डिजिटल हुई पीएम मोदी की प्रेरक जिंदगी, ‘मोदीस्टोरी.इन’ वेबसाइट प्रधानमंत्री के जीवन के अनछुए पहलुओं से कराएगी परिचय

 

पीएम के जीवन के अनछुए पहलुओं से कराएगी परिचय वेबसाइट

मोदी स्टोरी वेबसाइट पीएम नरेन्द्र मोदी के जीवन के अनछुए पहलुओं से परिचय कराएगी। स्वयंसेवकों की पहल पर शुरू हुई वेबसाइट में पीएम से जुड़े खास लोगों के अनुभवों और यादों का संकलन किया गया है। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पोती सुमित्रा गांधी कुलकर्णी ने वेबसाइट को लांच किया है।

नई दिल्ली, एएनआइ: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्रेरक जिंदगी के बारे में जानने के लिए अब आपको उनके ऊपर लिखी पुस्तकों के पन्ने पलटने की जरूरत नहीं है। सिर्फ एक क्लिक से आप उनके जीवन के अनछुए पहलुओं से परिचित हो सकेंगे। स्वयंसेवकों की पहल पर 'मोदी स्टोरी' नामक वेबसाइट शुरू की गई है। वेबसाइट में प्रधानमंत्री के जीवन को करीब से देखने वालों के अनुभवों और यादों का संकलन है।

पीएम मोदी से जुड़ी यादें साझा करने का आग्रह

समाचार एजेंसी प्रेट्र के मुताबिक, राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पोती सुमित्रा गांधी कुलकर्णी ने शनिवार को यह वेबसाइट लांच की। वेबसाइट ने लोगों से आग्रह किया है कि अगर उनके पास प्रधानमंत्री मोदी से जुड़ी व्यक्तिगत यादें, राइट-अप, आडियो या विजुअल रूप में किस्से-कहानियां, फोटो या पत्र हों तो उसे साझा कर सकते हैं।

स्मृति इरानी और अनुराग ठाकुर ने किया ट्वीट

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति इरानी ने अपने ट्विटर हैंडल पर इस वेबसाइट (मोदीस्टोरी.इन) को साझा करते हुए लिखा, 'धैर्य और अनुग्रह की कहानियां, व्यक्तिगत मुलाकातों की जादुई यादें, एक मिलनसार व्यक्तित्व, एक निर्णायक राजनीतिक व्यक्तित्व को दर्शाती बातचीत, अब तक अनकही, अनसुनी कहानियां। 'केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने वेबसाइट को साझा करते हुए ट्वीट किया, 'एक स्वयंसेवी समूह द्वारा अनूठी पहल को देखें! पीएम नरेन्द्र मोदी जी की यात्रा और सार्वजनिक जीवन में कार्य की दिलचस्प कहानियां और किस्से।'

जिस घटना ने पीएम मोदी की जिंदगी बदल दी

गुजरात के रहने वाले डा. अनिल रावल ने 1980 के आसपास मोदी द्वारा उनके साथ यात्रा के दौरान सुनाई गई एक दिल दहला देने वाली कहानी साझा की है। डा. रावल ने पीएम मोदी से पूछा था, 'आखिर में खड़े व्यक्ति के उत्थान के लिए आपकी क्या प्रतिबद्धता है?' इस पर उन्होंने एक घटना को याद किया जब वह एक स्वयंसेवक के घर गए थे और वहां दोपहर का भोजन किया था। पीएम मोदी को कोट करते हुए डा. रावल ने कहा, 'स्वयंसेवक अपनी पत्नी और बच्चे के साथ एक झुग्गी में रहते थे। एक थाली में उन्होंने मुझे बाजरे की आधी रोटी और छोटी कटोरी में दूध परोसा। उनका बच्चा अपनी मां की गोद में बैठा था और उसकी नजर मेरी थाली में दूध की कटोरी पर थी। मैंने पानी के साथ आधी रोटी खाई और दूध छोड़ दिया। मां ने दूध की कटोरी बच्चे को दी तो वह एक ही सांस में पूरा दूध पी गया। मेरी आंखों में आंसू आ गए। तभी मैंने आखिरी व्यक्ति के उत्थान के लिए अपनी जिंदगी जीने का फैसला किया।'

आपातकाल के दौरान 'सरदारजी' का रूप धरा

इसी तरह गुजरात के ही रहने वाले रोहित अग्रवाल ने बताया कि किस तरह पीएम मोदी ने आपातकाल के दौरान 'सरदारजी' (सिख) का वेष धारण कर लिया था और पुलिस के हाथों आने से बाल-बाल बचे थे।

चुनाव प्रचार के दौरान बच्चों के लिए टाफी लेकर जाने की सलाह

प्रेट्र के मुताबिक, पंजाब के रहने वाले भाजपा नेता मनोरंजन कालिया ने बताया कि पीएम मोदी चुनाव प्रचार के दौरान बच्चों के लिए टाफी लेकर जाने की सलाह देते थे। मोदी ने अपने राजनीतिक करियर के शुरुआती दिनों में पंजाब में बहुत अधिक समय तक काम किया था। स्कूल के प्रिंसिपल से लेकर ओलिंपिक विजेता तक की यादें इसी तरह इस वेबसाइट में पीएम मोदी से जुडीं तमाम लोगों की यादों और अनुभवों को संकलित किया गया है। इनमें गुजरात के वडनगर स्थित जिस स्कूल में मोदी पढ़े थे उसके प्रिंसिपल रासबिहारी मनियार, 1990 के आसपास यात्रा के दौरान अक्सर जिनके घर में ठहरते थे वह शारदा प्रजापति, ओलिंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाले नीरज चोपड़ा, बैडमिंटन खिलाड़ी पुलेला गोपीचंद शामिल हैं।