संसद में स्वास्थ्य राज्य मंत्री ने कहा, कोवैक्सीन की बूस्टर डोज से बढ़ती है एंटीबाडी

 

राज्यसभा में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री भारती प्रवीण प्रवार।

सरकार ने मंगलवार को बताया कि भारतीय चिकित्सा एवं अनुसंधान परिषद (आइसीएमआर) के एक अध्ययन में पता चला है कि कोरोना रोधी टीके कोवैक्सीन की बूस्टर डोज लेने के बाद सार्स-सीओवी-2 के खिलाफ एंटीबाडी का स्तर बढ़ जाता है।

नई दिल्ली, प्रेट्र। सरकार ने मंगलवार को बताया कि भारतीय चिकित्सा एवं अनुसंधान परिषद (आइसीएमआर) के एक अध्ययन में पता चला है कि कोरोना रोधी टीके कोवैक्सीन की बूस्टर डोज लेने के बाद सार्स-सीओवी-2 के खिलाफ एंटीबाडी का स्तर बढ़ जाता है।

कोविशील्ड से एंटीबाडी में तीन से चार गुना वृद्धि के आंकड़े

स्वाास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री भारती प्रवीण प्रवार ने यह जानकारी देते हुए राज्यसभा को बताया कि यह अध्ययन कोवैक्सीन टीके की बूस्टर डोज के प्रभाव का पता लगाने के लिए किया गया था। उन्होंने एक प्रश्न के लिखित उत्तर में बताया कि एस्ट्राजेनेका एवं कोविशील्ड टीकों की बूस्टर खुराक के उपलब्ध अंतरराष्ट्रीय आंकड़े बताते हैं कि इसे लेने के बाद एंटीबाडी के स्तर में तीन से चार गुना वृद्धि होती है।

भारती पवार ने बताया कि टीकाकरण पर राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह (एनटागी) की सिफारिश के बाद इस साल 10 जनवरी से स्वास्थ्य कर्मियों, अग्रिम मोर्चे के कर्मियों तथा 60 साल से अधिक उम्र के लोगों को कोविड रोधी टीके की सतर्कता डोज दी जा रही है।

डब्ल्यूएचओ के मुताबिक भारत में कोरोना से प्रति 10 लाख आबादी पर सबसे कम 374 मौतें

भारती पवार ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा कि भारत में कोरोना संक्रमण के चलते प्रति 10 की आबादी पर 374 लोगों की जान गई है जो इस महामारी से भारत की तरह प्रभावित अमेरिका, ब्राजील, रूस और मेक्सिको जैसे देशों की तुलना में सबसे कम है। अमेरिका में प्रति 10 लाख आबादी पर 2,920, ब्राजील में 3,092, रूस में 2,506 और मेक्सिको में 2,498 मौतें हुई हैं। उन्होंने यह भी कहा कि कई बार कोरोना से आधिकारिक मौतों के आंकड़ों से ज्यादा मौतों की खबरें आई हैं, लेकिन उनका आकलन मान्य पद्धतियों के आधार पर नहीं किया गया, जिससे उन पर यकीन नहीं किया जा सकता है।

मिश्रित कोरोना वैक्सीन के लिए और आंकड़ों की आवश्यकता

भारती पवार ने कहा कि कोरोना रोधी वैक्सीन के मिश्रण की सिफारिश करने के लिए एनटागी को और अधिक आंकड़ों की जरूरत है। केंद्रीय दवा मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) ने वेल्लोर स्थित क्रिश्चियन मेडिकल कालेज को कोविशील्ड और कोवैक्सीन वैक्सीन के मिश्रण के प्रभाव का आकलन करने की अनुमति दी है। इसके संबंध में अभी पर्याप्त आंकड़ें नहीं मिले हैं। समुचित आंकड़े मिलने पर मिश्रित वैक्सीन पर कोई फैसला लिया जाएगा।