसला किया।

बता दें कि केंद्रीय न्यासी बोर्ड (CBT) ने बीते साल मार्च में 2020-21 के लिए ईपीएफ जमा पर 8.5% ब्याज दर तय की थी। अक्टूबर 2021 में वित्त मंत्रालय द्वारा इसकी मंजूरी दी गई और उसके बाद ईपीएफओ ने फील्ड कार्यालयों को 2020-21 के लिए ग्राहकों के खाते में ब्याज आय को 8.5% पर जमा करने के निर्देश दिए थे।

अब CBT के फैसले के बाद 2021-22 के लिए ईपीएफ जमा पर नई ब्याज दर वित्त मंत्रालय को सहमति के लिए भेजी जाएगी। EPFO सरकार द्वारा वित्त मंत्रालय के जरिए इसकी इजाजत मिलने के बाद ही ब्याज देता है। मार्च 2020 में EPFO ​​ने भविष्य निधि जमा पर ब्याज दर को 2018-19 के लिए 8.65% से घटाकर 8.5% किया था। 2019-20 के लिए ईपीएफ ब्याज दर 2012-13 के बाद सबसे कम थी, जब इसे घटाकर 8.5% कर दिया गया था।

ईपीएफओ ने 2016-17 में अपने सदस्‍यों को 8.65 फीसद और 2017-18 में 8.55 फीसद ब्याज दिया था। 2015-16 में ब्याज दर 8.8 प्रतिशत से थोड़ी अधिक थी। संगठन ने 2013-14 के साथ-साथ 2014-15 में भी 8.75 प्रतिशत ब्याज दिया था, जो 2012-13 के 8.5 प्रतिशत से अधिक है। 2011-12 में ब्याज दर 8.25% थी।