अरविंद केजरीवाल के उस नायक के बारे में, जिसकी मेहनत से AAP ने पंजाब में रच डाला इतिहास

 

जानिये- अरविंद केजरीवाल के उस नायक के बारे में, जिसकी मेहनत से आम आदमी पार्टी ने रच डाला इतिहास

पंजाब विधानसभा चुनाव 2022 में ऐतिहासिक जीत दर्ज करने वाली आम आदमी पार्टी की खूब तारीफ हो रही है। दरअसल इस जीत के सूत्रधार तो अरविंद केजरीवाल रहे लेकिन राघव चड्ढा ने चाणक्य की भूमिका अदा की है।

नई दिल्ली,  डिजिटल डेस्क। उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड समेत 5 राज्यों की सभी विधानसभा सीटों पर परिणाम घोषित हो गए हैं। यूपी, उत्तराखंड में तो आम आदमी पार्टी कुछ खास नहीं कर सकी, लेकिन पंजाब में ऐतिहासिक जीत दर्ज की है।  117 सीटों वाली पंजाब विधानसभा में आम आदमी पार्टी ने 92 सीटें हासिल करके इतिहास रच डाला है। इस तरह 92 सीटें लेकर अब तक के पंजाब विधानसभा चुनाव के इतिहास में सर्वाजिक सीटों के साथ रिकार्ड जीत दर्ज करने वाली एकमात्र राजनीतिक पार्टी बन गई है। पंजाब में आप की प्रचंड जीत से सारे सियासी समीकरण ध्‍वस्‍त हो गए। आइये हम बताते हैं कि पंजाब में इस ऐतिहासिक जीत के नायक राघव चड्डा के बारे में। 

वर्ष, 2019 में दक्षिण दिल्ली लोकसभा सीट से भारी अंतर से चुनाव हारने वाले आम आदमी पार्टी के दिग्गज नेता के बारे में किसी ने सोचा तक नहीं था कि वह पंजाब में जीत के सूत्रधार बनेंगे। फिलहाल AAP के राष्ट्रीय प्रवक्ता राघव चड्डा पर दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल जो भरोसा जताय वह उस पर 100 प्रतिशत खरा उतरे। इसके बाद नतीजा पूरी दुनिया देख रही है। अरविंद केजरीवाल को भरोसे में लेकर पंजाब के आम आदमी पार्टी के  स्थानीय नेताओं के साथ रणनीति बनाने वाले राघव चड्डा ने 117 में से 94 सीटें जिता दीं।

आम आदमी पार्टी में बढ़ा राघव चड्ढा का कद

पंजाब में ऐतिहिसाक जीत दिलाने वाले आम आदमी पार्टी राष्ट्रीय प्रवक्ता राघव चड्ढा का कद पार्टी में और बढ़ गया है। दिल्ली की राजेंद्र नगर सीट से विधायक के ऊपर कई महीने पहले ही पंजाब चुनाव को लेकर बड़ी जिम्मेदारी डाल दी गई थी। ऐसे में वह अक्सर पंजाब दौरे पर रहते थे। इस दौरान पंजाब में जीत की रणनीति बनाने के साथ टिकट बंटवारे में भी अप्रत्यक्ष रूप से बड़ी भूमिका अदा की।

भगवंत मान पर दांव लगाने का आइडिया राघव चड्ढा का था!

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने वर्ष 2020 में ही आम आदमी पार्टी की ओर से पंजाब प्रदेश का सह-प्रभारी बनाया था। सह-प्रभारी बनने के बाद से राघव चड्ढा पूरी तरह से पंजाब को समय दे रहे थे। बताया जा रहा है कि पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए भगवंत मान को सीएम का चेहरा घोषित कराने में भी  राघव चड्ढा की अहम भूमिका रही है।

2012 से ही जुड़े हैं अरविंद केजरीवाल से

अन्ना आंदोलन से प्रभावित होकर राघव चड्ढा सक्रिय हुए। इस दौरान आंदोलन के वक्त से ही वह अरविंद केजरीवाल के साथ रहे। पेश से वकील होने के चलते लोकपाल बिल ड्राफ्ट करने में भी राघव चड्ढा ने अहम भूमिका निभाई थी। इसके साथ पेशे से चार्टर्ड अकाउंटेंट चड्ढा पार्टी के सबसे युवा प्रवक्ता हैं और आम आदमी पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य भी हैं। 

2019 के लोकसभा चुनाव में भी किया था अच्छा प्रदर्शन

दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 में राजेंद्र नगर सीट पर आम आदमी पार्टी के नेता राघव चड्ढा ने दमदार जीत दर्ज की थी। वहीं, इससे पहले वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में दक्षिण दिल्ली संसदीय क्षेत्र से लोकसभा का चुनाव लड़ा था। इस लोकसभा चुनाव में उनका मुकाबला भाजपा के रमेश बिधूड़ी और कांग्रेस के बाक्सर प्रत्याशी विजेंदर सिंह से था। इस चुनाव में जीत तो रमेश बिधूड़ी की हुई थी थी, लेकिन राघव चड्ढा कड़ी टक्कर देते हुए दूसरे स्थान पर रहे थे।

यह भी जानें

  • अपनी बात मुखर होकर रखने वाले राघव चड्ढा के राजनीतिक सफर की शुरुआत 2012 में अरविंद केजरीवाल से मुलाकात के बाद शुरू हुई थी।
  • 2012 में राघव चड्ढा आम आदमी पार्टी की ड्राफ्टिंग कमेटी का हिस्सा रहे। इस दौरान अहम मुद्दों पर पार्टी का पक्ष भी रखा था।
  • राघव चड्ढा पार्टी के सबसे युवा राष्ट्रीय प्रवक्ता हैं।
  • वह आम आदमी पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य भी हैं।
  • राघव चड्ढा 2013 में AAP के घोषणापत्र का मसौदा तैयार करने वाली टीम का हिस्सा थे।
  • राघव चड्ढा AAP के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष के पद पर रह चुके हैं।
  • राघव एक चार्टर्ड अकाउंटेंट हैं।
  • राघव ने साल वर्ष 2016 में दिल्ली के बजट का मसौदा तैयार करने में उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के सहायक के पद पर भी काम किया था। हैरत की बात यह है कि सहायक के तौर पर काम करते हुए उन्होंने मात्र एक रुपये प्रतिमाह वेतन लिया था।
  • बताया जाता है कि राघव चड्ढा ने ने वित्तीय सलाहकार के तौर पर भी सेवाएं दी थी। वहीं, अप्रैल 2018 में केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा उनकी नियुक्ती रद्द कर दी गई। हालांकि, इसके बाद वो गृह मंत्रालय को अपना ढाई महीने का वेतन, 2.5 रुपये वापस करके सुर्खियों में आए थे।
  • राघव चड्ढा ने दिल्ली के माडर्न स्कूल से पढ़ाई की है।
  • उच्च शिक्षा की कड़ी में दिल्ली विश्वविद्यालय से बीकाम की डिग्री हासिल की है।
  • उच्च शिक्षा हासिल करने की कड़ी में लंदन स्कूल आफ इकोनामिक्स में एडमिशन लिया और यहां से वे चार्टर्ड अकाउंटेंट बनकर निकले।