रूस और यूरोपीयन यूनियन के बीच चली आखिरी Allegro Express Train, लोगों ने बताया अपना एक्‍सपीरियंस

 

रूस से फिनलैंड की राजधानी पहुंची आखिरी ट्रेन

यूक्रेन पर हमले के बाद रूस और फिनलैंड के बीच चलने वाली एलेग्रो एक्‍सप्रेस ट्रेन सर्विस को सस्‍पेंड कर दिया गया है। इसकी वजह से कई लोगों को समस्‍या होगी। वर्ष 2010 में इस सर्विस की शुरुआत हुई थी।

हेलेंस्‍की, फिनलैंड (एएफपी)। रविवार की शाम सात बजे रूस के सेंट पीट्सबर्ग से फिनलैंड की राजधानी हेलेंस्‍की के बीच आखिरी ट्रेन चली। रूस के यूक्रेन पर हमले के करीब एक माह के बाद रूस और यूरोपीयन यूनियन के बीच चलने वाली एलेग्रो एक्‍सप्रेस ट्रेन (Allegro express train) की सेवा को रोक दिया गया है। फिनिश रेलवे आपरेटर वीआर ने शुक्रवार को इसकी जानकारी देते हुए कहा था कि रूस के यूक्रेन पर हमले के बाद भी इस सेवा को चालू रखा गया था, लेकिन अब ऐसा कर पाना मुश्किल हो गया है। 

रतिबंधों के बाद भी जारी थी सेवा

आपरेटर वीआर की तरफ से कहा गया है कि पश्चिमी देशों द्वारा रूस पर कई प्रतिबंध लगाए गए, लेकिन इस सेवा को जारी रखा गया था, लेकिन अब इस सेवा को जारी रखना नामुमकिन हो गया है। इसलिए अब वापस जाने का कोई अर्थ नहीं रह गया है। उन्‍होंने यूक्रेन के समर्थन में कहा कि उनके हलावा हर चीज खासा मायने रखती है। वो अपने दो लंबे बालों वाले पालतू जानवरों को लेकर वापस लौट आए हैं। इस ट्रेन से अपनी मां के साथ हेलेंस्‍की आने वाले एक छात्र ने एएफपी से कहा कि रूस में हालात काफी मुश्किल हो गए हैं। वो यहां से पुर्तगाल जाएंगे, जहां वो अपनी ईस्‍टर की छुट्टियां बिताएंगे। कुछ सप्‍ताह के बाद उन्‍हें अपने एग्‍जाम के लिए वापस जाना होगा।

विवाद के जल्‍द खत्‍म होने की उम्‍मीद

इस छात्र ने अपने अनुभव के आधार पर कहा कि वो नहीं जानता है कि वो कैसे वापस जाएगा। उन्‍होंने उम्‍मीद जताई है कि जल्‍द ही इस युद्ध का समाधान हो जाएगा। एएफपी की खबर के मुताबिक, यूक्रेन के खिलाफ छेड़े गए युद्ध के बाद हजारों की संख्‍या में लोग रूस छोड़ चुके हैं, लेकिन इसकी कोई आधिकारिक संख्‍या अब तक सामने नहीं आई है। एयर ट्रैवल पर लगी रोक के बाद लोगों ने रूस छोड़ने के लिए लंबे रास्‍तों से भी परहेज नहीं किया है। कई लोग तुर्की और बेलग्रेड के रास्‍ते रेल और रोड़ से भी लोग दूसरे देशों में गए हैं।  

हजारों लोगों ने छोड़ा रूस

बता दें कि 24 फरवरी को रूस ने यूक्रेन पर हमले की शुरुआत की थी। इसके बाद से अब तक करीब 700 यात्री फिनलैंड जाने वाली ट्रेन के जरिए रूस से बाहर गए है। फिनलैंड की एक अपील के बाद ही ये सेवा अब तक चालू थी। फिनलैंड ने अपने लोगों को रूस से बाहर लाने के मकसद से भी इसको जारी रखे हुए था। फिनलैंड का कहना था कि उसके वो नाग‍रिक जो आना चाहते हैं, वो इससे आ सकते हैं। एक जानकारी में कहा गया है कि अब रूस और फिनलैंड के बीच की ये सेवा सोमवार से बंद की जा रही है। इसकी वजह यूक्रेन पर रूस के हमले तेज करना है।   

बेहतर संबंधों को दर्शाती थी ये ट्रेन 

आपको बता दें कि एलेग्रो एक्‍सप्रेस ट्रेन देानों देशों के सहयोग के नतीजे से ही चल रही थी। इसके अलावा ये दोनों ही देशों के आपसी संबंधों को भी दर्शाती थी। इसको फिनलैंड और रूस के नेशनल हाईवे के जरिए चलाया जा रहा था। इसकी शुरुआत वर्ष 2010 में हुई थी। इसके उद्घाटन के मौके पर रूस के राष्‍ट्रपति व्‍लादिमीर पुतिन और फिनलैंड के प्रमुख मौजूद थे। इन दोनों ने ही इसमें सफर किया था। इस ट्रेन की वजह से दोनों देश के बीच दूरी कम होने के साथ-साथ यात्रा का समय भी कम हो गया था।

तलाशने होंगे दूसरे रास्‍ते 

सेंट पीट्सबर्ग में रहने वाली आलिया ने भी उम्‍मीद जताई कि ये जल्‍द ही दोबारा शुरू हो जाएगा। आलिया हेलेंस्‍की में जाब करती हैं और अक्‍सर इस ट्रेन से अपने परिजनों से मिलने सेंट पीट्सबर्ग आती रहती हैं।  उन्‍होंने कहा कि इस ट्रेन के रुक जाने से कई लोगों को काफी मुश्किल हो जाएगी। लोगों को अपने लोगों के पास आने या मिलने के लिए दूसरे रास्‍ते तलाशने होंगे।