चार चरण के मतदान वाले जिलों के मतदाता प्रथम श्रेणी में पास, चरण आगे बढ़ने के साथ कम हुआ वोटर्स का रुझान

 

UP Vidhan Sabha Chunav 2022: उत्तर प्रदेश में 18वीं विधानसभा के गठन

UP Vidhan Sabha Election 2022 उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव 2022 में पहले चार चरण के मतदान के दौरान तो मतदाता काफी उत्साहित रहे लेकिन बाद के दो चरण यानी पांचवें तथा छठे चरण में मतदान का प्रतिशत 60 के नीचे आ गया।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में 18वीं विधानसभा के गठन के लिए केन्द्र तथा राज्य निर्वाचन आयोग के तमाम जतन के बाद भी अपेक्षित मतदान नहीं हो पा रहा है। प्रदेश में सात चरणों में से छह चरण यानी 66 जिलों में मतदान हो गया है। अब सात मार्च को सातवें चरण के मतदान का इंतजार है।

छह में से चार चरण के मतदान वाले जिले तो प्रथम श्रेणी में पास हो गए यानी मतदान का प्रतिशत 60 के ऊपर रहा, लेकिन पांचवें तथा छठे चरण में मतदान का प्रतिशत गिर गया। पांचवेंं चरण में 12 तथा छठे चरण में दस जिलों में मतदान हुआ था। सात मार्च को नौ जिलों के 54 विधानसभा क्षेत्र में मतदान होना है।

प्रदेश में पहले के विधानसभा चुनावों की अपेक्षा इस बार कम समय के अंतराल पर मतदान होने से नेताओं तथा राजनीतिक दलों को जोरदार मेहनत करनी पड़ी। इस बार तो पहले चरण का मतदान होने के समय तक राजनीतिक दल अपने प्रत्याशियों की लिस्ट जारी करते रहे।

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में सात चरण के मतदान के दौरान लगता है कि पहले चार चरण में तो वोटर काफी उत्साहित थे, लेकिन बाद के दो में वह सुस्त पडऩे लगे। पहले चरण में 11 जिलों, दूसरे में नौ, तीसरे में 16, चौथे में नौ, पांचवें में 12 तथा छठे में दस जिलों में मतदान के दौरान सुबह के सत्र में वोटर भले ही सुस्त थे, लेकिन दिन चढ़ने के साथ ही उनमें भी उत्साह दिखा।

jagran

चरण वार मतदान का ब्यौरा

पहला चरण में 60.17 प्रतिशत मतदान : विधान सभा चुनाव के पहले चरण में 11 जिलों की 58 सीटों के लिए दस फरवरी को हुए मतदान में कुल 60.17 प्रतिशत वोट पड़े। वर्ष 2017 के चुनाव में इन सीटों पर कुल 63.47 प्रतिशत मतदान हुआ था। पिछले चुनाव से इस बार करीब 3.3 प्रतिशत मतदान कम हुआ। इस चरण में शामली, मुजफ्फरनगर, मेरठ, बागपत, हापुड़, बुलंदशहर, अलीगढ़, मथुरा, आगरा, गौतम बुद्ध नगर तथा गाजियाबाद में मतदान हुआ। सर्वाधिक 69.42 प्रतिशत मतदान शामली जिले में हुआ। 11 में से नौ जिले शामली, मुजफ्फरनगर, मेरठ, बागपत, हापुड़, बुलंदशहर, अलीगढ़, मथुरा व आगरा फस्र्ट डिवीजन में पास हुए हैं। यहां 60 प्रतिशत से अधिक मतदान हुआ है। सबसे कम 54.77 प्रतिशत मतदान गाजियाबाद व 56.73 प्रतिशत गौतम बुद्ध नगर में हुआ। मतदाताओं ने 73 महिला प्रत्याशियों सहित कुल 623 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला ईवीएम में बंद कर दिया।

दूसरे चरण में 64.42 प्रतिशत वोटिंग : दूसरे चरण का मतदान 14 फरवरी को हो गया। इसमें नौ जिलों की 55 सीटों पर 64.42 प्रतिशत मतदान हुआ। वर्ष 2017 के चुनाव में इन सीटों पर कुल 65.53 प्रतिशत वोट पड़े थे। दूसरे चरण में सहारनपुर, बिजनौर, मुरादाबाद, संभल, अमरोहा, रामपुर, बदायूं, बरेली और शाहजहांपुर जिलों में मतदान हुआ। इस चरण में सर्वाधिक 72 प्रतिशत से अधिक मतदान अमरोहा जिले में हुआ। विधान सभा सीटों में सबसे अधिक 75.78 प्रतिशत मतदान सहारनपुर की बेहट में हुआ। यहां की नकुड़ में भी 75.50 प्रतिशत मत पड़े। अमरोहा की नौगावां सादात में 74.17 प्रतिशत व हसनपुर में 73.58 प्रतिशत वोट पड़े। छिटपुट शिकायतों को छोड़कर मतदान पूरी तरह शांति रहा।

तीसरे चरण में 61.61 प्रतिशत मतदान : तीसरे चरण में 20 फरवरी को 16 जिलों की 59 सीटों पर 61.61 प्रतिशत वोट पड़े। 2017 विधानसभा चुनाव में इसी क्षेत्र में 62.21 प्रतिशत मतदान हुआ था। तीसरे चरण में हाथरस, फिरोजाबाद, कासगंज, एटा, मैनपुरी, फर्रुखाबाद, कन्नौज, इटावा, औरैया, कानपुर देहात, कानपुर नगर, जालौन, झांसी, हमीरपुर, ललितपुर और महोबा जिलों में मतदान हुआ। झड़प और मारपीट की छिटपुट घटनाओं के बीच मतदान शांतिपूर्वक हुआ। मतदान खत्म होने के साथ ही इस चरण के 627 प्रत्याशियों का भाग्य इलेक्ट्रानिक वोङ्क्षटग मशीन (ईवीएम) में कैद हो गया। इस चरण में सबसे ज्यादा 69.61 प्रतिशत मतदान ललितपुर जिले में हुआ। कानपुर नगर में सबसे कम 56.14 प्रतिशत वोङ्क्षटग हुई। 2017 में हुए विधान सभा चुनाव में भाजपा को इन जिलों में 49, सपा को आठ और बसपा व कांग्रेस को एक-एक सीटें मिली थीं।

jagran

चौथे चरण में 61.65 प्रतिशत मतदान : विधान सभा चुनाव के चौथे चरण में नौ जिलों की 59 सीटों के लिए 23 फरवरी को 61.65 प्रतिशत वोट डाले गए। चौथे चरण में पीलीभीत, लखीमपुर खीरी, सीतापुर, हरदोई, उन्नाव, लखनऊ, रायबरेली, बांदा व फतेहपुर जिले में मतदान हुआ। सबसे अधिक मतदान पीलीभीत व लखीमपुर खीरी जिले में 67 प्रतिशत से अधिक हुआ। सबसे कम वोट उन्नाव जिले में 57.73 प्रतिशत पड़े हैं। वर्ष 2017 के चुनाव में इन सीटों पर कुल 62.55 प्रतिशत मतदान हुआ था। इस बार के चुनाव में सर्वाधिक 71 प्रतिशत मतदान पीलीभीत की बरखेड़ा में हुआ है। खीरी की निघासन में 69.39 प्रतिशत व सबसे कम 52.60 प्रतिशत वोट सीतापुर विधानसभा सीट पर पड़े हैं। छिटपुट शिकायतों को छोड़कर मतदान शांति पूर्ण रहा। इसके साथ ही 91 महिला सहित 624 प्रत्याशियों की किस्मत ईवीएम में बंद हो गई है।

पांचवें चरण में 57.32 प्रतिशत मतदान: पांचवें चरण में 27 फरवरी को 12 जिलों की 61 सीटों पर 57.32 प्रतिशत मतदान हुआ। इस चरण में अमेठी, सुलतानपुर, चित्रकूट, प्रतापगढ़, कौशांबी, प्रयागराज, बाराबंकी, अयोध्या, बहराइच, श्रावस्ती, गोंडा की सभी और रायबरेली की सिर्फ एक सलोन सीट पर मतदान हुआ। वर्ष 2017 में हुए विधान सभा चुनाव में 58.24 प्रतिशत मतदान हुआ था। सबसे ज्यादा 66.94 प्रतिशत वोट बाराबंकी में पड़े और सबसे कम 52.65 प्रतिशत मत प्रतापगढ़ में पड़े। पांचवें चरण में सिराथू से उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य समेत छह मंत्री मैदान में थे। इन सभी के साथ सहित 693 उम्मीदवारों की किस्मत ईवीएम में कैद हो गईं। इस चरण में 90 महिलाएं मैदान में थी।

छठे चरण में 55.70 प्रतिशत वोटिंग : विधान सभा चुनाव के छठे चरण में 10 जिलों की 57 सीटों के लिए तीन मार्च को 55.70 प्रतिशत वोट डाले गए। छठे चरण में गोरखपुर, अंबेडकरनगर, बलरामपुर, सिद्धार्थनगर, बस्ती, संत कबीर नगर, महराजगंज, कुशीनगर, देवरिया व बलिया जिले में मतदान हुआ। वर्ष 2017 के चुनाव में इन 57 सीटों पर कुल 56.52 प्रतिशत वोट पड़े थे। अंबेडकरनगर जिले में सबसे अधिक 62.22 प्रतिशत मतदान हुआ। बलरामपुर जिला वोट डालने के मामले में सबसे फिसड्डी साबित हुआ। यहां 49.64 प्रतिशत मतदान हुआ। विधान सभा वार सबसे अधिक मतदान अंबेडकरनगर के अकबरपुर में 63.25 व बलिया के बैरिया में सबसे कम 47.50 प्रतिशत रहा। छिटपुट शिकायतों को छोड़कर मतदान शांति पूर्ण रहा। इसके साथ ही 66 महिला सहित 676 प्रत्याशियों की किस्मत ईवीएम में बंद हो गई है। इस बार मतदान के मामले में अंबेडकरनगर जिले की सभी विधान सभा सीटें फस्र्ट डिवीजन में पास हुईं हैं। अकबरपुर में 63.25, कटेहरी में 63, जलालपुर में 62.67, टांडा में 62 व आलापुर में 60 प्रतिशत मतदान हुआ। बलरामपुर के उतरौला में 47.94, बलरामपुर सदर में 48.12, गैंसड़ी में 52 व तुलसीपुर में 51 प्रतिशत मतदान हुआ है। बलिया के बैरिया में 47.50 व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की विधान सभा में गोरखपुर शहर में 55.20 प्रतिशत व नेता प्रतिपक्ष राम गोविंद चौधरी की बलिया स्थित बांसडीह विधान सभा में 53.08 प्रतिशत वोट पड़े। गोरखपुर की पिपराइच में 62.87, सहजनवा में 61.46 व बांसगांव में 49.10 प्रतिशत मतदान हुआ। महाराजगंज में 60.67, पनियरा में 60.52, सिसवा में 60.35 प्रतिशत वोट पड़े।